ENGLISH HINDI Tuesday, June 25, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
महंगी बिजली मुद्दे पर राज्यपाल को मिलेगा 'आप': अरोड़ाअध्यापकों के ऑनलाइन तबादला नीति अब पब्लिक डोमेन में: सिंगलानहीं रहे स्वतंत्रता सेनानी सुशील रतन, बुधवार को होगा अंतिम संस्कारअपने हृदय सम्राट, पुण्यात्मा, समाज सुधारक स्व: सीताराम जी बागला की पुण्यतिथि पर नतमस्तक हुए क्षेत्रवासीनशाखोरी, ग़ैर-कानूनी तस्करी विरुद्ध 26 को हर जिले में मनाया जायेगा: सिद्धू12 एचसीएस अधिकारियों के स्थानान्तरण एवं नियुक्ति आदेश जारीजल के समुचित उपयोग से भारत भविष्य की प्राकृतिक आपदाओं से सुरक्षित रह सकता है: शेखावत नाभा जेल हत्या मामले के सभी पक्षों की जांच के लिए एस.आई.टी. का गठन
राष्ट्रीय

प्रस्तावित जम्मू एंड कश्मीर एम्स को लेकर चर्चा

June 12, 2019 07:47 PM

ऋषिकेश, रतुड़ी:
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में आयोजित बैठक में प्रस्तावित जम्मू एंड कश्मीर एम्स को लेकर चर्चा की गई। गौरतलब है कि भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा प्रस्तावित एम्स जम्मू एवं कश्मीर के निर्माण एवं निष्पादन के लिए एक उच्चस्तरीय कमेटी का गठन किया गया है, जिसकी जिम्मेदारी ऋषिकेश एम्स को सौंपी गई है। बैठक में कमेटी द्वारा खासतौर से आर्किटेक्चर प्लान, एम्स के रोड मैप आदि पर विस्तार पूर्वक चर्चा की गई। साथ ही एम्स अवंतीपुरा, कश्मीर में आगामी सत्र में 25 सीटों के साथ प्रथम एमबीबीएस बैच प्रारंभ करने पर सहमति हुई। एम्स में संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत की अध्यक्षता में कमेटी फाइनालाइजेशन ऑफ मास्टर प्लान ऑफ एम्स जम्मू एंड कश्मीर की बैठक हुई। कमेटी के मेंटर एवं एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो.रवि कांत ने बताया किजम्मू एवं कश्मीर प्रांत में अवंतीपुरा में 750 व पुलवामा में 750 बैड के दो एम्स अस्पताल प्रस्तावित हैं। केंद्र सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा ऋषिकेश एम्स संस्थान को जम्मू एंड कश्मीर एम्स का मेंटरिंग एंड एग्जीक्यूटिव इंस्टीट्यूट( सलाहकार एवं निष्पादन)का जिम्मा सौंपा गया है। निदेशक एम्स ने बताया कि एम्स अवंतीपुरा, कश्मीर को लेकर कमेटी की महत्वपूर्ण बैठक हुई। जिसमें प्रस्तावित योजना के तहत ओपीडी, आईपीडी और आवासीय भवनों की रूपरेखा तैयार की गई। एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि बैठक में इसके अलावा विभिन्न चिकित्सकीय सुविधाओं, सुपर स्पेशलिटी, सब स्पेशलिटी विभागों, ऑपरेशन थियेटर, इमरजेंसी सुविधाओं की कार्यप्रणाली एवं इसके संचालन संबंधी बिंदुओं पर भी विस्तारपूर्वक चर्चा की गई। साथ ही बैठक में अलग-अलग विभागों के बैड आवंटन संबंधी रूपरेखा भी तैयार की गई। इस दौरान समिति के सदस्यों द्वारा सुझाव दिया गया कि परिसर की मास्टर प्लानिंग एम्स की आवश्यकता और आपातकालीन, वाह्य रोगी विभाग ओपीडी आदि विभागों के अनुरूप किया जाए। एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत ने बताया कि प्रस्तावित एम्स कश्मीर के निर्माण कार्यों, भवनों के डिजाइनों व विभिन्न ब्लॉकों के ले-आउट प्लान स्थानीय वास्तु अभिव्यक्ति के अनुसार समग्ररूप से संशोधित किया जा चुका है। इस अवसर पर एम्स अवंतीपुरा, कश्मीर में अस्पताल, आवासीय कॉलोनियों, छात्रावासों एवं चिकित्सा सेवाओें के साथ ही आगामी सत्र में 25 सीटों के साथ प्रथम एमबीबीएस बैच प्रारंभ करने पर भी सहमति दी गई।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
जल के समुचित उपयोग से भारत भविष्य की प्राकृतिक आपदाओं से सुरक्षित रह सकता है: शेखावत मेडिकल शिक्षा के साथ व्यवहारिकता का पाठ पढ़ाया जाएगा एम्स में योग को दिनचर्या में शामिल करने का आह्वान भारतीय नौसेनेा के लिए छह पी75 पनडुब्बियों के निर्माण के लिए अभिरूचि पत्र आमंत्रित मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. निशंक ने किया राष्ट्रीय बाल भवन संस्था का औचक निरीक्षण रीज़नल आउटरीच ब्यूरो अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर कल योग सत्र का आयोजन योग मनुष्य को दीर्घ जीवन प्रदान करता है विश्व तीरंदाजी चैंपियनशिप में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए भारतीय तीरंदाज सम्मानित बांग्लादेश और दक्षिण कोरिया के चैनल दूरदर्शन फ्री डिश पर चैनलों को रियलटी शो और कार्यक्रम दिखाए जाते समय बच्‍चों की भागीदारी में संयम और संवेदनशीलता बरतने की सलाह