ENGLISH HINDI Thursday, October 17, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
सिंघपुरा चौक पर फिर शुरू हुआ टैक्सी वालों से अवैध वसूली का खेल, 1000 मंथली के इलावा 200 रुपए प्रति चक्कर वसूलीसुखबीर का अहंकार ही उसे और अकाली दल को ख़त्म करेगा- कैप्टन अमरिन्दर सिंहमोदी जी हरियाणा में मंदी के पर्याय बन गए: कुमारी सैलजालॉरेट फार्मेसी संस्थान कथोग में पांच दिवसीय इंस्पायर" कैंप सम्पन्नवीआईपी रोड पर बिना पार्किंग दुकानें बनाने की इजाजत मतलब ट्रैफिक जाम, सावित्री इन्क्लेव के दबंगों की दबंगई, मीडियाकर्मियों पर हमलासाईं बाबा का महासमाधि दिवस: 48 घंटे का साईं नाम जाप सम्पन्नरिकॉर्ड की जांच के बाद मार्केट कमेटी बटाला का सचिव मुअत्तलशर्तों के विपरीत किराए पर ले गोदाम किया सबलेट, धमकियां देने के आरोप में दो पर केस दर्ज
राष्ट्रीय

बेहतर चिकित्सा सुविधाओं के बिना अच्छे समाज का निर्माण कठिन: प्रो. रविकांत

June 18, 2019 11:50 AM

ऋषिकेश (ओम रतूड़ी) एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने कहा कि बिना बेहतर चिकित्सा सुविधाओं के बेहतर समाज का निर्माण मुश्किल है, लिहाजा यह विषय प्राथमिकता में होना आवश्यक है। कार्यशाला में बाल रोग विभाग, नियोनेटोलॉजी विभाग के जूनियर चिकित्सक व नर्सिंग अधिकारियों ने प्रतिभाग किया। इस अवसर पर अपने संदेश में एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने कहा कि संस्थान की ओर से नियोनेटोलॉजी विभाग को आधुनिकतम सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं, जिससे मरीजों को बेहतर उपचार मिल सके। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि संस्थागत स्तर पर भविष्य में भी इसकी गुणवत्ता में सुधार की हरसंभव कोशिश की जाएगी। उन्होंने गुणवत्ता सुधार को लेकर संस्थान के नियोनेटोलॉजी विभाग के प्रयासों की सराहना की। एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत ने बताया कि संस्थान रोगियों को वर्ल्ड क्लास स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने को प्रतिबद्ध है और इसको लेकर सततरूप से प्रयास किए जा रहे हैं,जिससे रोगियों को संस्थान में समुचित उपचार मिल सके और उन्हें इसके लिए प्रदेश से बाहर नहीं जाना पड़े। विभागाध्यक्ष प्रोफेसर श्रीपर्णा बासू की देखरेख में आयोजित कार्यशाला में नियोनेटोलॉजी विभाग के अकादमिक चिकित्सक डा. शांतनु शुभम ने गुणवत्ता सुधार की अवधारणाओं से अवगत कराया और गुणवत्ता सुधार के दो चरणों परिवर्तन का विकास और परीक्षण तथा निरंतर सुधार पर चर्चा की। विभाग की अकादमिक चिकित्सक डा. जया उपाध्याय ने गुणवत्ता सुधार के अन्य दो चरणों समस्या की पहचान, टीम का गठन और उद्देश्य व्यक्तव्य लिखना तथा समस्या का विश्लेषण और देखभाल की गुणवत्ता को मापना विषय पर व्याख्यान दिया। उन्होंने अपनी गुणवत्ता सुधार परियोजना विकासात्मक सहायक देखभाल के अनुभव साझा किए, जिसे उन्होंने पूरा किया। विभाग की नर्सिंग अधिकारी गायत्री ने एनआईसीयू में चल रहे गुणवत्ता सुधार परियोजनाओं के साथ अनुभव साझा किया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें