ENGLISH HINDI Saturday, August 24, 2019
Follow us on
 
चंडीगढ़

दडुआ में पानी की समस्या को लेकर आरोप प्रत्यारोप का सिलसिला शुरू

June 04, 2019 11:13 AM

चण्डीगढ़, फेस2न्यूज:
गांव दरिया में आ रही पानी की समस्या को लेकर गांववासियों का एक प्रतिनिधिमंडल शहर के मेयर राजेश कालिया से मिला और उन्हें अपना मांग पत्र सौंपा। इस बारे में जानकारी देते हुए भारतीय जनता पार्टी मंडल नंबर 29 के महासचिव दीपक उनियाल ने बताया कि भीषण गर्मी की वजह से हर साल जून के महीने में पानी की समस्या खड़ी होती है और इसकी मुख्य वजह गाँव की बढ़ रही आबादी एवं यहां बन रहे बेशुमार होटल हैं।
उन्होंने बताया कि गांव दरिया में लगभग 50 के करीब होटल हैं, एवं हर होटल में 4000 से लेकर 15000 लीटर का वाटर स्टोरेज टैंक है तथा हर होटल में लगभग 10 से लेकर 20 कमरे हैं जिस वजह से होटलों में बिजली व पानी की बहुत बड़ी खपत होती है। गांव दरिया में 5 ट्यूबवेल होने के बावजूद भी पानी की समस्या आना पानी के समुचित वितरण की विफलता है।
उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि पानी के वाल्व की जो चाबी ट्यूबवेल कर्मचारियों के पास होनी चाहिए वह कुछ रसूखदार लोग अपने पास रखते हैं एवं जब चाहे पानी का प्रवाह जिस और चाहे मोड़ देते हैं। एक ट्यूबवेल का मुख्य वाल्व ही तोड़ दिया गया जिस कारण बोरीवाली गली में पानी की दिक्कत भयंकर रूप ले चुकी है। इन सारी समस्याओं को लेकर संबंधित विभाग के अधिकारियों एवं ग्रामवासियों की बैठक हुई जिसमें विस्तार से चर्चा के बाद इन्हे जल्द हल करने का आश्वासन गाँव वासियों को दिया गया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और चंडीगढ़ ख़बरें
चंडीगढ़ को बाल श्रम मुक्त बनाना है: सहगल स्मार्ट ग्राहक बनें, कैरी बैग की कीमत वसूलने वाले स्टोर्स का करें बहिष्कार गांव दड़ुआ में गीले व सूखे कचरे को अलग करने की योजना शुरू कार्यशाला में मृदंगम वादक मननार काएल बालाजी ने दक्षिणी भारतीय ताल की बारीकियां बताई एनएच एम्प्लाइज यूनियन ने प्रशासन के खिलाफ स्वास्थ्य सेवायें बंदकर प्रदर्शन किया स्वास्थ्य और सौंदर्य प्रेमियों के लिए वेगनटिक सुपर फूड्स ने एल्मो-एल्मोंड बेवरेज लॉन्च किया डॉ. रमेश कुमार सेन हिमाचल गौरव अवार्ड से सम्मानित जनता व पीएम योजनाओं के बीच सीढ़ी बनने का कार्य कर रहे हैं:राजमणि चंडीगढ़ रेजिडेंट्स एसोसिएशंस वेलफेयर फेडरेशन ने किरण खेर के सामने उठाया डॉग मिनेस का मुददा बैंक ऑफ इंडिया ने बैंकिंग को आम लोगों पर केन्द्रित ऋणों के वितरण पर दिया जोर