ENGLISH HINDI Sunday, December 08, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
जागरूक निवेशक को अधिक आर्थिक रिटर्न होगा :निशान श्रीवास्तवफरएवर फ्रेंड्स संस्था ने उठाया नयागांव पशु क्रूरता का मुद्दापॉस्को एक्ट के तहत होने वाली घटनाओं के दोषियों को दया याचिका के अधिकार से वंचित किया जाए: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंदसीएमओ दफ़्तर का इंस्पेक्टर और वाहन चालक रिश्वत लेते रंगे हाथ काबू, मिलीभगत में शामिल डीएचओ फरार।मोहाली को विश्व का पहला स्टार्टअप केंद्र बनाने की वकालत कीयुवक को अज्ञात लोगों ने अगवा कर अधमरा कर रेलवे लाइनों के फैंकापुलिस ने सुलझाई अंधे कत्ल की गुत्थीजीएम के आगमन के चलते दुल्हन की तरह सजा रेलवे स्टेशन पेश कर रहा मेट्रो स्टेशन का नजारा
धर्म

अपने परिवेश को स्वच्छ रखना नैतिक जिम्मेदारी

May 21, 2019 09:53 PM

ऋषिकेश (ओम रतूड़ी) परमार्थ निकेतन गंगा तट पर आज राष्ट्र, पर्यावरण एवं जल संरक्षण, माँ गंगा सहित देश की सभी नदियों को समर्पित मानस कथा में मेयर ऋषिकेश अनीता ममगाई ने सहभाग किया। प्रख्यात मानस कथाकार मुरलीधर महाराज के मुखारबिन्द से माँ गंगा के साथ-साथ मानस की ज्ञान रूपी गंगा भी प्रवाहित हो रही है तथा स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज के श्रीमुख से प्रतिदिन अध्यात्म के साथ-साथ, राष्ट्रभक्ति, वृक्षारोपण, स्वच्छता और नदियों के संरक्षण का संदेश प्रसारित किया जाता है।
श्रीराम कथा के मंच से स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने अपने-अपने शहरों को स्वच्छ, सुन्दर और प्रदूषण से मुक्त बनाये रखने का संदेश दिया। उन्होने कहा कि उत्तराखंड धरती पर स्वर्ग है, और इस स्वर्ग को स्वर्ग बनायें रखने के लिये हम सभी को अपनी-अपनी जिम्मेदारी समझना होगा और उसे निभाना भी होगा। हमारे परिवेश को स्वच्छ रखना हमारी नैतिक जिम्मेदारी भी है। उन्होने कहा कि देश का हर व्यक्ति स्वच्छता राजदूत हो तभी देश स्वच्छ हो सकता है। सफाई से तात्पर्य केवल सड़कों को साफ करने से नहीं है बल्कि स्वच्छता तो दिलों में भी होनी चाहिये। आज भारत से भ्रष्टाचार, जातिवाद, नक्सलवाद, वाद विवाद, अराजकता और आंतकवाद जैसे विचारों की भी सफाई होनी चाहिये वहीं सम्पूर्ण स्वच्छता है।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने कहा कि मेरा शहर, मेरी पहचान, मेरी शान है अगर शहर स्वच्छ, सुन्दर और सुरम्य होगा तो वहां रहने वाले लोग भी कम बीमार होंगे। उन्होने कहा कि बाहर सफाई होगी तो दिलों में सच्चाई होगी तो हमारा जीवन स्वस्थ भी होगा और समृद्ध भी होगा।
मेयर श्रीमती अनीता ममगाई जी ने कहा कि जब भी मैं स्वामी जी महाराज से मिलती हूँ तो अक्सर वे ऋषिकेश को स्वच्छ और सुन्दर बनाने के विषय में ही चर्चा करते है और मुझे कार्य करने की एक नई प्रेरणा मिलती है। उन्होने ऋषिकेश शहर के लोगों से निवेदन किया कि वे शहर को स्वच्छ रखने में सहयोग प्रदान करें, कूडादान का प्रयोग करें कूड़े को भी बिल्कुल भी न जलायें इससे खतरनाक प्रदूषण होता है, जो स्वास्थ्य के लिये हानिकारक है। तथा सार्वजनिक स्थलों को स्वच्छ बनायें रखे।
जीवा की अन्तर्राष्ट्रीय महासचिव साध्वी जी ने कहा कि ऋषिकेश देवभूमि है और पूरे विश्व से यहां पर अनेक लोग योग और गंगा दर्शन के लिये आते हैं यह हमारा कर्तव्य है कि हम अपने शहर को स्वच्छ बनायें रखें। स्वच्छ रहेंगे तो स्वस्थ रहेंगे।
कथा के छटवे दिन श्रीराम कथा व्यास संत श्री मुरलीधर जी महाराज ने कहा कि ईश्वर को पाने के लिये मन की निर्मलता आवश्यक है। निर्मल मन से ही परमात्मा की प्राप्ति हो सकती है और मन निर्मल और शान्त तभी हो सकता है, जब बाहरी वातावरण निर्मल होगा, शुद्ध होगा एवं सात्विक होगा। हम अपने आसपास, गली-मोहल्ला साफ रखे, स्वच्छता में ही प्रभु का वास होता है। उन्होने कहा कि निर्मल मन और स्वच्छता का सबरी से अच्छा उदाहरण नहीं हो सकता। सबरी निर्मल मन के साथ धैर्य से प्रतिदिन प्रभु के आने का इंतजार करती और अपने प्रभु के लिये जंगल के रास्ते साफ करती थी उसकी यह लगन देखकर प्रभु श्री राम सबरी से मिलने आये और उसके झूठे बेर भी खाये यही है निर्मलता का श्रेष्ठ उदाहरण।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज एवं श्रीराम कथा व्यास संत मुरलीधर जी महाराज, साध्वी भगवती सरस्वती जी को पर्यावरण का प्रतीक रूद्राक्ष का पौधा मेयर ऋषिकेश श्रीमती अनीता ममगाई जी एवं सभी पाषदों को भेंट कर आशीर्वाद दिया तथा विश्व स्तर पर स्वच्छ जल की आपूर्ति हेतु वाटर ब्लेसिंग सेरेमनी सम्पन्न की।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और धर्म ख़बरें
साईं बाबा का 24वां स्वरूप स्थापना दिवस 6 दिसम्बर को मनाया जायेगा : प्रसिद्ध भजन गायक पंकज राज करेंगे बाबा का गुणगान मनीमाजरा से निकली मेहंदीपुर बालाजी के लिए डाक ध्वजा यात्रा श्री श्याम कार्तिक मेला महोत्सव 6 नवंबर से पद्मासना मन्दिर वैश्विक एकता, अंतर धार्मिक संस्कृति व पर्यटन का प्रतीक श्री गोवर्धन पूजन का त्यौहार बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया स्नेह समाप्त हो गया है सिर्फ स्वार्थ रह गया: आशा दीदी मन्त्रों उच्चारण से 48 घंटे का साईं नाम जाप शुरू नौंवें दिन राम भक्त हनुमान प्रसंग एवं राम राज्य प्रसंग से राम कथा का पूर्णाहुति हवन से हुआ समापन 42 महिलाओं सहित 216 निरंकारी श्रद्धालुओं ने किया रक्तदान स्वास्तिक विहार में दुर्गा पूजा में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़, झांकियों ने मनमोहा