ENGLISH HINDI Friday, September 20, 2019
Follow us on
 
हरियाणा

मैगा स्टेट मॉक एक्सरसाइज का अवलोकन, आपदा से पूर्व सरकारी तंत्र को हर पल तैयार रहे: मुख्यमंत्री

June 28, 2019 09:54 PM

चण्डीगढ़, फेस2न्यूज:
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि प्राकृतिक आपदाएं न आए तो ही अच्छा है, परंतु प्रकृति के आगे किसी का बस नहीं चलता। भूकंप जैसी त्रासदी में तो स्थिति और भी भयंकर होती है। एक और जहां जान-माल का नुकसान होता है तो वहीं इन्फ्रास्ट्रक्चर जैसे रेल, सडक़ या अन्य को भी नुकसान पहुंचता है। इसलिए समय पूर्व लोगों को सचेत और सरकारी तंत्र को हर पल तैयार रहना चाहिए।
मुख्यमंत्री आज राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के भूकंप संभावित जोन में पडऩे वाले हरियाणा के फरीदाबाद, गुरुग्राम, झज्जर व सोनीपत जिलों में भूकंप आपदा प्रबंधन पर राष्ट्रीय आपदा प्रबंध प्राधिकरण के तत्वाधान में एकसाथ आयोजित मैगा स्टेट मॉक एक्सरसाइज का फरीदाबाद के लघु सचिवालय से अवलोकन कर रहे थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि आपदा प्रबंधन को लेकर की जाने वाली मॉक एक्सरसाइज का मूल उद्देश्य यही है कि आपदा के समय हर प्रकार की परिस्थिति से निपटने के लिए केवल प्रशासनिक तंत्र ही चौकन्ना न रहे बल्कि आमजन भी इस बारे में जागरुक रहे। उन्होंने कहा कि अलग-अलग विभागों से जुड़े सभी प्रतिनिधि मॉक एक्सरसाइज के माध्यम से आपदा के समय किए जाने वाले बचाव कार्य में अधिक निपुणता भी हासिल करते हैं। उन्होंने मौके पर आपदा से बचाव से संबंधित विभिन्न तकनीकि पहलुओं पर भी चर्चा की। साथ ही मुख्यमंत्री ने उम्मीद जताई कि जिस उद्देश्य के साथ प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में मॉक एक्सरसाइज का आयोजन किया गया है वह परिपूर्ण होगा और किसी भी प्राकृतिक आपदा में कुशलता के साथ बचाव कार्यों को पूरा किया जा सकेगा।
अग्निश्मन के अधिकारियों द्वारा सचिवालय की छठी मंजिल से मॉक एक्सरसाइज के दौरान आपदा की स्थिति में फसे लोगों के बचाव करने एवं प्राथमिक उपचार के साथ-साथ उन्हें अस्पतालों में पहुंचाने की मॉक एक्सरसाइज की।
उल्लेखनीय है कि हरियाणा उच्च भूकंपीय क्षेत्र में आता है और इसलिए, यह क्षेत्र भूकंप की चपेट में है। एक्सरसाइज के दौरान एमएसके तीव्रता 8 के साथ रिक्टर स्केल पर 7 को मापने वाले भूकंप को जयपुर रिज और सोहना फॉल्ट लाइन के साथ गुरुग्राम के पश्चिम में अपने केंद्र के साथ मापा गया। बिजली, पानी और दूरसंचार जैसी महत्वपूर्ण सेवाएं क्षतिग्रस्त हो गईं। राज्य के 4 जिलों में 21 स्थानों पर मॉक एक्सरसाइज की गई।
एक्सरसाइज शुरू करने के लिए, चयनित इमारतों के सभी रहने वालों ने डक, कवर और होल्ड गतिविधि का संचालन किया। इसके बाद, राज्य आपातकालीन संचालन केंद्र और सभी संबंधित जिला आपातकालीन ऑपरेशन केंद्र सक्रिय हो गए। राज्य के आपातकालीन ऑपरेशन केंद्र में मुख्य सचिव श्री डी.एस.ढेसी, राजस्व एवं आपदा प्रबन्धन विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव तथा वित्तायुक्त श्रीमती केशनी आनन्द अरोड़ा, गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री एस.एस.प्रसाद, खाद्य, नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता मामले विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री एस.एन.राय और पुलिस महानिदेशक श्री मनोज यादव के अलावा अन्य सम्बंधित विभागों के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे। प्रारंभिक क्षति के आकलन के बाद, बचाव और राहत अभियान शुरू किया गया। जिलों की जनशक्ति और मशीनरी संसाधन उन सभी जिलों में ‘स्टेजिंग एरिया’ में एकत्रित हुए, जिन्हें घटना स्थलों पर तैनात किया गया। घटना कमांडरों के मार्गदर्शन में बचाव दल का गठन किया गया और संबंधित स्थलों पर भेज दिया गया।
मलबे के नीचे दबे लोगों को प्राथमिक चिकित्सा सहायता के बाद बचा लिया गया और अस्पतालों में भेज दिया गया। इस मल्टी स्टेट मॉक एक्सरसाइज में 34 की मौत, 148 गंभीर रूप से घायल और मामूली रूप से घायल 178 व्यक्ति थे।
जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी और दूरसंचार ऑपरेटरों द्वारा दूरसंचार सेवाओं, बिजली और पानी की आपूर्ति को धीरे-धीरे बहाल किया गया। झज्जर और फरीदाबाद ने प्रभावी प्रतिक्रिया शुरू करने के लिए नुकसान का आकलन करने हेतु ड्रोन का इस्तेमाल किया। एक्सरसाइज के दौरान सेना की 3 टीमें, एनडीआरएफ की 3 टीमें और आईटीबीपी की 1 टीम इन जिलों में तैनात की गई । जिला मशीनरी और केंद्रीय एजेंसियों की प्रतिक्रिया के लिए इन जिलों में लगभग 36 टीमों को तैनात किया गया था।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और हरियाणा ख़बरें