ENGLISH HINDI Monday, November 18, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
पंडित यशोदा नंदन ज्योतिष अनुसंधान केंद्र एवं चेरिटेबल ट्रस्ट (कोटकपूरा ) ने वार्षिक माता का लंगर लगायाछतबीड़ जू में व्हाइट टाइगर 'दिया' ने दिया 4 शावकों को जन्मसरकार विदेशों में, यहां दरिन्दे इंसानियत का कर रहे है 'शिकार' : भगवंत मानगुणवत्तायुक्त शिक्षा के साथ संस्कारों का समावेश जरूरी : राजेंद्र राणासन्यासी ही समाज को दिशा दे सकते हैं :आयुषीजददी जायदाद देखने गए व्यक्ति पर चाचा ने किया हमला मामला दर्जहोटल में युवती के सुसाइड के तार गुड़गांव के बहुचर्चित बिहार के पूर्व डीजीपी के बेटे नीरज दत्त की आत्महत्या के साथ जुड़ेजमीन पर कब्जा करने के आरोप में 7 व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज
हिमाचल प्रदेश

राजकीय सम्मान के साथ स्वतंत्रता सेनानी का अंतिम संस्कार

June 26, 2019 07:33 PM

ज्वालामुखी, (विजयेन्दर शर्मा)
स्वतंत्रता सेनानी पंडित सुशील रत्न का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया गया। बुधवार को स्वतंत्रता सेनानी के अंतिम दर्षनों के लिए सैकड़ों की संख्या में लोग ज्वालामुखी पहुंचे हुए थे।
उपायुक्त राकेष प्रजापति ने राज्यपाल आचार्य देवव्रत तथा मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, मुख्य सचिव बीके अग्रवाल की ओर से पार्थिव ष्षरीर पर फूल मालाएं अर्पित कर भावभीनी श्रद्वांजलि दी वहीं एएसपी दिनेष कुमार ने डीजीपी की तरफ से पुष्पमाला अर्पित की गई।
योजना आयोग के उपाध्यक्ष रमेष ध्वाला सहित विधायक पवन काजल, विधायक ए बुटेल, कांग्रेस प्रदेषाध्यक्ष कुलदीप राठौर सहित विभिन्न गणमान्य लोगों ने भी अंतिम संस्कार में भाग लिया तथा ष्षोकाकुल परिवार के प्रति अपनी गहरी सांत्वना व्यक्त कीं। पार्थिव देह को बडे बेटे मनोज संजय रत्न ने मुखाग्नि दी। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने अपने शोक संदेश में कहा कि स्वतंत्रता सेनानी सुशील रतन के निधन का समाचार सुनकर उन्हें बहुत दुःख हुआ है। उन्होंने समाज को अपनी बहुमूल्य सेवाएं दीं और भारत के स्वतंत्रता संग्राम में भी सक्रिय रूप से भाग लिया। मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की शांति की प्रार्थना करते हुए उनके परिजनों के साथ संवेदनाएं व्यक्त की हैं।
सुशील रत्न वर्ष 1985 से 1990 तक खादी कल्याण बोर्ड के उपाध्यक्ष रहे. इसके बाद वर्ष 2003 से 2007 तक उन्हें स्वतंत्रता सेनानी कल्याण बोर्ड के उपाध्यक्ष का जिम्मा दिया गया। इसके बाद वह 2013 से 2017 तक फिर से इसी पद पर आसीन रहे। वर्तमान में भी वह भारत सरकार के गह मंत्रालय के तहत स्वतंत्रता सेनानी कल्याण के लिए बनी छह सदस्यीय समिति के सदस्य रहे। उनके बेटे संजय रत्न ज्वालामुखी से कांग्रेस के पूर्व विधायक हैं। 31 मार्च 1924 को देहरा के गरली में जन्मे सुशील रत्न पब्लिक रिलेशन ऑफिसर के पद से वर्ष 1982 में रिटायर होने के बाद से ही राजनीति में आ गए उन्होंने 1985 व 1990 में कांग्रेस टिकट पर ज्वालामुखी से विधानसभा का चुनाव लड़ा, पर दोनों ही मर्तबा हार गए. वर्ष 1985 से 1990 तक खादी वोर्ड के उपाध्यक्ष भी रहे। 2003 से 2007 तक और 2013 से 2017 तक स्वत्रतां सेनानी कल्याण बोर्ड के उपाध्यक्ष रहे। 31 मार्च को हाल ही में उन्होंने परिवार संग अपना जन्मदिन बनाया था। वर्तमान में गृह मत्रांलय में भारत सरकार की हाई पावर कमेटी के सदस्य भी थे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन मेंबर रचना गुप्ता की गलोबल इन्वैस्टर मीट में मौजूदगी से मचा बवाल आरसीईपी में शामिल ना होना किसानों, नौजवानों और एमएसएमई के हक़ में: ठाकुर कांग्रेस सरकार के समय पुनर्नियुक्तियों पर आलोचना करने वाली भाजपा आज उसी रास्ते पर चली-दीपक शर्मा पालमपुर को शीघ्र दिया जाएगा नगर निगम का दर्जा: सरवीन चौधरी हिमाचल में क्या राजनीतिक नेतृत्व ख़त्म हो चुका जो पीएम और केंद्रीय मंत्रियों से अफ़सर बैठकें कर रहे: महेश्वर चौहान ई कॉमर्स के अनैतिक व्यापार ने तोड़ी व्यापारियों की कमर पर्यावरण को बचाने के लिए निकाली रैली लॉरेट फार्मेसी संस्थान कथोग में पांच दिवसीय इंस्पायर" कैंप सम्पन्न "इंस्पायर" कैंप में छात्र छात्राओं ने रसायन विज्ञान और नैनो साइंस के तथ्यों को जाना धर्मशाला का विकास कांग्रेस की देन-ठाकुर कौल सिंह