ENGLISH HINDI Monday, August 26, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
नैक्टर लाईफ़ केमिकल फैक्ट्री में हादसे के मामले में डीसी ने जांच के दिए आदेश , 16 ज़ख़्मियों में से एक की हालत गंभीर ब्राह्मण समाज के बेरोजगार नौजवानों के लिए रोजगार के प्रबंध कराएगा ब्राह्मण यूथ विंगबठिंडा में तीन दिवसीय 12वीं जूनियर स्टेट नैटबॉल चेंपिअनशिप 2019-20 धूमधाम से संपन्न पुलिस प्रशासन की नाक के नीचे किसके सरंक्षण में चल रहे अवैध आटो?डॉक्टरों की लापरवाही से गई मासूम की जान, स्वास्थ्य मंत्री ने दिए जांच के आदेशनिकासी प्रबंधों का आभाव: आधे घंटे की बरसात में ही भबात की सड़कों में भरा पानीकरंट लगने से राजमिस्त्री की मौत का मामला :तिवारी - दुबे ने पुलिस चौकी एवं थाने का घेराव कियासेक्टर 18 की चर्च में लगाया गया जांच शिविर
चंडीगढ़

काजल मंगलमुखी शुरू करेंगी किन्नरों के अधिकारों की लड़ाई

July 19, 2019 11:04 AM

चण्डीगढ़, फेस2न्यूज:
मंगलमुखी ट्रांसजेंडर वेलफेयर सोसाइटी चण्डीगढ़ की डायरेक्टर एवं चण्डीगढ़ ट्रांसजेंडर बोर्ड की सदस्य काजल मंगलमुखी अब राजनीति में भी हाथ आजमाएंगीं। भारतीय जन सम्मान पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रविंदर कुमार सिंह ने उन्हें पार्टी के ट्रांसजेंडर विंग का राष्ट्रीय अध्यक्ष नियुक्त किया है। इस नयी जिम्मेवारी को सँभालने के अवसर काजल मंगलमुखी ने किन्नरों की दशा और स्थिति पर बोलते हुए कहा कि वे इस पार्टी के माध्यम से सभी भारत के किन्नरों के अधिकारों की लड़ाई शुरू करेंगी और संसद में भी अपने किन्नरों की भागीदारी सुनिश्चित करेंगी।
उन्होंने रोष जताते हुए कहा कि भारतीय राजव्यवस्था में महिलाओं, बच्चों, किसानों और युवाओं के लिए आयोग बनाए गए हैं किंतु पुलिस हिंसा के शिकार, यौन शोषण के शिकार किन्नरों के लिए आज तक कोई आयोग नही बनाया गया। इन्हें व्यंग्य के पात्र के रूप में देखा जाता है इस कारण ये लोग इतने खिन्न हो गए हैं कि कभी-कभी समाज की व्यवस्था का क्रोध आम जनता पर निकालने को विवश हो जाते हैं। चिकित्सक इलाज नही करते, विश्वविद्यालय शिक्षा नहीं देते और मानव संसाधन विकास मंत्रालय रोजगार नही देता। संसद में यह कभी जा नही पाएंगे क्योंकि समाज को पुनः इनके अस्तित्व को समझने में सदी लग जाएगी। अतः सिर्फ संविधान ही इसका हल है जो लिंग भेद का विरोध कर समानता स्थापित करने की प्रत्येक नागरिक को गारंटी देता है। उन्होंने संविधान के तहत किन्नरों की सुरक्षा के लिए एक स्थाई आयोग की मांग की जिसका का अध्यक्ष भी किन्नर हो। उन्होंने समान शिक्षा, रोजगार और व्यापार स्थापना करने की, आदतन अपराधी कानून को हटाने की, सभी शासकीय संस्थानों में किन्नरों के रोजगार की व पदों में किन्नरों की संख्या के अनुपात में आरक्षण की भी मांग की है।
उन्होंने कहा कि किन्नरों का अस्तित्व कोई नया नहीं है। यह तभी से हैं जब से मानव शरीर जन्मा है। इस मानव शरीर संरचना को प्रक्रति ने तीन रूप में अवतरित किया स्त्री, पुरूष व किन्नर। किन्नरों का इतिहास भी रोचक और प्रभावशाली रहा है। किन्नर योद्धा रहे, शासक भी रहे व राज दरबार के गुप्तचर भी रहे। किन्तु बडी विडंबना है कि आजादी के बाद किन्नरों के अस्तित्व को नकारा जाने लगा। भारतीय भौतिकतावादी सामाजिक व्यवस्था ने इन्हें देह व्यापार और भिक्षा वृत्ति की ओर धकेल दिया। इन्हें कमजोरी का प्रतीक और अपुरूष के रूप में स्वीकार किया जाने लगा और स्त्री वेषभूषा के आवरण में ढंकने को विवश कर दिया। इतना ही नहीं लिंग भेद के शिकार यह समुदाय परिवार और समाज की मुख्यधारा से कट गया। शिक्षा, रोजगार, व्यवसाय से इन्होंने खुद दूरी बना ली क्योंकि समाज में कभी पूजे जाने वाले ये अर्धनारीश्वर आज हिजडे, छक्का या किन्नर के नाम से पुकारे जाते हैं। पुरूषों के लिए यह नाम एक गाली के लिए रूप में प्रयोग किया जाता है। आजादी के 73 वर्ष बाद आज तक की सरकारों के पास इनके लिए कोई ठोस नीति नहीं है। पितृ सत्ता समाज के शिकार इन मानवों ने अपनी सभ्यता और रीति रिवाज बना लिए। परिवार और समाज से बेदखल इस पूरी सभ्यता की जनसंख्या का आंकड़ा भी सरकार के पास नही है। परिवार, समाज, शासन, प्रशासन और सरकारों द्वारा उपेक्षित इस समाज में अब आत्महत्याएं भी अधिक होने लगी है। शासकीय संस्थानों में इनके अनुकूल वातावरण का निर्माण करने में सरकार अभी तक असफल रही है। उन्होंने कहा कि राजनीति में उतर कर वे संवैधानिक रूप से अपने समुदाय के लोगों के हक़ की लड़ाई लड़ेंगीं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और चंडीगढ़ ख़बरें
करंट लगने से राजमिस्त्री की मौत का मामला :तिवारी - दुबे ने पुलिस चौकी एवं थाने का घेराव किया सेक्टर 18 की चर्च में लगाया गया जांच शिविर एनजीओ-द लास्ट बेंचर्स"-हेल्पिंग द हेल्पलेस ने महिलाओं के लिए लगाया मैमोग्राफी और डेकसा जांच शिविर भाजपा के स्तम्भ जेटली के निधन से पार्टी को गहरा धक्का: टंडन चंडीगढ़ को बाल श्रम मुक्त बनाना है: सहगल स्मार्ट ग्राहक बनें, कैरी बैग की कीमत वसूलने वाले स्टोर्स का करें बहिष्कार गांव दड़ुआ में गीले व सूखे कचरे को अलग करने की योजना शुरू कार्यशाला में मृदंगम वादक मननार काएल बालाजी ने दक्षिणी भारतीय ताल की बारीकियां बताई एनएच एम्प्लाइज यूनियन ने प्रशासन के खिलाफ स्वास्थ्य सेवायें बंदकर प्रदर्शन किया स्वास्थ्य और सौंदर्य प्रेमियों के लिए वेगनटिक सुपर फूड्स ने एल्मो-एल्मोंड बेवरेज लॉन्च किया