ENGLISH HINDI Saturday, September 21, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

समुद्रीय सूचना साझाकरण कार्यशाला का आयोजन

June 11, 2019 06:22 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
हिंद महासागर क्षेत्र (आईओआर) में समुद्रों की रक्षा और सुरक्षा विश्‍व व्‍यापार और अनेक देशों की आर्थिक समृद्धि के लिए महत्‍वपूर्ण है। समुद्र में गतिविधियों का पैमाना, क्षेत्र और बहुराष्‍ट्रीय स्‍वरूप समुद्रीय सुरक्षा के लिए एक सहयोगी दृष्टिकोण की जरूरत दर्शाता है। इसे ध्‍यान में रखते हुए सूचना संलयन केन्‍द्र- हिंद महासागर क्षेत्र (आईएफसी-आईओआर) का दिसंबर, 2018 में रक्षा मंत्री ने उद्घाटन किया था। ऐसा इस क्षेत्र में समुद्रीय रक्षा और सुरक्षा को बढ़ाने के लिए किया गया है। इस केन्‍द्र ने 16 से अधिक देशों और 13 अंतर्राष्‍ट्रीय समुद्रीय सुरक्षा एजेंसियों के साथ अब तक संबंध स्‍थापित कर लिए हैं।
समुद्रीय सूचना साझा करने के क्षेत्र में सर्वोत्तम प्रक्रियाओं को साझा करने में सहायता प्रदान करने और आईओआर में हिंद महासागर क्षेत्र में समुद्रीय सुरक्षा चुनौतियों को बेहतर ढंग से समझने के लिए भारतीय नौसेना आईएफसी-आईओआर में 12 से 13 जून तक समुद्रीय सूचना साझाकरण कार्यशाला (एमआईएसडब्‍ल्‍यू) की मेजबानी कर रही है। लगभग 30 देशों के 50 से अधिक प्रतिनिधि इस कार्यशाला में भागीदारी करेंगे। इस कार्यशाला में भागीदार देशों के विषय वस्‍तु विशेषज्ञों द्वारा समुद्री डकैती, मानव और मादक पदार्थों की तस्‍करी तथा इन चुनौतियों से निपटने के लिए कानूनी पहलुओं के बारे में संवादमूलक सत्र आयोजित किए जाएंगे। इस कार्यशाला में सूचना साझा करने का अभ्‍यास भी आयोजित किए जाएगा। भारतीय नौसेना के उप-प्रमुख इस कार्यशाला का उद्घाटन करेंगे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
एम्स में तीन दिवसीय कंप्यूटर एडिड ड्रग्स डिजाइनिंग कार्यशाला संपन्न छात्र, शिक्षक अन्‍य भाषाएं सीखने के साथ ही मातृभाषा को भी पर्याप्‍त महत्‍व दें एसीसी नियुक्ति दिल्ली एयरपोर्ट पर पांच अफगान यात्री पकड़े, 15 करोड़ की हेरोइन के 370 कैप्सूल बरामद जीवन की सार्थकता है 'स्वार्थ से सर्वार्थ की यात्रा, परमार्थ की यात्रा' तीसरा विश्व हिमालय सम्मेलन अगले वर्ष नेपाल में 15वें वित्‍त आयोग का दल सिक्किम का दौरा करेगा इस्पात उद्योग से रणनीति पर पुनर्विचार करने की अपील कंप्यूटर तकनीकी से नई दवाओं की खोज सराहनीय: प्रो. कांत पहाड़ों पर चढ़ने, नियमित सफर करने वाले हो सकते हैं किन बीमारियों के शिकार