ENGLISH HINDI Tuesday, June 25, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
महंगी बिजली मुद्दे पर राज्यपाल को मिलेगा 'आप': अरोड़ाअध्यापकों के ऑनलाइन तबादला नीति अब पब्लिक डोमेन में: सिंगलानहीं रहे स्वतंत्रता सेनानी सुशील रतन, बुधवार को होगा अंतिम संस्कारअपने हृदय सम्राट, पुण्यात्मा, समाज सुधारक स्व: सीताराम जी बागला की पुण्यतिथि पर नतमस्तक हुए क्षेत्रवासीनशाखोरी, ग़ैर-कानूनी तस्करी विरुद्ध 26 को हर जिले में मनाया जायेगा: सिद्धू12 एचसीएस अधिकारियों के स्थानान्तरण एवं नियुक्ति आदेश जारीजल के समुचित उपयोग से भारत भविष्य की प्राकृतिक आपदाओं से सुरक्षित रह सकता है: शेखावत नाभा जेल हत्या मामले के सभी पक्षों की जांच के लिए एस.आई.टी. का गठन
हरियाणा

ठेकेदारों की निर्धारित डिफैक्ट लाइबिलिटी की मोनीटरिंग करने के अधिकारियों को निर्देश

May 30, 2019 12:25 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूूज:
हरियाणा के लोक निर्माण (भवन एवं सडक़ें) मंत्री राव नरबीर सिंह ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि ठेकेदारों की निर्धारित डिफैक्ट लाइबिलिटी की मोनीटरिंग सही ढंग से सुनिश्चित की जाए तथा जो ठेकेदार निर्धारित दरों से काफी कम रेट की कोटेशन देते है उनकी निर्माण सामग्री की गुणवत्ता नियंत्रण के नमूने नियमित रूप से समय-समय पर भरें, यदि नूमने निर्धारित मानदण्डों पर खरे नहीं उतरते हैं तो ऐसे ठेकेदारों को फिर से कार्य आवंटित न करें और टैंडर नए सिरे से आमंत्रित करें। राव नरबीर विभाग के अधिकारियों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि विभाग के सभी 11 सर्कलों के कार्यकारी अभियंताओं व अधीक्षक अभियंताओं की नियमित बैठक बुलाई जाए और उनको डिफैक्ट लाइबिलिटी की मोनीटरिंग करने के सख्त निर्देश दिए जाएं। लोक निर्माण (भवन एवं सडक़ें) विभाग के नियमानुसार ठेकेदार की डिफैक्ट लाइबिलिटी अवधि सडक़ों के मामलों में चार वर्ष तथा भवनों के मामले में दो वर्ष होती है और इस अवधि में अगर निर्माण कार्य में किसी प्रकार की खामियां पाई जाती हैं तो ठेकेदार को उसकी मुरम्मत करनी होती है।
बैठक में इस बात का निर्णय लिया गया कि कार्यकारी अभियंताओं व अधीक्षक अभियंताओं की आगामी बैठक 4 जून को प्रात:11 बजे पंचकूला के सेक्टर-1 स्थित विभाग के विश्रामगृह में बुलाई जाए। इसके बाद दूसरी बैठक 20 जून के बाद गुरुग्राम में बुलाई जाएगी।
राव नरवीर ने अधिकारियों को इस बात के भी निर्देश दिए कि निर्माणाधीन सडक़ परियोजना में, चाहे वह भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की हो या राज्य राजमार्गों की, जहां-जहां वन विभाग या पर्यावरण विभाग की अनापत्ति प्रमाण-पत्र प्राप्त करने के कारण विलम्ब हो रहा है उन मामलों की फाइल सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों से व्यक्तिगत रूप से रुचि लेकर निकलवाएं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल पहले की ऐसी विलम्बता वाली फाइलों पर कड़ा संज्ञान ले रहे है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और हरियाणा ख़बरें
12 एचसीएस अधिकारियों के स्थानान्तरण एवं नियुक्ति आदेश जारी भर्ती रैलियों के लिए सेना अधिकारियों को सहयोग देने के लिए उपायुक्तों को निर्देश हरियाणा मुक्त विद्यालय अंक सुधार परीक्षा के लिए 24 जून से आवेदन आनलाइन प्रशिक्षण ले रहे 22 आईपीएस अधिकारियों ने की हरियाणा पुलिस महानिदेशक से मुलाकात गलत ताले की चाबी लिए घूम रहे हैं दुष्यंत: विज ट्रैफिक यूनिट को 25 नई मोटर साईकिलें दी होन्डा कम्पनी ने विमान दुर्घटना में शहीद हुए हरियाणा के लेफ्टिनेंट पायलट आशीष तंवर के परिजनों को मुख्यमंत्री ने बंधाया ढांढस सेना में भर्ती 20 से 30 अगस्त तक तेजली खेल परिसर यमुनानगर में नवजात शिशु की मेडीकल केयर देश में अभी भी चिंताजनक: डा. भकू दौलतपुरिया का त्याग पत्र स्वीकार, फतेहाबाद विधानसभा सीट हुई रिक्त