ENGLISH HINDI Tuesday, June 25, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
नहीं रहे स्वतंत्रता सेनानी सुशील रतन, बुधवार को होगा अंतिम संस्कारअपने हृदय सम्राट, पुण्यात्मा, समाज सुधारक स्व: सीताराम जी बागला की पुण्यतिथि पर नतमस्तक हुए क्षेत्रवासीनशाखोरी, ग़ैर-कानूनी तस्करी विरुद्ध 26 को हर जिले में मनाया जायेगा: सिद्धू12 एचसीएस अधिकारियों के स्थानान्तरण एवं नियुक्ति आदेश जारीजल के समुचित उपयोग से भारत भविष्य की प्राकृतिक आपदाओं से सुरक्षित रह सकता है: शेखावत नाभा जेल हत्या मामले के सभी पक्षों की जांच के लिए एस.आई.टी. का गठन मेडिकल शिक्षा के साथ व्यवहारिकता का पाठ पढ़ाया जाएगा एम्स मेंडिप्टी कमिशनर आज सुनेंगे रॉयल एंपायर प्रोजैक्ट के पीडितों की शिकायतें
पंजाब

धूरी और जालंधर के बाद अब मोगा में बच्ची के साथ जबरदस्ती का मामला आया सामने

June 07, 2019 09:10 PM

चंडीगड़, फेस2न्यूज:
विरोधी पक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा ने मोगा में एक 2 वर्षीय बच्ची के साथ एक दरिन्दे अपराधी की ओर से की गई जबरदस्ती पर बेहद दुख और अफसोस प्रकट करते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह सरकार को जमकर कोसा।
'आप' द्वारा जारी बयान में चीमा ने कहा कि बादलों के माफिया और जंगली राज से दुखी होकर पंजाब के लोगों ने बड़े उत्साह और उम्मीदों के साथ कैप्टन अमरिन्दर सिंह के वायदों और इरादों पर भरोसा किया था, परंतु कैप्टन अमरिन्दर सिंह अपने ढाई सालों के कार्यकाल के दौरान बादलों से भी गए-गुजरे साबित हुए और आज पंजाब में कानून व्यवस्था बदतर से महा-बदतर हो गई है और अपराधी अनसर बेखौफ हो कर अपराधों को अंजाम दे रहे हैं।
चीमा ने कहा कि पहले धूरी, फिर जालंधर और अब मोगा में मासूम बच्चियां जबर जिनाह का शिकार हुई हैं, फरीदकोट में राजनैतिक सरप्रस्ती के अधीन एक नौजवान को पुलिस हिरासत में मार कर नहर में फैंक दिया जाता है, फिर सम्बन्धित पुलिस इंस्पैक्टर संदिगद्ध हालत में आत्म हत्या कर लेता है। इंसाफ की मांग में धूरी और फरीदकोट में लगातार धरने लग रहे हैं, परंतु सरकार सो नहीं रही और होशो-हवास में पार्टियों में मसरूफ है और हिमाचल की वादियों में मस्त होकर आराम कर रहे है। पंजाब की इस से बड़ी त्रासदी क्या हो सकती है?
चीमा ने कहा कि बेहतर होता मुख्य मंत्री खुद ही गृह मंत्रालय की जिम्मेदारी अपने किसी जिम्मेदार मंत्री को सौंप देते, क्योंकि मुख्य मंत्री के पास कानून व्यवस्था की तरफ ध्यान देने का समय ही नहीं है।
चीमा ने मांग की कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह को बिना देरी गृह मंत्री के तौर पर इस्तीफा दे देना चाहिए, क्योंकि कानून व्यवस्था के लिहाज से पंजाब पूरी तरह जंगल राज में तबदील होता जा रहा है। हरपाल सिंह चीमा ने कहा कि पंजाब सरकार को 12 सालों से कम उम्र के बच्चों को यौन अपराधों से बचाने के लिए केंद्र सरकार के प्रोटैक्शन आफ चिल्ड्रेन फरौम सैकसूअल अफैसिज (पोसको) एक्ट 2012 को मध्य प्रदेश, राजस्थान और हरियाणा की तरह संशोधन सहित पंजाब में भी लागू करना चाहिए, ताकि मासूम बच्चों के साथ ऐसा घिनौना कुकर्म करने वाले अपराधियों को फास्ट ट्रैक अदालतों के द्वारा फांसी पर लटकाया जा सके जिससे किसी ओर अपराधी का ऐसा जुर्म करने का कभी हौसला ही न पड़े।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें
नशाखोरी, ग़ैर-कानूनी तस्करी विरुद्ध 26 को हर जिले में मनाया जायेगा: सिद्धू नाभा जेल हत्या मामले के सभी पक्षों की जांच के लिए एस.आई.टी. का गठन विजिलेंस जांच के चलते कई अफसर नदारद, चौथे दिन भी हुई पूछताछ, हाईप्रेाफाइल मामले पर एआईजी ने कहा, जांच जारी पंजाब में गतका खेल गतिविधियों में और तेज़ी लाई जायेगी: लिबड़ा सीवरेज ओवरफ्लो की बदबू से लोग बेहाल, कोई सुनवाई नहीं अवैध निर्माणों से जीरकपुर लगातार बन रहा है अर्बन स्लम जीजा के साथ बलटाना का युवक बुलेट पर काजा घूमने निकला पहाड़ से बोल्डर गिरा, दोनों की मौके पर मौत हाई—वे किनारे मनमर्जी की पार्किंग, हादसों को न्यौंता 6 किलो भुक्की पोस्त सहित एक गिरफ्तार जीरकपुर में ट्रक ने 15 गाड़ियां ठोकीं, लगा लंबा जाम