ENGLISH HINDI Monday, December 09, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
द स्काई मेंशन मैं पहुंचे करण औजला , लोगों का किया मनोरंजनसीएम की सुरक्षा में सेंध से डेराबस्सी के बहुचर्चित कब्जा विवाद ने पकड़ा तूल: दूसरे पक्ष ने लगाया मुख्यमंत्री के आदेशों के उल्लंघन का आरोप सिंगला की बर्खास्तगी को लेकर राज्यपाल को मिलेगा ‘आप’ का प्रतिनिधिमंडल - हरपाल सिंह चीमाअंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव : 18 हजार विद्यार्थी, 18 अध्यायों के 18 श्लोकों के वैश्विक गीता पाठ की तरंगें गूंजीअविनाश राय खन्ना हरियाणा व गोवा के भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चुनाव हेतू आब्र्जवर नियुक्तहिमाचल प्रदेश विधानसभा का शीतकालीन सत्र 9 दिसम्बर से तपोवन धर्मशाला में: डॉ राजीव बिंदलधर्मशाला में 10 दिसम्बर को लगेगा रक्तदान शिविरबिक्रम ठाकुर ने कलोहा में बाँटे 550 गैस कनेक्शन, कलोहा पंचायत में 35 सोलर लाईट और व्यायामशाला की घोषणा
पंजाब

मक्की उत्पादक किसानों की आर्थिक लूट बंद करें: चीमा

June 14, 2019 07:05 AM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
विरोधी पक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा ने राज्य में मक्की उत्पादक किसानों की हो रही लूट को रोकने के लिए मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह को ठोस कदम उठाने की मांग की।
'आप' द्वारा जारी बयान में चीमा ने कहा कि मक्की उत्पादक किसान सूखी (ड्राई) मक्की की फसल प्रति क्विंटल 1200 से 1300 रुपए में बेचने के लिए मजबूर किए जा रहे हैं, जबकि केंद्र सरकार की तरफ से चालू सीजन के लिए मक्की का कम से कम समर्थन मूल्य 1700 रुपए निर्धारित किया हुआ है। इस तरह किसानों को 400 से 500 रुपए प्रति क्विंटल का शरेआम चूना लग रहा है, जबकि बिना सूखाई मक्की का पंजाब की मंडियों में केवल 600 से 900 रुपए प्रति क्विंटल मूल्य दिया जा रहा है, जो अंनदाता की सरेआम अंधी लूट है।
चीमा ने कहा कि एक तरफ कैप्टन पंजाब विधान सभा सैशन दौरान लाइव टैलिकास्ट होकर पंजाब के पानी, खास करके धरती के निचले पानी के गिर रहे स्तर के बारे में चिंता प्रकट करते हुए अगले 20 सालों में पंजाब के रेगिस्तान बनने की भविष्यवाणी करते हैं, परंतु दूसरी तरफ कथनी को करनी में बदलने के लिए खुद कुछ नहीं कर रहे। चीमा ने कहा कि पंजाब बचाने के लिए पंजाब के किसान को गेहूं-धान के फसली चक्कर से निकालना पड़ेगा, इसलिए मक्की को धान का सही बदल माना जाता है, परंतु यदि निर्धारित एम.एस.पी पर भी मक्की नहीं खरीदी जाएगी जो किसान मक्की फसल क्यों पैदा करेगा?
चीमा ने मांग की है कि मक्की की फसल की एम.एस.पी पर खरीद यकीनी बनाने के लिए सरकार मार्कफैड या दूसरी सरकारी खरीद एजेंसियां को मंडियों में उतारे और मक्की की सरकारी खरीद करे। यदि सरकार ऐसा करती है तो प्राईवेट खरीद भी एम.एस.पी से कम मूल्य पर खरीदने की बजाए एम.एस.पी से अधिक मूल्य पर मक्की की फसल खरीदने के लिए मजबूर हो जाएंगे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
सीएम की सुरक्षा में सेंध से डेराबस्सी के बहुचर्चित कब्जा विवाद ने पकड़ा तूल: दूसरे पक्ष ने लगाया मुख्यमंत्री के आदेशों के उल्लंघन का आरोप सीएमओ दफ़्तर का इंस्पेक्टर और वाहन चालक रिश्वत लेते रंगे हाथ काबू, मिलीभगत में शामिल डीएचओ फरार। मोहाली को विश्व का पहला स्टार्टअप केंद्र बनाने की वकालत की युवक को अज्ञात लोगों ने अगवा कर अधमरा कर रेलवे लाइनों के फैंका पुलिस ने सुलझाई अंधे कत्ल की गुत्थी जीएम के आगमन के चलते दुल्हन की तरह सजा रेलवे स्टेशन पेश कर रहा मेट्रो स्टेशन का नजारा सूखे दरख्तों की कटाई या हरे वृक्षों पर कुल्हाड़ी सुखबीर बादल को भी राजोआना के साथ जेल में बिठाने पर ही होगा पंजाब का माहौल शांत: सिंगला निर्दोष स्कूल ने कैलेन्डर 2020 लांच किया दो दिवसीय पांचवीं वार्षिक कॉन्फ्रेंस मेडिकॉन-2019 आयोजित