ENGLISH HINDI Tuesday, June 25, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
विजिलेंस जांच के चलते कई अफसर नदारद, चौथे दिन भी हुई पूछताछ, हाईप्रेाफाइल मामले पर एआईजी ने कहा, जांच जारी पंजाब में गतका खेल गतिविधियों में और तेज़ी लाई जायेगी: लिबड़ाडॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस भाजपा ने श्रद्धांजलि दी डडू माजरा में जानवर जलाने के प्लांट के प्रस्ताव के विरोध में रोष प्रदर्शन, मेयर का पुतला जलायासीवरेज ओवरफ्लो की बदबू से लोग बेहाल, कोई सुनवाई नहींअवैध निर्माणों से जीरकपुर लगातार बन रहा है अर्बन स्लमजीजा के साथ बलटाना का युवक बुलेट पर काजा घूमने निकला पहाड़ से बोल्डर गिरा, दोनों की मौके पर मौतहाई—वे किनारे मनमर्जी की पार्किंग, हादसों को न्यौंता
राष्ट्रीय

गर्मी के दुष्प्रभावों से बचाने हेतु स्वास्थ्य परीक्षण एवं उपचार शिविर का आयोजन

May 30, 2019 12:14 PM

ऋषिकेश (ओम रतूड़ी) अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में आयुष विभाग की ओर से बुधवार को स्वास्थ्य परीक्षण एवं उपचार शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें स्थानीय लोगों ने बढ़ चढ़कर भाग लिया। शिविर में विशेषज्ञ चिकित्सकों ने उन्हें ग्रीष्म ऋतुचर्या के बारे बताया, जिससे लोग गर्मी के मौसम में होने वाले दुष्प्रभावों से बच सकें। इसके अलावा लोगों को शरीर की प्रकृति के अनुसार आहार-विहार के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गई। एम्स के आयुष विभाग की ओर से संस्थान के अलावा विभिन्न स्थानों पर प्रत्येक माह सततरूप से आयोजित किए जा रहे स्वास्थ्य परीक्षण एवं जनजागरुकता शिविरों के बाबत अपने संदेश में एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि संस्थान का उद्देश्य मरीजों को कम खर्च में विश्वस्तरीय स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराना है। साथ ही लोगाें को स्वास्थ्य के प्रति जागरुक करना है। निदेशक एम्स प्रो.रवि कांत ने इस तरह के स्वास्थ्य परीक्षण शिविरों के माध्यम से विभिन्न चिकित्सकीय पद्धतियों में रेंडामाइज्ड कंट्रोल ट्रायल पद्धति से अनुसंधान को नितांत आवश्यक बताया। एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि रिसर्च को बढ़ावा देकर विभिन्न चिकित्सकीय पद्धतियों की रोगी के स्वास्थ्य लाभ में उपयोगिता सिद्ध की जा सकती है। एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत ने माह दर माह स्वास्थ्य शिविरों के सततरूप से आयोजन के लिए संस्थान के आयुष विभाग की सराहना की। आयुष विभागाध्यक्ष डा.वर्तिका सक्सेना की अगुवाई में आयोजित शिविर में डा.मीनाक्षी जगझापे व डा.विंतेश्वरी नौटियाल ने रोगियों का परीक्षण किया। उन्होंने बताया कि शिविर में आए रोगियों में बात व मूत्र विकार, उदर रोग, कमजोरी आदि दिक्कतें पाई गई। विभागाध्यक्ष डा. वर्तिका ने बताया कि अब तक के शिविरों के सफल आयोजन के मद्देनजर भविष्य में वर्षा ऋतु में होने वाली व्याधियों से बचाव के लिए जनजागरुकता शिविरों का आयोजन किया जाएगा। शिविर के आयोजन में सीमा तोमर, संदीप कंडारी,अनीता राणा,सीना जोसेफ, नितेंद्र सारस्वत, किरन बड़ृथ्वाल आदि ने सहयोग किया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
योग को दिनचर्या में शामिल करने का आह्वान भारतीय नौसेनेा के लिए छह पी75 पनडुब्बियों के निर्माण के लिए अभिरूचि पत्र आमंत्रित मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. निशंक ने किया राष्ट्रीय बाल भवन संस्था का औचक निरीक्षण रीज़नल आउटरीच ब्यूरो अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर कल योग सत्र का आयोजन योग मनुष्य को दीर्घ जीवन प्रदान करता है विश्व तीरंदाजी चैंपियनशिप में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए भारतीय तीरंदाज सम्मानित बांग्लादेश और दक्षिण कोरिया के चैनल दूरदर्शन फ्री डिश पर चैनलों को रियलटी शो और कार्यक्रम दिखाए जाते समय बच्‍चों की भागीदारी में संयम और संवेदनशीलता बरतने की सलाह भारतीय तटरक्षक करेगा दिल्ली में 12वीं आरईसीएएपी आईएससी क्षमता निर्माण कार्यशाला की सह-मेजबानी ट्रांसपोर्ट वाहन चालकों के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता हटाने का निर्णय