ENGLISH HINDI Tuesday, September 17, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

मूल्यों के अभाव से बढ़ रही सामाजिक विकृतियां

July 12, 2019 06:19 PM

माउंट आबू, फेस2न्यूज ब्यूरो:
प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के ज्ञान सरोवर अकादमी परिसर में तीन दिवसीय प्रशासक सेवा प्रभाग का राष्ट्रीय सम्मेलन शुक्रवार को विभिन्न सत्रों में हुई चर्चा के बाद सपंन्न हुआ।

 सम्मेलन के समापन सत्र को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्रालय कम्पीटीशन आयोग के पूर्व अध्यक्ष सुधीर मित्तल ने कहा कि मूल्यों के अभाव से ही समाज में विकृत वृत्तियों से दुष्कर्म बढ़ते जा रहे हैं। नैतिक मूल्यों का अवमूल्यन रोकने के लिए प्रशासन को सदैव मुस्तैद रहना चाहिए। ब्रह्माकुमारी संगठन का प्रशासन काबिले तारीफ है जो समूचे विश्व में भारतीय संस्कृति के अनुरुप मूल्यों का प्रसार करने में सफलतापूर्वक आगे बढ़ रहा है।

शिक्षा प्रभाग अध्यक्ष बीके मृत्युजंय ने कहा कि लोकतंत्र में प्रशासन की भूमिका महत्वपूर्ण है। प्रशासन को सजगता से ही लोगों को विकास का लाभ पहुंचाकर बेहतर सेवाएं दी जा सकती हैं। प्रशासन में सफलता का राज मूल्यों में समाया हुआ है।
प्रशासक सेवा प्रभाग मुख्यालय संयोजक बीके हरीश ने कहा कि प्रशासन को कसौटी पर खरा उतारने के लिए प्रशासकों की पारदर्शिता भेदभाव रहित होनी चाहिए। प्रशासनिक सूझबूझ से ही जनसमस्याओं का समुचित निराकरण होने पर सामाजिक ढांचे को सही दिशा मिल सकती है।


पुलिस महानिरीक्षक आंतरिक सुरक्षा अकादमी निदेशक के.एस. भण्डारी ने कहा कि बेहतर व प्रेरणादायी प्रशासन के लिए नीतिनिर्धारकों का जनता के साथ पारिवारिक महौल के साथ आपसी समन्वय होना जरूरी है। कुशल प्रशासकों के कर्मों की दिव्यता व कुशलता से जनता भी सहयोगात्मक रवैया बनाए रखती है। वे अपने क्षेत्र की, समाज की व राष्ट्र की उन्नति करने में सदैव तत्पर रहकर जनता का दिल जीतकर आशीर्वाद का पात्र बन जाते हैं। यह कर्मक्षेत्र है, मनुष्य ऐसे कर्म करे जो घर-घर को स्वर्ग बना दे। सर्वशक्तिवान परमात्मा को साथ रखने से कर्म सदैव फलदायक होंगे।
प्रशासक प्रभाग अध्यक्षा बीके आशा बहन ने कहा कि प्रशासनिक सेवाएं लोककल्याण के लिए होती हैं। परिस्थितियों के बदलते परिवेश में लोगों की अपेक्षाओं को पूर्ण करना कठिन कार्य होता है। ऐसे मौके पर धैर्यता से काम लेने की जरूरत पड़ती है जिसके लिए स्वयं के जीवन में आध्यात्मिकता को भी प्राथमिकता देनी चाहिए।
शिक्षा प्रभाग अध्यक्ष बीके मृत्युजंय ने कहा कि लोकतंत्र में प्रशासन की भूमिका महत्वपूर्ण है। प्रशासन को सजगता से ही लोगों को विकास का लाभ पहुंचाकर बेहतर सेवाएं दी जा सकती हैं। प्रशासन में सफलता का राज मूल्यों में समाया हुआ है।
प्रशासक सेवा प्रभाग मुख्यालय संयोजक बीके हरीश ने कहा कि प्रशासन को कसौटी पर खरा उतारने के लिए प्रशासकों की पारदर्शिता भेदभाव रहित होनी चाहिए। प्रशासनिक सूझबूझ से ही जनसमस्याओं का समुचित निराकरण होने पर सामाजिक ढांचे को सही दिशा मिल सकती है।
प्रभाग की अधिशासी सदस्या बीके रीना बहन ने कहा कि अध्यात्म से ओतप्रोत मनुष्य निरपेक्ष प्रशासन देने में सक्षम होता है। जिससे वह प्रशासनिक कार्यों में बेहतर परिणाम देकर प्रेरणादायी बन जाता है।
प्रभाग की अधिशासी सदस्या बीके मधु बहन ने कहा कि अच्छे कर्म करने से पवित्रता, शांति, प्रेम, खुशी व शक्ति का जीवन में संचार होता है। जीवन का अज्ञान अंधकार दूर हो जाता है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें