ENGLISH HINDI Sunday, September 22, 2019
Follow us on
 
पंजाब

गर्मी आते ही हांफने लगे नगर कांउसिल के ट्यूबवेल, कई इलाकों में पानी अपर्याप्त

June 07, 2019 08:26 PM

जीरकपुर, जेएस कलेर:
गर्मी अपनी चरम पर पहुंच चुकी है। पारा लगातार 40 डिग्री सेल्सियस के पार बना हुआ है। इस भीषण गर्मी में नगर कौंसिल के ट्यूबवेल भी हांफने लगे हैं। जिसकी वजह से शहर के अलग-अलग हिस्सों में पानी की किल्लत होनी शुरू हो गई। कई इलाकों में लोगों को तीन-तीन दिन तक पानी नहीं मिल रहा है, जिस वजह से लोगों को धरने प्रदर्शन तक करने पड़ रहे हैं। गर्मियों में लोगों को पानी की कमी से परेशान न होना पड़े इसके लिए अब नगर कौंसिल ने भी कोई वैकल्पिक प्रबंध नहीं किया है।

जीरकपुर नगर काउंसिल के प्रधान कुलविदर सोही ने बताया कि पानी का स्तर गिरना बड़ी चिंता की बात है। यहां पानी को बचाने के लिए एक मुहिम शुरू की जाएगी। इससे यहा एमसी मीटिंग में तय किया जाएगा कि जितने भी मकान बनेंगे उनमे हार्वेस्टिग सिस्टम जरूर लगे हो, ताकि जो भी पानी बरसात का या नलों से निकलकर सड़कों पर बहता है। वह फिर से जमीन मे जाए। सोही ने कहा कि सरकार को इसमें और काम करने की जरूरत है।

गर्मी में तापमान में बढ़ोतरी की वजह से भी ट्यूबवेल की मोटरें खराब होनी शुरू हो जाती हैं, जिस वजह से अलग-अलग इलाकों में पानी की किल्लत शुरू हो जाती है। नगर कौंसिल के ट्यूबवेल आपस में इंटरकनेक्ट हैं, ऐसे में अगर कोई ट्यूबवेल खराब हो जाता है तो आसपास के इलाकों में पानी पूरे प्रेशर के साथ नहीं पहुंचता है।

यही नहीं हर साल भूमिगत पानी का लेवल करीब तीन फुट नीचे जा रहा है, जिसकी वजह से भी ट्यूबवेलों की मोटरें पूरी क्षमता के साथ पानी नहीं निकाल पा रही। लिहाजा, गर्मी में एक तो वाटर लेबल नीचे जाने के कारण मोटरें जबाब देने लगी है, वहीं बिजली की लो और हाई बोल्टेज के कारण भी मोटर फुंकने से ट्यूबवेलों के संचालन में दिक्कत आनी शुरू हो गई है।
बलटाना के हेम विहार के लोगों के ने बीते कल पार्षद और नगर कौंसिल के अधिकारियों के खिलफ जम कर रोष प्रदर्शन किया था। लोगों का कहना है कि यहां पानी की समस्या है और पार्षद व अधिकारी उनकी कोई सुनवाई नही कर रहे है। जिसके चलते वह निजी टैंकर मंगवा कर पानी की आपूर्ति लेने को मजबूर है।

कॉलोनी की रेजीडेंटस वेलफेयर एसोसिएशन के प्रधान तिलक राज शर्मा, चेयरमैन मिल्खी राम, अकाली दल के सर्कल उपप्रधान हरदिलजीत सिंह, महिला उप प्रधान मीना शर्मा, गुरमीत कौर, पूनम राणा, इंद्रजीत, गुरजीत, किमी मदान, आर एस रावत के अलावा अन्य लोगों ने बताया कि कॉलोनी में लगे टयूववेल के खराब होने के कारण के फेस 1 और 2 में पिछले करीब 1 सप्ताह से पीने के पानी की समस्या पेश आ रही है।

उन्होंने बताया कि इस समस्या के बारे में उन्होंने वार्ड के पार्षद को भी अवगत कराया लेकिन पार्षद ने उनकी दिक्कत का कोई समाधान नहीं किया जिसके चलते बुजुर्गों और बच्चों का बुरा हाल है और लोग निजी रूप से टेंकर मंगवार कर पीने के पानी की समस्या का हल कर रहे है। वहीं इस प्रदर्शन के बाद आज नगर कौंसिल के ठेकेदार की नींद टूटी और उसने ट्यूवेल की मोटर को कुछ नीचे किया जिससे आज हेम विहार क्षेत्र के लोगों के घरों में गुजारे लायक पानी तो पहुच गया लेकिन लोग इस टैंपरेरी प्रबंध को नाकाफ़ी कह रहे है। लोगों का कहना है कि जिरकपुर नगर कौंसिल को जल्द कजोली वाटर वर्कस से पानी लाने पर विचार करना चाहिए।

जीरकपुर नगर काउंसिल के प्रधान कुलविदर सोही ने बताया कि पानी का स्तर गिरना बड़ी चिंता की बात है। यहां पानी को बचाने के लिए एक मुहिम शुरू की जाएगी। इससे यहा एमसी मीटिंग में तय किया जाएगा कि जितने भी मकान बनेंगे उनमे हार्वेस्टिग सिस्टम जरूर लगे हो, ताकि जो भी पानी बरसात का या नलों से निकलकर सड़कों पर बहता है। वह फिर से जमीन मे जाए। सोही ने कहा कि सरकार को इसमें और काम करने की जरूरत है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें