ENGLISH HINDI Sunday, December 15, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
अफगानिस्तान में 18 साल से तालिबान के साथ लम्बी लड़ाई लड़ रहा अमरीका हार की कगार परपेडा ने बायोमास आधारित ऊर्जा प्लांटों पर बातचीत सैशन करवायाशरीर के लिए जरूरी पौष्टिक तत्वों व कैलोरी की मात्रा कम नहीं होनी चाहिएआरटीआई में नगर परिषद् का अजीबोगरीब जवाब, हाईकोर्ट ने किया जवाब तलबशारदा सर्वहितकारी मॉडल सीनियर सकेंडरी स्कूल का वार्षिक एवं पारितोषिक वितरण समारोह आयोजितद लास्ट बेंचर्स और एंडीज क्लिनिक ने किया फ्री मेडिकल चेकअप कैम्प का आयोजनअरबों लूटने वाली कंपनी को फिर से डीएल/आरसी बनाने का ठेका, डॉ. कमल सोई ने किया खुलासा 112 नंबर दिलाएगा महिलाओं को हर किसी मुसीबत से निजात
पंजाब

राज्यपाल द्वारा भी सिद्धू का इस्तीफ़ा मंजूर

July 20, 2019 06:14 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह और पंजाब के राज्यपाल वी.पी.एस बदनौर दोनों ने नवजोत सिंह सिद्धू का एक पंक्ति का इस्तीफ़ा स्वीकार कर लिया है जिससे वह औपचारिक तौर पर पंजाब मंत्रीमंडल से बाहर हो गए हैं।
मुख्यमंत्री द्वारा इस्तीफ़ा पत्र राज्यपाल को भेजे जाने से कुछ घंटों में ही उन्होंने इसे स्वीकार करके इसकी जानकारी दे दी है।
प्रवक्ता के अनुसार बिजली मंत्रालय फिलहाल मुख्यमंत्री के पास रहेगा। दिल्ली से वापस आने के बाद कैप्टन ने आज सुबह इस्तीफ़ा पत्र देखा और उन्होंने औपचारिक मंजूरी के लिए इसे बदनौर के पास भेज दिया।
इससे पहले मुख्यमंत्री ने दिल्ली में कहा था कि उनकी ग़ैर-हाजऱी में उनके चंडीगढ़ निवास स्थान पर पहुँचे इस्तीफे को वह जाकर देखेंगे और इस संबंधी फ़ैसला लेंगे । इस पत्र में सिद्धू ने एक पंक्ति में अपना इस्तीफ़ा दिया है और इसका कोई भी स्पष्टीकरण या विस्तार नहीं दिया।
सिद्धू ने 10 जून को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अपना इस्तीफ़ा भेजा था और इसके बाद तकरीबन एक महीने बाद उन्होंने इस संबंधी ट्वीट किया था । इसके बाद उन्होंने फिर से अपने ट्वीट में कहा था कि वह औपचारिक तौर पर अपना इस्तीफ़ा मुख्यमंत्री को भेज देंगे जिन्होंने लोकसभा चुनाव के बाद किये फेरबदल के हिस्से के तौर पर उनको बिजली मंत्रालय दिया था। आखिऱकार उन्होंने कैप्टन अमरिन्दर सिंह के सरकारी निवास पर अपना इस्तीफ़ा भेज दिया जबकि कैप्टन अमरिन्दर सिंह उस समय दिल्ली में थे।
गौरतलब है कि सिद्धू ने अपना नया विभाग लेने से इन्कार कर दिया था जिसको धान के चल रहे सीजन के दौरान खुद मुख्यमंत्री देख रहे थे । इस अहम समय में राज्य में बिजली की माँग बहुत ज़्यादा अधिक हो गई थी।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
पेडा ने बायोमास आधारित ऊर्जा प्लांटों पर बातचीत सैशन करवाया अरबों लूटने वाली कंपनी को फिर से डीएल/आरसी बनाने का ठेका, डॉ. कमल सोई ने किया खुलासा 112 नंबर दिलाएगा महिलाओं को हर किसी मुसीबत से निजात सीआईए स्टाफ के हत्थे चढ़े तीन अफीम तस्कर फ़ौज के शौर्य पर पंजाबी में लिखी दो पुस्तकों पर विचार-विमर्श रिश्वत लेता बी.डी.पी.ओ रंगे हाथों काबू नए वर्ष से सरकारी विभागों फाइली कामकाज सिर्फ ई-ऑफिस के द्वारा ही: कैप्टन मार्शल आर्ट पेशकारियों ने लूटा मिलिट्री लिटरेचर मेला बादलों द्वारा रेत माफिया विरुद्ध ही धरना हास्यप्रद: भगवंत मान राष्ट्रीय पशुधन चैंपियनशिप और एक्सपो बटाला में 6 से 8 फरवरी तक