ENGLISH HINDI Monday, October 21, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

पिंक सिटी की तर्ज पर पौड़ी को विकसित करने है योजना

June 30, 2019 06:25 PM

पौड़ी (ओम रतूड़ी) मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि गढ़वाल मंडल के मुख्यालय पौड़ी को जयपुर की तर्ज पर विकसित किया जायगा। प्रयास रहेगा कि पौड़ी में सभी इमारतें एक ही रंग में हों। इससे पौड़ी को एक नई पहचान मिलेगी। उन्होंने कहा कि पौड़ी के कोट स्थित सीता माता की समाधि स्थल फलस्वाड़ी को टूरिस्ट सर्किट के रूप में विकसित किए जाने के निर्देश दिए हैं। सर्किट के ल्वाली में बनने वाली झील से जुड़ने पर पर्यटन विकास के रास्ते खुलेंगे। इससे स्थानीय आर्थिकी सशक्त तो होगी ही, रोजगार के अवसर भी सृजित हो सकेंगे। साथ ही क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। साथ ही सीएम ने कहा कि क्षेत्र के विकास के लिए हर संभव प्रयास किए जाएंगे। जिले के विकास के लिए पौड़ी में 2 अरब रुपये खर्च किये जाएंगे। जिसकी जिम्मेदारी पर्यटन विभाग को दी जाएगी, ताकि बजट पौड़ी के पार्कों, सड़कों के सौंदर्यीकरण पर खर्चा किया जा सके। साथ ही ऊंचाई वाले क्षेत्रों को भी विकास की योजनाओं से जोड़ने के निर्देश दिए। सीएम ने आगे कहा कि पौड़ी को जयपुर की तरह ही, कलर सिटी की तरह विकसित किया जाएगा। सीएम ने कहा कि जनपद में साहसिक खेल गतिविधि निदेशालय बनाया जाएगा, जिसके लिए जमीन तलाशी जा रही है। उन्होंने बताया कि एनसीसी अकादमी के लिए पौड़ी के देवार में निशुल्क भूमि मिल चुकी है और इसके बनने के बाद यहां प्रतिवर्ष 35 से 40 हजार लोग प्रशिक्षण लेंगे। साथ ही सीएम ने कहा कि ल्वाली झील के निर्माण के बाद यहां पर करीब 70 लाख लीटर पानी एकत्र होगा। वहीं, पिथौरागढ़ में ट्यूलिप गार्डन 50 हेक्टर पर बनाया जएगा। जिसके लिए 50 करोड़ खर्च होगा। यहां पर 8 महीनों तक फूल खिले रहेंगे। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए टिहरी में सी प्लेन को उतारने के लिए 3 जुलाई को एमओयू होगा।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये