ENGLISH HINDI Tuesday, October 15, 2019
Follow us on
 
पंजाब

अवैध निर्माणों से जीरकपुर लगातार बन रहा है अर्बन स्लम

June 23, 2019 09:55 PM

जीरकपुर, जे एस कलेर: 

'संईयां भये कोतवाल तो डर काहे का' इसी कहावत को चरितार्थ कर रहे हैं नगर परिषद के कुछेक पार्षद और उनके आका, जिनकी गहन जांच होनी अनिवार्य सी हो चली है। 


लोकल बाॅडीज डिपार्टमेंट की अवैध कॉलोनियों को रेगुलर करने की पॉलिसी की आड़ में जीरकपुर अर्बन स्लम में तब्दील हो रहा है, जिस कारण शहर में बिजली, पानी की कमी होने लगी है। यहां हालत ये है कि इस पॉलिसी की आड़ में चौतरफा अवैध निर्माण हो रहे हैं। अगर इस पर नियंत्रण नहीं किया गया तो जीरकपुर की अनप्लांड डेवलपमेंट की आंच पूरे ट्राइसिटी में पड़ती नजर आ रही है। शहर की ज्यादातर सड़कों पर वाहनों के लंबे—लंबे जाम लगे रहते हैं। विजिलैंस की रेड के बाद लोगों का मानना है यहां फिर से पेरीफेरी एक्ट लगाकर अनप्लांड कंस्ट्रक्शन को रोकने की जरूरत है। कुछ साल पहले पंजाब सरकार ने डेराबस्सी, जीरकपुर समेत पांच निकायों में पेरीफेरी एक्ट लागू किया गया था। उस समय मल्टीस्टोरीज प्रोजेक्ट्स को इस एक्ट से छूट दी गई, जबकि खाली जमीन में कॉलोनी काटने पर इसे लागू किया गया था। तब जीरकपुर, डेराबस्सी सहित 5 नगर निकायों से पेरीफेरी एक्ट लागू किया गया था। बाद में इसे हटा दिया गया। उसके बाद यहां धड़ाधड़ अवैध कालोनियां बननी शुरू हो गई।
बुनियादी सुविधाओं पर नहीं हो रहा काम:
जीरकपुर में आलम यह है कि यहां जितनी रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी है उतनी ही कमर्शियल भी बन रही है। ऐसे में न तो यह पता चल पा रहा है कि कौन सा एरिया रेजिडेंशियल है, कौन से कमर्शियल। दुकानें बना रहे हैं तो उनके लिए पार्किंग नहीं। मकान बन रहे हैं तो उनके लिए मास्टर प्लान अनुसार सड़कें नहीं। एक शहर और उसमें रहने वाले लोगों के लिए बिजली, पानी, सीवेरज, सड़कें, स्कूल, स्टेडियम, पार्क, हाॅस्पिटल और अन्य सुविधाओं पर लोकल बाॅडीज विभाग का जरा भी फोकस नहीं है। यहां रहने वाले लोगों को इन सुविधाओं के लिए चंडीगढ़ पंचकूला पर निर्भर रहना पड़ रहा है।
मकानों से ज्यादा दुकानें:
लोकल बाॅडीज डिपार्टमेंट में बैठे अधिकारी कुछ नहीं कर रहे है। न ही यहां एमसी के अफसर शहर के हित के लिए कोई कदम उठा रहे हैं। हरेक एमसी मीटिंग में गलत निर्माणों को रोकने के लिए अधिकारियों को कहते हैं, पर करते कुछ नहीं। आज शहर में मकानों से ज्यादा दुकानों की संख्या ज्यादा हो गई है।
-कुलविंदर सोही एमसी प्रधान जीरकपुर

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
दर्दनाक: तीन बेटियों के बाद हुआ डेढ़ साल का बेटा माँ की ओर दौड़ रहा था, मौत पीछा कर रही थी, स्कूल बस ने कुचल दिया बठिंडा में वॉक फॉर कैंसर वॉकाथन का आगाज़ जीरकपुर, : त्योहारी सीजन में कैश लैस हुए एटीएम लाखों की लागत से छह साल पहले बना कम्युनिटी सेंटर बना सफेद हाथी, नहीं होते फंक्शन रेल गाड़ी के नीचे आकर बुज़ुर्ग की मौत उत्तराखंड पर्वतीय सभा के रक्तदान शिविर में 43 यूनिट एकत्रित 40 लाख एडवांस लेकर नहीं करवाई प्लाट की रजिस्ट्री, कंपनी के डायरेक्टर सहित 5 पर केस दर्ज गड़बड़झाला: जमीनों की कीमतें बढ़ाने के लिए नेश्नल ग्रीन ट्रिब्यूनल एक्ट की धज्जियां उड़ा रहे कॉलोनाईजर लॉरेट ग्लोबल स्कूल कथोग के छात्रों का शानदार प्रदर्शन कैप्टन अमरिन्दर सिंह सरकार ने दिया कर्मियों और पैनशनरों को दीवाली का तोहफ़ा, एक नवंबर से महंगाई भत्ते में तीन प्रतिशत वृद्धि