ENGLISH HINDI Monday, November 18, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
पंडित यशोदा नंदन ज्योतिष अनुसंधान केंद्र एवं चेरिटेबल ट्रस्ट (कोटकपूरा ) ने वार्षिक माता का लंगर लगायाछतबीड़ जू में व्हाइट टाइगर 'दिया' ने दिया 4 शावकों को जन्मसरकार विदेशों में, यहां दरिन्दे इंसानियत का कर रहे है 'शिकार' : भगवंत मानगुणवत्तायुक्त शिक्षा के साथ संस्कारों का समावेश जरूरी : राजेंद्र राणासन्यासी ही समाज को दिशा दे सकते हैं :आयुषीजददी जायदाद देखने गए व्यक्ति पर चाचा ने किया हमला मामला दर्जहोटल में युवती के सुसाइड के तार गुड़गांव के बहुचर्चित बिहार के पूर्व डीजीपी के बेटे नीरज दत्त की आत्महत्या के साथ जुड़ेजमीन पर कब्जा करने के आरोप में 7 व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज
चंडीगढ़

शूलिनी यूनिवर्सिटी रिसर्च के क्षेत्र में देश में शीर्ष स्थान पर: खोसला

June 19, 2019 09:30 PM

चंडीगढ़, सुनीता शास्त्री:
हिमाचल प्रदेश स्थित शूलिनी यूनिवर्सिटी, जिसे पिछले तीन वर्षों से राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग फ्रेमवर्क (एनआईआरएफ) द्वारा लगभग 900 यूनिवर्सिटीयों में शीर्ष 15 प्रतिशत के बीच स्थान दिया गया है, अब अपनी विश्वस्तरीय रिसर्च के चलते वैश्विक स्तर पर शूलिनी यूनिवर्सिटी सिर्फ 10 वर्ष पहले स्थापित यूनिवर्सिटी पहले ही इन तीन मापदंडों में देश में शीर्ष स्थान पर है।आज यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, शूलिनी यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रो.पी.के.खोसला ने कहा कि एनआईआरएफ भारतीय रैंकिंग अनुसंधान के लिए केवल 30 प्रतिशत अंक देती है, जबकि 2015-16 में यह 40 प्रतिशत दर्ज की गई थी। टाइम्स हायर एजुकेशन (टीएचई) के वैश्विक मानकों के अनुसार शिक्षण संस्थानों द्वारा किए गए शोध के लिए 60 प्रतिशत अंक आवंटित किए गए हैं।वाइस चांसलर ने कहा कि यूनिवर्सिटी पहले से ही देश के शीर्ष पांच पेटेंट फाइलरों में से एक है और लगभग 100 पेटेंटों की वार्षिक फाइलिंग में कई प्रसिद्ध यूनिवर्सिटीयों से आगे है। उन्होंने कहा कि पिछले 10 वर्षों के दौरान स्थापित संस्थान वास्तव में स्थापित संस्थानों की तुलना में अनुसंधान परिणामों के साथ बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रो. खोसला ने कहा कि यूनिवर्सिटी ने इस वर्ष विभिन्न विभागों के छात्रों के लिए बेहतरीन एवं सराहनीय प्लेसमेंट्स भी प्राप्त की हैं। यूनिवर्सिटी के अथक प्रयासों से कई विषयों में लगभग 100 प्रतिशत प्लेसमेंट हुए हैं, यहां तक कि शीर्ष भारतीय और मल्टी-नेशनल कंपनियों (एमएनसी) ने अपनी एचआर टीमों को प्रतिभाओं को चुनने के लिए भेजा है प्रो.खोसला ने कहा कि औसत पैकेजों की पेशकश 5 लाख रुपए से लेकर 6 लाख रुपए प्रति वर्ष तक है। 15 लाख रुपए का उच्चतम सीटीसी पैकेज हमारे स्टूडेंट आशीष सैनी ने एमएनसी हिल्टी से प्राप्त किया है।उन्होंने घोषणा की कि ईएलईटीएस रैंकिंग 2019 द्वारा यूनिवर्सिटी की इंजीनियरिंग और टेक्नोलॉजी को भारत के शीर्ष 30 निजी इंजीनियरिंग संस्थानों में स्थान दिया गया है।वाइस चांसलर ने कहा कि यूनिवर्सिटी का ध्यान पात्र छात्रों के लिए 100 प्रतिशत प्लेसमेंट प्राप्त करने पर है। हम सिर्फ कुछ स्टूडेंट्स को असाधारण तौरपर हाई पैकेज प्राप्त करने पर केन्द्रित नहीं हैं। प्रो खोसला ने कहा कि यूनिवर्सिटी का मैनेजमेंट प्रोग्राम, जिसे केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा की गई एनआईआरएफ रैंकिंग के अनुसार देश में 65 वां स्थान मिला है, पहले ही 100 प्रतिशत प्लेसमेंट दर्ज कर चुका है। फार्मेसी, 39 वें स्थान पर, पहले से ही फाइनल ईयर 92 प्रतिशत स्टूडेंट्स को प्लेसमेंट प्राप्त हो चुकी है। प्रो.खोसला ने बताया कि कुछ अन्य कार्यक्रमों के लिए प्लेसमेंट एम.एससी. (कैमिस्ट्री) 100 प्रतिशत, सीएसई 100 प्रतिशत, बायो इंजीनियरिंग 85 प्रतिशत, बी.टैक (मैकेनिकल) 88 प्रतिशत, बी.टैक (इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स) 75 प्रतिशत और बी.टैक (सिविल) 90 प्रतिशत है। प्रो खोसला ने कहा कि 20 और कंपनियां इस महीने अपने प्रतिनिधि भेज रही हैं।उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी स्प्रिंट जैसे कार्यक्रमों के माध्यम से स्टूडेंट्स के सॉफ्ट स्किल्स को विकसित करने के लिए विशेष प्रयास करता है और उन्हें इंटरव्यू का सामना करने और ग्रुप डिस्कशन में भाग लेने के लिए प्रशिक्षित करता है। वाइस चांसलर ने कहा कि अनुसंधान मापदंडों में प्लेसमेंट और प्रगति छात्रों के करियर का निर्धारण करती है यूनिवर्सिटी ने दुनिया भर के लगभग 250 यूनिवर्सिटीयों के साथ समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए हैं, वाइस चांसलर ने कहा कि वर्तमान में 50 से अधिक स्टूडेंट एक्सचेंज प्रोग्राम के भाग के रूप में विदेशों में यूनिवर्सिटीयों में अध्ययन कर रहे हैं। इसी तरह, उन्होंने कहा कि शूलिनी यूनिवर्सिटी में काफी संख्या में विदेशी स्टूडेंट पढऱहे हैं। विदेश में अध्ययन करने वाले कई स्टूडेंट विदेश में फंडेंड डॉक्टरेट स्कॉलरशिप को प्राप्त करने में सक्षम हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
पंडित यशोदा नंदन ज्योतिष अनुसंधान केंद्र एवं चेरिटेबल ट्रस्ट (कोटकपूरा ) ने वार्षिक माता का लंगर लगाया गुणवत्तायुक्त शिक्षा के साथ संस्कारों का समावेश जरूरी : राजेंद्र राणा सन्यासी ही समाज को दिशा दे सकते हैं :आयुषी अयोध्या राम मंदिर फैसला: राष्ट्रीय हिन्दू शक्ति संगठन ने सुप्रीम कोर्ट फैसले का किया स्वागत चिल्ड्रेंस डे: एनजीओ द लास्ट बेंचर्स ने स्टूडेंट्स को किया सम्मानित अमृत कैंसर फाउंडेशन और एनजीओ-द लास्ट बेंचर्स और एजी ऑडिट पंजाब ने महिला स्टाफ़ के लिए लगाया कैंसर अवेयरनेस एंड डिटेक्शन कैम्प कैन बायोसिस ने पराली से होने वाले प्रदुषण के समाधान के लिए पेश किया स्पीड कम्पोस्ट रोजाना एक हज़ार बार "धन गुरु नानक" लिख रहें हैं मंजीत शाह सिंह मंदिर बनाने के हक में देर से आया सुप्रीम कोर्ट का दरूसत फैसला- सतिगुरू दलीप सिंह जी पूर्वांचल वेलफेयर एसोसिएशन ने गुरु नानक देव के 550वें प्रकटोत्सव के उपलक्ष्य में छठ पूजा स्थल पर दीपमाला