ENGLISH HINDI Thursday, October 17, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
सिंघपुरा चौक पर फिर शुरू हुआ टैक्सी वालों से अवैध वसूली का खेल, 1000 मंथली के इलावा 200 रुपए प्रति चक्कर वसूलीसुखबीर का अहंकार ही उसे और अकाली दल को ख़त्म करेगा- कैप्टन अमरिन्दर सिंहमोदी जी हरियाणा में मंदी के पर्याय बन गए: कुमारी सैलजालॉरेट फार्मेसी संस्थान कथोग में पांच दिवसीय इंस्पायर" कैंप सम्पन्नवीआईपी रोड पर बिना पार्किंग दुकानें बनाने की इजाजत मतलब ट्रैफिक जाम, सावित्री इन्क्लेव के दबंगों की दबंगई, मीडियाकर्मियों पर हमलासाईं बाबा का महासमाधि दिवस: 48 घंटे का साईं नाम जाप सम्पन्नरिकॉर्ड की जांच के बाद मार्केट कमेटी बटाला का सचिव मुअत्तलशर्तों के विपरीत किराए पर ले गोदाम किया सबलेट, धमकियां देने के आरोप में दो पर केस दर्ज
धर्म

जीवन में तीन सूत्र सत्संग, सेवा, सुमिरन अपनाएं: शास्त्री

August 05, 2019 09:20 PM

चण्डीगढ़, फेस2न्यूज:
मनुष्य का शरीर हमें बार-बार नहीं मिलता। यह तो हमारे पुण्य कर्मों का फल है कि भगवान ने कृपा करके हमें मनुष्य शरीर दिया। 84 करोड़ योनियों में केवल मनुष्य ही है जो कर्म कर सकता है। बाकी सब योनियां तो केवल भोग योनि है, वे केवल भोग भोगने के लिए ही है। ये ज्ञान आज श्री खेड़ा शिव मंदिर सेक्टर 28 में आयोजित की जा रही शिव महापुराण कथा में कथाव्यास पंडित ईश्वर चंद्र शास्त्री ने दिया।
उन्होंने आगे कहा कि मनुष्य शरीर पाकर इसका लाभ लें और इस शरीर से सत्कर्म करें, इसी में मनुष्य शरीर की सार्थकता है। जो व्यक्ति अपना कल्याण चाहता है उसको चाहिए कि वह अपने जीवन में तीन सूत्रों को अपनाएं। इससे वह अपना भी कल्याण कर लेता है और दूसरों का भी कल्याण करता है। यह तीन सूत्र हैं- सत्संग, सेवा और सुमिरन।
सत्संग -अच्छे लोगों का संग करना चाहिए व उनसे अच्छे कर्म करने की प्रेरणा लेनी चाहिए।
सेवा- स्वार्थ का परित्याग करके तन मन धन से परहित के लिए कर्म करना चाहिए एवं समाज की व राष्ट्र की सेवा करनी चाहिए।
सुमिरन- जिसे हम नामजप भी कहते हैं सुमिरन अवश्य करना चाहिए ।भगवान श्री कृष्ण ने गीता जी में अर्जुन के माध्यम से हम सबको कहा "मामनुस्मर युद्ध्य च "हे अर्जुन मेरा स्मरण करो और युद्ध करो अर्थात कर्म करो। शिव पुराण में भी व्यास जी ने यही बात कही है कि मन से भगवान का सुमिरन करना चाहिए।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और धर्म ख़बरें
मन्त्रों उच्चारण से 48 घंटे का साईं नाम जाप शुरू नौंवें दिन राम भक्त हनुमान प्रसंग एवं राम राज्य प्रसंग से राम कथा का पूर्णाहुति हवन से हुआ समापन 42 महिलाओं सहित 216 निरंकारी श्रद्धालुओं ने किया रक्तदान स्वास्तिक विहार में दुर्गा पूजा में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़, झांकियों ने मनमोहा माता की चौकी एवम मासिक रामायण पाठ का आयोजन राम कथा : भरत चरित्र सुनकर नम हुई भक्तों की आंखें श्री राम के वनगमन एवं केवट प्रसंग पर भावुक हुए भक्त रामकथा: श्री राम जानकी के विवाहोत्सव का लिया आनंद बालाजी के विशाल जागरण का आयोजन 29 सितंबर को सर्वार्थ सिद्धि योग, नवरात्रि का महत्व बढ़ जाता है: शास्त्री