ENGLISH HINDI Friday, September 20, 2019
Follow us on
 
पंजाब

उत्तरी भारत का मोस्ट वांटेड गैंगस्टर गिरफ़्तार

June 11, 2019 10:17 AM

रोपड़, फेस2न्यूज:
रोपड़ पुलिस ने नूरपुरबेदी क्षेत्र में दोनों तरफ़ हुई गोलीबारी के बाद अक्षय पहलवान उर्फ काली को गिरफ़्तार किया है। उसके पिस्तौल की गोलियाँ ख़त्म हो जाने के बाद सी.आई.ए. और स्थानीय पुलिस की टीमों ने उसको पकड़ लिया। 19 वर्षीय अक्षय चण्डीगढ़, हरियाणा, दिल्ली और राजस्थान में घृणित कत्ल के केसों में वांटेड था।    

अक्षय पहलवान 15 कत्ल केसों और 20 हाईवे डकैतियों में था वांटेड


सितम्बर, 2015 में उसको सोनीपत में 3 घृणित कत्ल के मामलों में 18 महीने की जेल हुई। नाबालिग होने के कारण वह 2017 से ज़मानत पर बाहर था। एक बार जेल से बाहर आने के बाद वह दिल्ली आधारित गैंगस्टर राजू बिसौदी, जो कि सोनीपत का रहने वाला है, के संपर्क में आया। यहाँ वह 3 कत्ल मामलों, लूट और जबरन वसूली के मामलों में शामिल हुआ। उसने हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में पशु तस्करी का संंस्थागत रैकेट चलाया।
पिछले 2 सालों के दौरान वह लॉरेंस बिशनोयी (कैदी गैंगस्टर) के संपर्क में भी आया। इस ग्रुप के सदस्यों के साथ मिल कर उसने 4 कत्ल और 6 हाईवे डकैतियों को अंजाम दिया। मार्च 2017 में जेल में से रिहा होने के बाद उसने करीब 10 हाईवे डकैतियाँ की और तकरीबन 50 लाख रुपए लूटे।
सितम्बर 2015 में उसने कन्दली सोनीपत की मार्केट की भीड़ में पिता, पुत्र को गोली मार दी। जनवरी 2018 में अपने ग्रुप सदस्यों के साथ उसने जे.एम.आई.सी., राजगढ़, चूरू (राजस्थान) की अदालत में 2 व्यक्तियों को गोली मार दी। बाद में जून, 2018 में जोर्डन को हनुमानगढ़ (राजस्थान) में जिम्म में मौत के घाट उतार दिया।
इस गैंग के सोशल मीडिया अकाऊंट इनके कैनेडा आधारित पुराने साथी द्वारा चलाए जा रहे हैं। जांच से हुए खुलासों के अनुसार इनके कुछ साथी जाली पासपोर्टों और दस्तावेज़ों के ज़रिये देश से बाहर चले गए हैं। यह पता लगाया गया है कि कत्ल के सभी मामलों के पीछे का कारण सुपारी या विरोधी ग्रुपों के दरमियान आपसी दुश्मनी है।
मनोविज्ञान और अन्य तथ्यों से मिली जानकारी से यह खुलासा होता है कि उक्त मुलजिम कत्ल करने और ज़्यादा गोलियाँ चलाने में गर्व महसूस करते हैं।
रोपड़ के एस.एस.पी. स्वप्न शर्मा ने बताया,‘‘अक्षय पुरानी रंजिश के चलते सोनीपत में एक व्यक्ति को मारने की योजना बना रहा था। वह रोपड़ जि़ले के नूरपुरबेदी क्षेत्र में हथियारों और अन्य सहायता के लिए गया। उससे 32 बोर के 3 पिस्तौल और गोली बारूद बरामद किया गया है।’’
पिछले 10 महीनों के दौरान रोपड़ पुलिस द्वारा 9 गैंगस्टर पकड़े गए हैं। इनमें ख़ास क्षेत्र से सम्बन्धित गैंगस्टर और खन्ना, फतेहगढ़ साहिब, तरन तारन और नन्देड़ (महाराष्ट्र) के शार्प शूटर शामिल हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें