ENGLISH HINDI Tuesday, February 25, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
होलाष्टक रहेगा 3 मार्च से 9 मार्च तक, जानिए क्यों नहीं करते इसमें शुभ कार्य ?टीचर्स ने एग्जाम में नहीं दी ड्यूटी, अब बोर्ड ने बच्चों को जारी नहीं किए रोलनंबर: कुलभूषण शर्माफाइल पर देरी के लिए संबधित अधिकारी की जिम्मेदारी सुनिश्चित की जाएअखिल भारतीय पुलिस कुश्ती प्रतियोगिता में भाग लेने पहुंचे देशभर से खिलाड़ीपूर्व CIC हबीब उल्लाह ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, शाहीन बाग शांतिपूर्ण सभा का संगमदृष्टि पंजाब ने 23 विद्यार्थी किए 11.50 लाख के अवार्ड से सम्मानितसोलन की पूर्व विधायक मेजर कृष्णा मोहिनी का निधन मूलभूत सुविधाएं न मिलने को लेकर शिवालिक निवासियों ने खोला कॉलोनाइजर के खिलाफ मोर्चा
हिमाचल प्रदेश

भारत को रेलवे सुरक्षा प्रबंधन और ट्रैक प्रबंधन सिखायेगा जाइका

August 12, 2019 07:27 PM

शिमला, (विजयेन्दर शर्मा) जेआइसीए टेक्निकल कोऑपरेशन, टीसी के अंतर्गत रेल सुरक्षा प्रबंधन तथा ट्रैक मेंटेनेंस के लिए गठित जेआइसीए की विशेषज्ञ टीम ने अपने भारतीय सहयोगियों के साथ साइट सर्वे किया। यह सर्वे भारत तथा जापान में सुरक्षा प्रबंधन तथा ट्रैक के प्रबंधन के तरीकों और अभ्यासों की आपसी समझ को और बढ़ाने के लिये किया गया। स्टेशन क्षेत्र में सही मायने में काम के किन तौर—तरीकों को अपनाया जाता है उसे समझने टीम पहुंची थी। साथ ही उन्होंने ट्रेनिंग प्रोग्राम के सिलसिले में एक दूसरे की राय जानने के उद्देश्य से रेलवे के चीफ सेफ्टी ऑफिसर्स के लिये आयोजित सेमिनार में भी हिस्सा लिया।
जेआइसीए एक्सपर्ट टीम के प्रमुख सलाहकार डॉ. माकोतो इशिदा ने इस अवसर पर कहा कि भारतीय पक्ष की ओर से यह अनुरोध किया गया था कि ट्रैक पर सीमित समय में कुशलतापूर्वक ट्रैक प्रबंधन के सही रख.रखाव के उचित तरीकों के बारे में बताया जाये। इस साइट सर्वे के दौरान पाया गया कि भारतीय रेलवे के ट्रैक प्रबंधन को बेहतर बनाने की जरूरत है। ट्रैक के प्रबंधन को लेकर जापान में ग्रुप ट्रेनिंग प्रोग्राम इस साल अक्टूबर महीने में होने वाला है जिसका आयोजन हमारी बातचीत के आधार पर किया जायेगा। हमें उम्मी्द है कि जापान में होने वाला यह ट्रेनिंग प्रोग्राम भारतीय रेलवे अधिकारियों के लिये जापानियों की जानकारी और अनुभव को जानने का एक अच्छा मौका होगा। साथ ही प्रबंधन और सुरक्षा प्रबंधन को बेहतर बनाने के लिये टेक्नीकल स्ट्रक्चर इम्लांटेशन और मानसिक दृष्टिकोण की दिशा में काम करने के लिये अपना एक्शन प्लान तैयार कर पायेंगे।
यह तकनीकी सहयोग परियोजना अगले डेढ़ सालों में कार्यान्वित होगी। दुर्घटनाओं की पड़ताल के बारे में जापन में पहला प्रशिक्षण प्रोग्राम जुलाई 2019 के आरंभ में आयोजित किया गया था।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
सोलन की पूर्व विधायक मेजर कृष्णा मोहिनी का निधन मेले व त्यौहार हमारी समृद्ध सस्कृति के परिचायक: परमार ज्वालामुखी में पुलिस टीम द्वारा चरस के साथ एक को पकड़ा आशा और मीना के जीवन में मुस्कान लाई हिमाचल गृहिणी सुविधा योजना ज्वालामुखी: सडक़ें बदहाल, पेयजल योजनाओं के भी बुरे हाल हिमाचल: सावड़ा-कुडडूजल विद्युत परियोजना अप्रैल में विद्युत उत्पादन प्रारम्भ हर घर को नल से जल, ठण्डोल के लिए आयुर्वेद स्वास्थ्य केंद्र स्वीकृत भाजपा ने ज्वालामुखी के लोगों को विकास व वोट के नाम पर छला: संजय रतन जल शक्ति अभियान के अन्तर्गत विकास खंड ने स्थापित किया कीर्तिमान पालमपुर, ज्वालामुखी, जयसिंहपुर और ज्वाली विधानसभा में बनेंगे गौ-अभ्यारण्य