ENGLISH HINDI Wednesday, July 15, 2020
Follow us on
 
व्यापार

शिमला में तीसरी एचसीएल ग्रांट पैन-इंडिया सिंपोज़ियम ‘सीएसआर फार नेशन बिल्डिंग 2019’ का आयोजन

May 12, 2019 06:00 PM

शिमला( विजयेन्दर शर्मा)।

एचसीएल टेक्नालाजीज़ के सीएसआर अंग, एचसीएल फाउंडेशन नेआज शिमला की हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी में अपनी वार्षिक ‘‘एचसीएल ग्रांट सीएसआर सिंपोज़ियम’केतीसरे संस्करण का आयोजन किया। इसका उद्देश्य हिमाचल प्रदेश और आसपास काम करने वालीएनजीओ का क्षमता निर्माण करना था। दिन भर चली यह ईवेंट एचसीएलएफ द्वारा भारत में आयोजितसिंपोज़ियम्स की श्रृंखला का हिस्सा थी। इसमें स्थानीय एनजीओ प्रतिनिधियों और सिविल सोसायटी विशेषज्ञों के साथ एक पैनल वार्ता शामिल थी।

इस वार्ता का विषय, ‘‘एक्सप्लोरिंग द इंटरफेस आफसीएसआर विद 5 पी आफ द सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स - पीपुल, प्लैनेट, प्रास्परिटी, पीस, एण्डपार्टनरशिप विद रिफरेंस टू द थीमेटिक एरियाज़ आफ एचसीएल ग्रांट, दैट आर एनवायरनमेंट, हैल्थ एण्डएजुकेशन’(एचसीएल ग्रांट के विषयात्मक क्षेत्र, जैसे पर्यावरण, स्वास्थ्य एवं शिक्षा के संदर्भ में सततविकास के लक्ष्यों के पांच तत्व, लोग, गृह, संपन्नता, शांति एवं साझेदारी के साथ सीएसआर के संबंध कीखोज) था। इस ईवेंट में इस क्षेत्र के अनेक हिस्सों का प्रतिनिधित्व करने वाले 60 से ज्यादा एनजीओ नेहिस्सा लिया।

हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी के कुलपति, प्रोफेसर सिकंदर कुमार मुख्य अतिथि के रूप में समारोह में शामिलहुए और उन्होंने स्वागत भाषण दिया। पैनल का संबोधन प्रतिष्ठित वक्ताओं जैसे डा. एसएस भारद्वाज,ज्वाइंट डायरेक्टर (रिटायर्ड); डा. वाईएस परमार यूनिवर्सिटी आफ हार्टिकल्चर एण्ड फारेस्ट्री, सोलान;आशीष कोहली- एजुकेशन, स्टेट प्रोजेक्ट डायरेक्टर- एलिमेंट्री एजुकेशन एवं डायरेक्टर, सर्व शिक्षाअभियान, हिमाचल प्रदेश और डा. रमेश चंद- डिप्टी डायरेक्टर, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, शिमला नेकिया। श्री निखिल पंत, मैनेजिंग पार्टनर शक्तिशी ने पैनल का संचालन किया।

मिस निधि पुंधीर, डायरेक्टर - एचसीएल फाउंडेशन ने बताया कि एचसीएल ग्रांट पैन-इंडिया सिंपोज़ियमएचसीएल फाउंडेशन का अभियान है, जो भारत में एनजीओ, सरकार, कार्पोरेट्स एवं पालिसी मेकर्स को एकमंच पर लाता है, ताकि वो कार्पोरेट सोशल रिस्पान्सिबिलिटी (सीएसआर) के बारे में वार्ता कर सकें औरक्षेत्रीय एवं सेक्टोरल समझ विकसित कर सकें तथा इस बारे में विचार विमर्श कर सकें कि इससेराष्ट्रनिर्माण में क्या योगदान मिलेगा। पिछले 2 सालों में 24 शहरों में सिंपोज़ियम आयोजित हो चुके हैं।

सिंपोज़ियम में अनेक सत्र शामिल थे, जिसमें विशेषज्ञों ने सेक्शन 135 के भावार्थ जैसे विषयों पर अपनेअनुभव और जानकारी साझा किए तथा भारत में बदलते सीएसआर परिदृश्य के बारे में बताया; डेवलपमेंटसेक्टर के समाधानों के लिए डिज़ाईन थिंकिंग पर भी चर्चा हुई।सिंपोज़ियम में ‘पावर आफ फिफ्थ इस्टेट’परभी सत्र का आयोजन किया गया, जिसमें एचसीएल ग्रांट प्राप्तकर्ताओं ने अपने अनुभव बताए और बतायाकि एचसीएल ग्रांट ने उन्हें अपेक्षित परिवर्तन लाने में किस प्रकार सहायता की।

एचसीएल फाउंडेशन ने शिमला में पहली बार सिंपोज़ियम का आयोजन किया है। इस कार्यशाला द्वाराएचसीएल फाउंडेशन ने स्थानीय क्षेत्र के विकास, प्रस्ताव लेखन और प्रोजेक्ट मैनेजमेंट में सीएसआर मैंडेट,चुनौतियों एवं अवसरों पर एनजीओ से बात की तथा उन्हें एचसीएल ग्रांट 2019-20 में आवेदन करने के लिएप्रोत्साहित किया। हिमाचल प्रदेश में अनेक अच्छी एनजीओ शिक्षा, स्वास्थ्य एवं पर्यावरण के क्षेत्र में कामकर रही हैं, इसलिए फाउंडेशन को उम्मीद है कि यहां पर सिंपोज़ियम इस क्षेत्र में काम करने वाली एनजीओको लाभान्वित करेगी। 

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और व्यापार ख़बरें
एम.ई.टी.एल क्षेत्र में जापानी कंपनी टीसुजुकी का बड़ा निवेश विप्रो ने लान्च किया सेफवाश एंटी-जर्म लिक्विड डिटरजैंट कोविड 19 के कहर के बीच लॉंच किया होम्योपैथिक सेनेटाइजर "बलिस 99" द टॉप थाई ब्रांड्स 2020 का चंडीगढ़ के हिमाचल भवन में हुआ उद्घाटन उषा ने दो नये इंडक्शन कुकटॉप्स लांच किए एनर जेईई अकैडमी की सकारात्मक पहल, गरीब बच्चों को मिलेगी फ्री कोचिंग ट्राईसिटी में घर बैठे राशन पंहुचायेगा जीवाला डॉट.इन ग्रॉसरी स्टोर माइंड, बॉडी और स्किन के लिए नैचुरल पेय औरिक स्मार्ट बनायेगा चंडीगढ़ वासियो को न्यू चंडीगढ़ में ओमैक्स पहला हाइपर-हाइब्रिड बिजनेस पार्क बनायेगा एसएमई दिवस पर अपने लघु एवं कुटीर उद्योग को दें नई उचाइयां