ENGLISH HINDI Tuesday, June 18, 2019
Follow us on
राष्ट्रीय

केदारनाथ धाम में खुला अस्पताल, 10 बैड के अस्पताल का विधिवत लोकार्पण

June 07, 2019 11:12 AM

ऋषिकेश, ओम रतुड़ी:
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बृहस्पतिवार को केदारनाथ धाम में सिक्स सिगमा मेडिकल हाई एल्टीट्यूड सर्विसेज के 10 बैड के अस्पताल का विधिवत लोकार्पण किया। इस अस्पताल में वह सभी आधुनिकतम चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध हैं जो एक हाई एल्टीट्यूड एरिया के लिए आवश्यक हैं। बीते माह 6 मई को एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत की पहल पर एम्स संस्थान व सिक्स सिगमा हाई एल्टीट्यूड सर्विसेज संस्था के मध्य उत्तराखंड की चार धाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं के लिए स्वास्थ्य सेवाएं सुनिश्चित करने को लेकर करार हुआ था। जिसके तहत बृहस्पतिवार को केदारनाथ धाम में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि निदेशक एम्स पद्माश्री प्रोफेसर रवि कांत ने अस्पताल का विधिवत उद्घाटन किया। एम्स निदेशक प्रो.रवि कांत ने बताया कि अनुबंध के अंतर्गत एम्स द्वारा एक हाई एल्टीट्यूड मेडिकल केयर विशिष्ट यूनिट अस्पताल में सभी विभागों के चिकित्सक आवश्यकता के अनुरूप उपलब्ध कराए गए हैं।  

- एम्स व सिक्स सिगमा हाई एल्टीट्यूड सर्विसेज संस्था के मध्य हुआ था श्रद्धालुओं के लिए स्वास्थ्य सेवाएं सुनिश्चित करने को लेकर करार 

उन्होंने बताया कि अस्पताल में गंभीर मरीजों का इलाज, एमआरआई, सीटी स्केन अथवा अन्य किसी तरह के ऑपरेशन हेतु विशेष व्यवस्था की गई है l एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि ऊंचाई वाले क्षेत्रों में सबसे अधिक दिक्कत सांस एवं हृदय से संबंधित मरीजों को होती है, जिसके लिए एम्स संस्थान द्वारा आवश्यकतानुसार विशेषज्ञ चिकित्सकों की चारों धामों में उपलब्धता सुनिश्चित कर दी गई है, जिससे कि श्रद्धालुओं को त्वरित व उच्चस्तरीय निशुल्क उपचार मिल सके। उन्होंने बताया कि एम्स द्वारा संस्था को हरसंभव पैरामेडिकल व मेडिकल सुविधाएं मुहैया कराई गई हैं। अनुबंध के तहत संस्था द्वारा चिकित्सकीय दल को ऊंचाई वाले क्षेत्रों में कार्य करने हेतु आवश्यक प्रशिक्षण की व्यवस्था भी जाएगी, जिससे वह न केवल श्रद्धालुओं का उपचार कर सकें बल्कि किसी तरह की आपदा की स्थिति में राहत एवं बचाव कार्य में भी एक देवदूत की तरह अपना योगदान दे सकें। एम्स निदेशक प्रो. कांत ने बताया कि उक्त चिकित्सकीय टीम आवश्यक दवाओं एवं एडवांस उपकरणों से लैस होगी। उन्होंने बताया कि हाई एल्टीट्यूड हेल्थ केयर एवं माउंटेन मेडिसिन से संबंधित पाठ्यक्रम भी एम्स संस्थान में जल्द लागू किया जाएगा, जिससे पहाड़ों के सुदूर क्षेत्रों में एवं आपदा की स्थिति में विशेषरूप से प्रशिक्षित डॉक्टरों द्वारा मरीजों का इलाज सुनिश्चित किया जा सके।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
राजनीति से परे कुछ सवाल उठाती डॉक्टरों की हड़ताल डॉ. हर्षवर्धन ने डॉक्टरों संग मारपीट करने वाले के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने हेतु मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखा वायुसेना प्रमुख ने वायु सेना अकादमी में संयुक्त स्नातक परेड की समीक्षा की मेघालय में तुरंत प्रतिनिधिमंडल भेजने का फैसला, पंजाबियों को धमकियों मद्देनजऱ उठाया कदम मरीजों और डॉक्‍टरों से संयम बरतने की अपील कारगिल विजय की 20वीं वर्षगांठ 25 से27 जुलाई तक भाजपा का महत्वपूर्ण बैठक पार्टी मुख्यालय दिल्ली में हुई भारतीय भाषाओं को अधिक सशक्त बनाने पर बल गुजरात तट के लिए ‘बेहद खतरनाक तूफान’ की चेतावनी जारी चक्रवात वायु के मद्देनजर भारतीय नौसेना की तैयारियां