ENGLISH HINDI Tuesday, October 15, 2019
Follow us on
 
चंडीगढ़

कूरियर हो गया गुम, अब डीटीडीसी कुरियर कंपनी भरेगा 36070/- रुपया

May 06, 2019 03:53 PM

चंडीगढ़, संजय मिश्रा:
चंडीगढ़ से पुणे के लिए भेजा गया कुरियर रास्ते में गुम हो गया, चंडीगढ़ उपभोक्ता मंच ने डीटीडीसी कुरियर कंपनी को कुरियर किए गए सामान की कीमत रुपया 20670/- के सहित 15000 रुपया जुर्माना भरने का आदेश दिया है।
शिकायतकर्ता मोहाली निवासी विजय कालरा ने डीटीडीसी कुरियर के मार्फत 2 जुलाई 2018 को पुणे में अपने एक रिश्तेदार को दवाई भेजी। कुरियर कंपनी ने बुकिंग नंबर Z65020828 जारी करते हुए शिकायतकर्ता से एक्सप्रेस कूरियर के नाम पर रुपया 400 का चार्ज वसूला। लेकिन यह कुरियर रास्ते में कहीं गुम हो गई और वितरित नहीं हो पाई। कुरियर कंपनी ने इस गुमशुद्गी के लिए शिकायतकर्ता को 400 रुपए लौटाने का ऑफर तो दिया लेकिन कूरियर द्वारा भेजी गई दवाई की कीमत रुपया 20670/- देने से साफ इंकार कर दिया।
मामला चंडीगढ़ के उपभोक्ता मंच के समक्ष लाया गया जहां शिकायतकर्ता ने कुरियर कंपनी से दवाई की कीमत रुपया 20670/- एवं 400 रुपया बुकिंग खर्च के साथ मानसिक परेशानी एवं यातना के लिए हरजाने की प्रार्थना की, वहीं दूसरी ओर डीटीडीसी कुरियर ने शिकायतकर्ता के इस दावे को नकारते हुए कूरियर की रसीद मे छपी शर्तों के मुताबिक 100 रुपया हरजाना देने की बात कही।
दोनों पक्षों के सुनने के बाद परिवाद संख्या 468 ऑफ 2018 को निपटाते हुए फोरम ने कहा कि, ये बात सही और दोनों पक्षों द्वारा मान्य है कि चंडीगढ़ से पुणे डीटीडीसी कुरियर के मार्फत उपरोक्त प्राप्ति रसीद रुपया 400 के तहत कूरियर भेजी गई जो की वितरित नहीं हो पाई और रास्ते में ही गुम हो गई जिससे शिकायतकर्ता का 20670/- रुपए नुकसान हुआ और 400 रुपए भेजने के खर्च का अलग से नुकसान हुआ। जहां तक रसीद में छपे हुए शर्त के मुताबिक 100 रुपए की भरपाई की बात है तो फोरम इससे सहमत नहीं है, एक तो इस रसीद पर शिकायतकर्ता ने हस्ताक्षर नहीं किए है जिससे वो इस शर्तो के बंधन से बंधा हुआ नहीं कहा जा सकता, दूसरे उपरोक्त शर्त की छपाई इतनी छोटी है की आम आदमी इसे आसानी से पढ़ ही नहीं सकता जो की एक अनुचित व्यापार व्यवहार की श्रेणी में आता है। इसके अलावा शिकायतकर्ता की शिकायत पर डीटीडीसी कुरियर कंपनी ने इस गुमसुदगी की कोई पड़ताल भी नहीं कराई, उपरोक्त के आलोक में फोरम ने शिकायत को सही करार देते हुए डीटीडीसी कुरियर कंपनी को सेवा मे कमी का दोषी पाया और आदेश दिया कि कूरियर कंपनी कूरियर से भेजे गए दवाई की कीमत (बीजक के अनुसार) रुपया 20670/- शिकायतकर्ता को दे, इसके अलावा कूरियर खर्च के 400/- रुपए भी लौटाए एवं 7500 रुपया मानसिक परेशानी एवं 7500 रुपया मुकदमा खर्च के रूप मे अलग से शिकायतकर्ता को दे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
चीफ़ जस्टिस ने जस्टिस श्री पुल्लगोरू को हाई कोर्ट के जज की शपथ दिलाई 25 महिलाओं सहित 178 निरंकारी श्रद्धालुओं ने किया रक्तदान साईं मंदिर के गल्लों में से निकली 13 हज़ार की पुरानी करंसी आने वाला समय आयुर्वेदिक चिकित्सा का : डॉ. नरेश मित्तल भगवान वाल्मीकि के प्रकटोत्सव अवसर पर निकाली शोभायात्रा: दिया प्लास्टिक फ्री इंडिया का सन्देश आरोप प्रत्यारोपों के बीच मसीही समाज उतरा पास्टर के समर्थन में, निकाला प्रार्थना मार्च आईसीआईसीआई बैंक ने किया कॉइन मेला का आयोजन महात्मा गांधी जयंती को समर्पित मेगा मल्टी-मीडिया प्रदर्शनी प्लाजा 17 में अग्रवाल सभा ने लगाया 22वां रक्तदान शिविर : 67 रक्त यूनिट एकत्रित विद्यार्थियों ने चलाया प्लास्टिक विरोधी जागरूकता अभियान