ENGLISH HINDI Monday, November 18, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
पंडित यशोदा नंदन ज्योतिष अनुसंधान केंद्र एवं चेरिटेबल ट्रस्ट (कोटकपूरा ) ने वार्षिक माता का लंगर लगायाछतबीड़ जू में व्हाइट टाइगर 'दिया' ने दिया 4 शावकों को जन्मसरकार विदेशों में, यहां दरिन्दे इंसानियत का कर रहे है 'शिकार' : भगवंत मानगुणवत्तायुक्त शिक्षा के साथ संस्कारों का समावेश जरूरी : राजेंद्र राणासन्यासी ही समाज को दिशा दे सकते हैं :आयुषीजददी जायदाद देखने गए व्यक्ति पर चाचा ने किया हमला मामला दर्जहोटल में युवती के सुसाइड के तार गुड़गांव के बहुचर्चित बिहार के पूर्व डीजीपी के बेटे नीरज दत्त की आत्महत्या के साथ जुड़ेजमीन पर कब्जा करने के आरोप में 7 व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज
चंडीगढ़

डॉक्टर ने दो गरीब बच्चों की कोक्लेयर इम्प्लांट सर्जरी के लिए वित्तीय मदद प्रदान की

July 08, 2019 08:47 PM

चंडीगढ़,सुनीता शास्त्री।

अस्पताल में डॉक्टर ने मानवीय पहल के तहत दो गरीब बच्चों की कोक्लेयर इम्प्लांट सर्जरी के लिए वित्तीय मदद प्रदान की। डॉ.धीरज गुरविंदर सिंह, ईएनटी सर्जन ने अपने बड़े भाई जसबीर सिंह धीरज, जो अमेरिका में एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं, की मदद से दो बच्चों की सर्जरी की आधी लागत के लिए फंड्स प्रदान किए।

नेपाली प्रवासी मजदूर के बच्चे का कुछ महीने पहले इलाज किया गया था, जबकि दिल्ली के एक ऑटो रिक्शा चालक की 3-वर्षीय बच्ची की आज शैल्बी अस्पताल में डॉ. सिंह व डॉ.ए.के. लहरी सीनियर ईएनटी कंसल्टेंट, सर गंगा राम अस्पताल दिल्ली द्वारा सफलतापूर्वक कोक्लेयर इम्प्लांट सर्जरी की गई।

डॉ.धीरज गुरविंदर सिंह ने आज शैल्बी अस्पताल में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मीडिया से बात करते हुए कहा कि कोक्लेयर इम्प्लांट की उच्च लागत के कारण गरीब परिवारों के बच्चे अक्सर इस सुविधा से वंचित रह जाते हैं। उन्होंने कहा कि मैं और मेरा भाई सिर्फ उन गरीब बच्चों की मदद करना चाहते हैं जिनके परिवार पैसे की कमी के कारण ये इम्प्लांट नहीं लगवा सकते हैं। डॉ.सिंह ने बताया कि कोक्लेयर इम्प्लांट सर्जरी के बाद, बच्चे सामान्य रूप से 2-सप्ताह के बाद अच्छी तरह से सुनने में सक्षम होते हैं।

बाद में वे स्पीच स्पेशलिसट से ट्रेनिंग लेना शुरू करते हैं और सामान्य जीवन जीने में सक्षम होते हैं।डॉ. लहरी जो भारत में पहले कोक्लेयर इम्प्लांट सर्जनों में से एक हैं, ने बताया कि जन्मजात बहरापन एक हजार नवजात शिशुओं में लगभग 1 से 2 में पाया जा सकता है। ऐसे बच्चों के लिए कोक्लेयर इम्प्लांट ही एकमात्र उपाय है जो बच्चे को सुनने की क्षमता दे सकता है। हम नए जन्मे शिशुओं के बीच इस समस्या को जल्द से जल्द पहचानना चाहते हैं ताकि कोक्लेयर इम्प्लांट सर्जरी से उनकी सुनने की क्षमता को बेहतर किया जा सके। सर्जरी के बाद स्पीच थेरेपी को शुरू किया जाता है ताकि बच्चे स्पीच प्रोसेस को सीखना शुरू कर सकें जो कि इन बच्चों में पहले से विकसित नहीं होती है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
पंडित यशोदा नंदन ज्योतिष अनुसंधान केंद्र एवं चेरिटेबल ट्रस्ट (कोटकपूरा ) ने वार्षिक माता का लंगर लगाया गुणवत्तायुक्त शिक्षा के साथ संस्कारों का समावेश जरूरी : राजेंद्र राणा सन्यासी ही समाज को दिशा दे सकते हैं :आयुषी अयोध्या राम मंदिर फैसला: राष्ट्रीय हिन्दू शक्ति संगठन ने सुप्रीम कोर्ट फैसले का किया स्वागत चिल्ड्रेंस डे: एनजीओ द लास्ट बेंचर्स ने स्टूडेंट्स को किया सम्मानित अमृत कैंसर फाउंडेशन और एनजीओ-द लास्ट बेंचर्स और एजी ऑडिट पंजाब ने महिला स्टाफ़ के लिए लगाया कैंसर अवेयरनेस एंड डिटेक्शन कैम्प कैन बायोसिस ने पराली से होने वाले प्रदुषण के समाधान के लिए पेश किया स्पीड कम्पोस्ट रोजाना एक हज़ार बार "धन गुरु नानक" लिख रहें हैं मंजीत शाह सिंह मंदिर बनाने के हक में देर से आया सुप्रीम कोर्ट का दरूसत फैसला- सतिगुरू दलीप सिंह जी पूर्वांचल वेलफेयर एसोसिएशन ने गुरु नानक देव के 550वें प्रकटोत्सव के उपलक्ष्य में छठ पूजा स्थल पर दीपमाला