ENGLISH HINDI Sunday, May 31, 2020
Follow us on
 
पंजाब

पानी की बर्बादी के विरुद्ध सख्त रूख इख्तियार

July 12, 2019 12:48 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने पानी की बर्बादी के विरुद्ध सख्त रूख अपनाते हुए इस अहम संसाधन के संरक्षण को यकीनी बनाने के लिए निर्देश जारी किये हैं और इसके साथ ही उन्होंने पानी के बिलों का भुगतान न करने वालों के लिए दंड का प्रावधान करने का फ़ैसला किया है।
मुख्यमंत्री ने अर्बन रीन्युवल एंड रिफोर्मज़ कोंसलटेटिव ग्रुप की दूसरी मीटिंग में पानी की राज्य में बहुत ज़्यादा कमी की स्थिति का जायज़ा लेते हुए पानी की बर्बादी के विरुद्ध जंग शुरू करने के निर्देश जारी किये हैं।    

पानी के बिलों का भुगतान न करने वालों को दंड और जल संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए नये कानून/संशोधनों की वकालत


कैप्टन ने इस सम्बन्ध में नियमों को सख्ती से लागू करने पर ज़ोर देते हुए सम्बन्धित विभागों को इनमें की जाने वाले ज़रूरी संशोधनों संबधी सुझाव देने के निर्देश दिए जिससे पानी की बर्बादी करने वालों को रोकने के लिए उनके बनते पानी के बकाए के भुगतान के लिए मजबूर किया जा सके। उन्होंने कहा कि अगर ज़रूरत पड़ी तो राज्य पानी के संरक्षण और पंजाब को बंजर बनने से रोकने को यकीनी बनाने के लिए अलग कानून ला सकता है।
मीटिंग के बाद प्रवक्ता ने बताया कि उन्होंने राज्य की पोश इलाकों के बड़े घरों में पानी की बर्बादी को रोकने के लिए मीटर लगाने संबंधी विभाग को फ़ैसला लेने के लिए कहा। मीटिंग में पानी की बर्बादी को रोकने के लिए बढ़ी दरें लगाने की संभावनाओं पर विचार किया गया है। इसके साथ ही जल सप्लाई /सिवरेज के संचालन के लिए ओ एंड एम बनाने पर भी विचार किया गया।
पानी के संरक्षण के सम्बन्ध में लोगों में जागरूकता पैदा करने की ज़रूरत पर ज़ोर देते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने स्थानीय निकाय और जल सप्लाई एवं सेनिटेशन विभागों को विशेष कैंप लगाने के लिए कहा जिससे पानी के संरक्षण की ज़रूरत संबंधी खासतौर पर ग्रामीण लोगों को संवेदनशील बनाने के साथ-साथ उनको जागरूक भी किया जा सके। उन्होंने विधायकों को जि़ला, सब-डिविजऩ और ब्लॉक स्तर पर लोगों के साथ संपर्क प्रोग्राम आयोजित करने की अपील की जिससे पानी की बूँद-बूँद की बचत करने के लिए जनमत को लामबंद किया जा सके।
मॉनसून के सीजन के दौरान पानी की निकासी की समस्या से निपटने के लिए मुख्यमंत्री ने स्थानीय निकाय के प्रमुख सचिव को अचानक और लम्बी मियाद की व्यापक नीति तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने बंद पड़ी सिवरेज लाईनों की सफ़ाई के लिए सुपर सक्कर और जैट मशीनों का प्रबंध करने के लिए स्थानीय निकाय विभाग को कहा। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने शहरी इलाकों में सिवरेज लाईनों में बाढ़ों जैसी स्थिति से बचने के लिए जल सप्लाई और सिवरेज बोर्ड के साथ विचार-विमर्श के द्वारा स्थानीय निकाय विभाग को समयबद्ध कार्य योजना तैयार करने के लिए कहा है।
मुख्यमंत्री ने 14वें वित्त आयोग के तहत 221 करोड़ रुपए के फंड स्थानीय निकाय विभाग को तुरंत जारी करने के लिए वित्त विभाग को कहा है जिससे शहरी स्थानीय संस्थाओं में विकास के कार्य किये जा सकें। प्रमुख सचिव वित्त ने मुख्यमंत्री को भरोसा दिलाया कि यह फंड विभाग को 10 दिनों के अंदर जारी कर दिए जाएंगे।
कैप्टन ने जल-सप्लाई, सिवरेज, स्ट्रीट लाईटों और इमारती उल्लंघनाओं को नियमित करने के लिए ओ.टी.एस के रूप में शहरी बुनियादी ढांचे का स्तर ऊँचा उठाने के अलावा प्राथमिक शहरी सुविधाओं की मज़बूती से सम्बन्धित बुनियादी मुद्दों की पहचान करने के लिए स्थानीय निकाय मंत्री को तुरंत विधायकों, संसद सदस्यों और निगमों के मेयरों की मीटिंग बुलाने के लिए कहा है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
पंजाब विजीलैंस ब्यूरो द्वारा 8 अधिकारियों और कर्मचारियों को दी गई सामान्य विदाई परिवहन साधनों द्वारा पंजाब में आने वालों के लिए दिशा-निर्देश जारी पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड ने घोषित किया पाँचवी, आठवीं और दसवीं कक्षा का परिणाम पंजाब के ब्राह्मणों ने की अल्पसंख्यक में शामिल करने की मांग शिक्षा विभाग में ठेके पर काम करते 496 कर्मियों के कार्यकाल में साल की वृद्धि को मंज़ूरी अध्यापक के 12 वर्षीय गुमशुदा लड़के की वापसी के लिए उपायुक्त ने लखनऊ भेजी कार, दो महीने बाद परिवार से मिला बच्चा जुर्माने में भारी वृद्धि: अब सार्वजनिक स्थानों पर मास्क न पहनने पर होगा 500 रुपए का जुर्माना बीज घोटाला: सीबीआई से जांच के डर से राज्यभर के सीइएओ ने बीज की दुकानों पर दौड़ाई टीमें रेलगाडिय़ों से यात्रा करने वालों के लिए दिशा-निर्देश जारी सामाजिक सुरक्षा विभाग में 94 सुपरवाइजऱ पदों के नतीजों का एलान