ENGLISH HINDI Monday, October 21, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

स्वस्थ रहना है तो जरूर करो रक्तदान: प्रो. रविकांत

June 28, 2019 09:39 PM

ऋषिकेश (ओम रतूड़ी) अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में विश्व रक्तदाता दिवस के उपलक्ष्य में जनजागरुकता कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें लोगों को स्वैच्छिक रक्तदान के लिए प्रेरित किया गया। साथ ही रक्तदाताओं, रक्तदान शिविरों के आयोजन में जुटी संस्थाओं के प्रतिनिधियों को सम्मानित किया गया। एम्स में शुक्रवार को विश्व रक्तदाता दिवस के तहत स्वैच्छिक रक्तदान जनजागरुकता कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें बतौर मुख्य अतिथि संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने लोगों को स्वैच्छिक रक्तदान के लिए प्रेरित किया साथ ही दूसरे लोगों को भी इसके लिए जागरुक करने के लिए आगे आने का आह्वान किया। इस दौरान निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने उन्हें रक्तदान का महत्व बताया, उन्होंने कहा कि रक्तदान से किसी जरुरतमंद को जीवनदान दिया जा सकता है, लिहाजा प्रत्येक स्वस्थ मनुष्य को रक्तदान अवश्य करना चाहिए। ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन ब्लड बैंक विभागाध्यक्ष डा. गीता नेगी ने बताया कि 14 जून विश्व रक्तदाता दिवस के उपलक्ष्य में एम्स संस्थान की ओर से माहभर स्वैच्छिक रक्तदान के लिए विभिन्न जनजागरुकता कार्यक्रम आयोजित किए गए। जिसके तहत इस माह में अब तक ऋषिकेश, हरिद्वार व देहरादून में विभिन्न संस्थाओं के सहयोग से पांच रक्तदान शिविर आयोजित किए जा चुके हैं। इसके अलावा व्याख्यानमाला के साथ ही पोस्टर, क्विज प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। इस अवसर पर निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत, एमएस डा. ब्रह्मप्रकाश, प्रोफेसर मनोज गुप्ता, डा. किम जैकब मैमन, प्रो. लतिका मोहन ने एम्स संस्थान की ओर से 50 से अधिक स्वैच्छिक रक्तदाताओं व रक्तदान शिविरों के आयोजन में बढ़चढ़कर भागीदारी करने वाले सामाजिक कार्यकर्ताओं को सम्मानित किया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये