ENGLISH HINDI Thursday, October 17, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
सिंघपुरा चौक पर फिर शुरू हुआ टैक्सी वालों से अवैध वसूली का खेल, 1000 मंथली के इलावा 200 रुपए प्रति चक्कर वसूलीसुखबीर का अहंकार ही उसे और अकाली दल को ख़त्म करेगा- कैप्टन अमरिन्दर सिंहमोदी जी हरियाणा में मंदी के पर्याय बन गए: कुमारी सैलजालॉरेट फार्मेसी संस्थान कथोग में पांच दिवसीय इंस्पायर" कैंप सम्पन्नवीआईपी रोड पर बिना पार्किंग दुकानें बनाने की इजाजत मतलब ट्रैफिक जाम, सावित्री इन्क्लेव के दबंगों की दबंगई, मीडियाकर्मियों पर हमलासाईं बाबा का महासमाधि दिवस: 48 घंटे का साईं नाम जाप सम्पन्नरिकॉर्ड की जांच के बाद मार्केट कमेटी बटाला का सचिव मुअत्तलशर्तों के विपरीत किराए पर ले गोदाम किया सबलेट, धमकियां देने के आरोप में दो पर केस दर्ज
राष्ट्रीय

मरीजों व तीमारदारों के लिये बनेगी रसोई

July 09, 2019 06:09 PM

ऋषिकेश (ओम रतूड़ी) अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में भर्ती होने वाले मरीजों व उनके तीमारदारों के भोजन के प्रबंधन के लिए संस्थान की ओर से किचन का निर्माण शुरू हो गया है। संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने निर्माणाधीन योजना का निरीक्षण किया और इंजीनियरिंग विभाग को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। गौरतलब है कि अब तक संस्थान में इसके लिए अस्थायी रसोई संचालित की जा रही था, जबकि तीमारदार कैंटीन में भोजन करते थे। निदेशक एम्स ने बताया कि फिलहाल संस्थान में भर्ती मरीजों के लिए कुछ कमरों में बने अस्थायी किचन में भोजन पकाने की व्यवस्था संचालित की जा रही थी। लिहाजा मरीजों व उनके तीमारदारों की सुविधा के लिए अब स्थायी कीचन योजना का निर्माण किया जा रहा है। प्रो.कांत ने बताया कि किचन का निर्माण भूमि की कमी के अभाव में संस्थान परिसर में निर्माणाधीन ऑटो वाक के नीचे खाली भूमि पर किया जा रहा है, जिससे उक्त खाली भूखंड को उपयोग में लाया जा सके। उन्होंने बताया कि किचन का निर्माण में लगभग छह माह का समय लग सकता है, इसके बाद किचन का संचालन शुरू कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि फौरीतौर पर कीचन को फूड प्लाजा में शिफ्ट किया जाएगा। जहां से मरीजों के लिए भोजन बनाकर वार्डों में भेजा जाएगा। निरीक्षण के दौरान एम्स निदेशक ने कीचन का निर्माण प्रस्तावित स्थान से अधिक भूखंड पर करने के निर्देश दिए हैं,जिससे यहां पर मरीजों के तीमारदारों को भोजन में स्थानाभाव की दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़े। एम्स के अधिशासी अभियंता एनपी सिंह ने बताया कि इससे पूर्व कीचन का निर्माण 350 वर्गगज में प्रस्तावित था, निरीक्षण के दौरान निदेशक की ओर से इसका दायरा 200 वर्गगज बढ़ाने को कहा गया है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें