ENGLISH HINDI Saturday, September 21, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

राष्‍ट्रपति ने प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में आए राष्‍ट्राध्‍यक्षों/ शासनाध्‍यक्षों के सम्‍मान में दिया भोज

May 31, 2019 08:59 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
राष्‍ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने 30 मई को राष्‍ट्रपति भवन में प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में भाग लेने आए राष्ट्राध्यक्षों/ शासनाध्यक्षों के सम्मान में भोज दिया।
भोज में शामिल गणमान्य अतिथियों में बांग्लादेश के राष्‍ट्रपति मोहम्मद अब्दुल हमीद; श्रीलंका के राष्‍ट्रपति श्री मैत्रीपाला सिरीसेना, किर्गिस्तान के राष्ट्रपति श्री सूरोनबे जीनबेकोव; म्यांमार के राष्ट्रपति यू विन मिंट, मॉरीशस के प्रधानमंत्री महामहिम प्रविंद कुमार जगन्नाथ, नेपाल के प्रधानमंत्री श्री के.पी. शर्मा ओली, भूटान नरेश डॉ. लोटे शेरिंग तथा थाइलैंड के प्रधानमंत्री के विशेष दूत ग्रिसाडा बूनरैक शामिल थे।
इस अवसर पर राष्ट्रपति श्री कोविंद ने कहा कि भारत के सपने अकेले भारत के लिए नहीं हैं। जब हम अपनी प्रगति के लिए काम करते हैं, तो हम अपने करीबी दोस्तों और करीबी पड़ोसियों से मिलने वाले समर्थन को तहे दिल से याद रखते हैं। हिंद महासागर के सौहार्द से लेकर बंगाल की खाड़ी के उत्‍साह भरे समावेशन और उससे भी बढ़कर मध्य एशिया के साझा सांस्कृतिक संबंधों और आर्थिक अवसरों तक, हमारे लोग समान आशाओं और आकांक्षाओं को साकार रूप प्रदान करते हैं। सदियों से, भारत एक महान व्यापारिक प्रणाली का केंद्र रहा है, जिसका विस्‍तार मध्य एशिया के केंद्र से हिंद महासागर तक है। यही हमारी विरासत है और यही हमारा भविष्य भी है। हमारी सारी जनता और वैश्विक समुदाय की खातिर हमें आवश्‍यक तौर पर अपने क्षेत्र और उससे परे शांति और समृद्धि को बढ़ावा देने के लिए मिलकर काम करना होगा। हम सभी देश एक-दूसरे की प्रगति और कल्‍याण के हितधारक हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
एम्स में तीन दिवसीय कंप्यूटर एडिड ड्रग्स डिजाइनिंग कार्यशाला संपन्न छात्र, शिक्षक अन्‍य भाषाएं सीखने के साथ ही मातृभाषा को भी पर्याप्‍त महत्‍व दें एसीसी नियुक्ति दिल्ली एयरपोर्ट पर पांच अफगान यात्री पकड़े, 15 करोड़ की हेरोइन के 370 कैप्सूल बरामद जीवन की सार्थकता है 'स्वार्थ से सर्वार्थ की यात्रा, परमार्थ की यात्रा' तीसरा विश्व हिमालय सम्मेलन अगले वर्ष नेपाल में 15वें वित्‍त आयोग का दल सिक्किम का दौरा करेगा इस्पात उद्योग से रणनीति पर पुनर्विचार करने की अपील कंप्यूटर तकनीकी से नई दवाओं की खोज सराहनीय: प्रो. कांत पहाड़ों पर चढ़ने, नियमित सफर करने वाले हो सकते हैं किन बीमारियों के शिकार