ENGLISH HINDI Monday, June 17, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
पंजाब

मकड़ी के जाल की तरह लटक रही ने बिजली की तारें

May 25, 2019 08:46 PM

ज़ीरकपुर, जे एस कलेर:
पंजाब राज्य बिजली बोर्ड जिसको अब पावरकॉम कहा जाता है, अक्सर अपने कारनामों कारण चर्चा का विषय बना रहता है और इसकी ढुलमुल वाली कार्यशैली के कारण लोग अक्सर ही बातें करते रहते हैं। बिजली की लटकती तारें हो, चाहे खुले मीटर बक्से हो, चाहे नीचे और नंगे फ्यूज हो, ऐसे लगता रहता है जैसे पावरकॉम लोगों को मुफ़्त में ही मौत बाँटता फिरता है। विभाग की लापरवाहियों की फेहरिस्त बहुत लंबी है। इलाके में कई स्थान ऐसे हैं, जहाँ बिजली की तारों लटक रही हैं। लटक रही ये बिजली की तारें किसी भी समय बड़े हादसे का कारण बन सकतीं हैं। बलटाना क्षेत्र सहित ज़ीरकपुर नगर कौंसिल के हर वार्ड में कई खंबे ऐसे हैं, जहाँ तारों के जाल दिखाई देते हैं। ये तारें मकड़ी के जाल की तरह लगतीं हैं। यह जाल सिर्फ़ आम लोग को ही दिखाई देते हैं, जिनके लिए यह मुसीबत हैं। पावरकॉम विभाग के कर्मचारियों को यह बिजली की तारें दिखाई नहीं देती या वह उनका ध्यान इस ओर जा ही नहीं रहा। बलटाना सहित अन्य घनी आबादी वाले क्षेत्रों में कई बार नीची तारों के नीचे से बड़े वाहनों के निकलने कारण तारें टूट जाती हैं जिससे बिजली की सप्लाई प्रभावित होती है। आबादी वाले इलाकों में यह तारें घरों की छतों के पास से गुज़रतीं हैं, जिसके साथ छोटे बच्चों या फिर किसी भी अन्य व्यक्ति का नुक्सान हो सकता है। इन तारों कारण कई स्थानों पर लोगों को जान से भी धोना पड़ चुका है और कई लोग अपाहिज़ हो चुके हैं। ऐसीं घटनाएँ होने के बावजूद पावरकॉम के आधिकारियों के पास ध्यान देने का समय नहीं है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें
ओएलएक्स पर लगातार हो रहीं है ठगी की वारदातें, फ्रिज की खरीद के नाम पर बैंक खाते से निकाले 48 हजार 4000 किलो प्लास्टिक के लिफ़ाफ़े किये ज़ब्त खाना-जंगी में बे-वजह 'झटके' झेल रहे हैं लोग: चीमा स्कूलों परिसर में वर्दियां और किताबों की बिक्री पर रोक कला व साहित्य प्रेमियों को श्री गुरु नानक देव जी के 550वें गुरूपर्व समारोहों में शामिल होने का न्यौता नगर कांउसिल ज़ीरकपुर का 81 करोड़ 42 लाख रु. का वार्षिक बजट पास पंजाब विधानसभा की विभिन्न कमेटियाँ गठित, नोटिफिकेशन जारी पॉवर कारपोरेशन द्वारा क्षेत्रीय दफ़्तरों में कंट्रोल रूम स्थापित मक्की उत्पादक किसानों की आर्थिक लूट बंद करें: चीमा खुले बोरवैल्लज़ की जानकारी देने पर दिया जायेगा ईनाम