ENGLISH HINDI Monday, August 26, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
नैक्टर लाईफ़ केमिकल फैक्ट्री में हादसे के मामले में डीसी ने जांच के दिए आदेश , 16 ज़ख़्मियों में से एक की हालत गंभीर ब्राह्मण समाज के बेरोजगार नौजवानों के लिए रोजगार के प्रबंध कराएगा ब्राह्मण यूथ विंगबठिंडा में तीन दिवसीय 12वीं जूनियर स्टेट नैटबॉल चेंपिअनशिप 2019-20 धूमधाम से संपन्न पुलिस प्रशासन की नाक के नीचे किसके सरंक्षण में चल रहे अवैध आटो?डॉक्टरों की लापरवाही से गई मासूम की जान, स्वास्थ्य मंत्री ने दिए जांच के आदेशनिकासी प्रबंधों का आभाव: आधे घंटे की बरसात में ही भबात की सड़कों में भरा पानीकरंट लगने से राजमिस्त्री की मौत का मामला :तिवारी - दुबे ने पुलिस चौकी एवं थाने का घेराव कियासेक्टर 18 की चर्च में लगाया गया जांच शिविर
हिमाचल प्रदेश

भारत को रेलवे सुरक्षा प्रबंधन और ट्रैक प्रबंधन सिखायेगा जाइका

August 12, 2019 07:27 PM

शिमला, (विजयेन्दर शर्मा) जेआइसीए टेक्निकल कोऑपरेशन, टीसी के अंतर्गत रेल सुरक्षा प्रबंधन तथा ट्रैक मेंटेनेंस के लिए गठित जेआइसीए की विशेषज्ञ टीम ने अपने भारतीय सहयोगियों के साथ साइट सर्वे किया। यह सर्वे भारत तथा जापान में सुरक्षा प्रबंधन तथा ट्रैक के प्रबंधन के तरीकों और अभ्यासों की आपसी समझ को और बढ़ाने के लिये किया गया। स्टेशन क्षेत्र में सही मायने में काम के किन तौर—तरीकों को अपनाया जाता है उसे समझने टीम पहुंची थी। साथ ही उन्होंने ट्रेनिंग प्रोग्राम के सिलसिले में एक दूसरे की राय जानने के उद्देश्य से रेलवे के चीफ सेफ्टी ऑफिसर्स के लिये आयोजित सेमिनार में भी हिस्सा लिया।
जेआइसीए एक्सपर्ट टीम के प्रमुख सलाहकार डॉ. माकोतो इशिदा ने इस अवसर पर कहा कि भारतीय पक्ष की ओर से यह अनुरोध किया गया था कि ट्रैक पर सीमित समय में कुशलतापूर्वक ट्रैक प्रबंधन के सही रख.रखाव के उचित तरीकों के बारे में बताया जाये। इस साइट सर्वे के दौरान पाया गया कि भारतीय रेलवे के ट्रैक प्रबंधन को बेहतर बनाने की जरूरत है। ट्रैक के प्रबंधन को लेकर जापान में ग्रुप ट्रेनिंग प्रोग्राम इस साल अक्टूबर महीने में होने वाला है जिसका आयोजन हमारी बातचीत के आधार पर किया जायेगा। हमें उम्मी्द है कि जापान में होने वाला यह ट्रेनिंग प्रोग्राम भारतीय रेलवे अधिकारियों के लिये जापानियों की जानकारी और अनुभव को जानने का एक अच्छा मौका होगा। साथ ही प्रबंधन और सुरक्षा प्रबंधन को बेहतर बनाने के लिये टेक्नीकल स्ट्रक्चर इम्लांटेशन और मानसिक दृष्टिकोण की दिशा में काम करने के लिये अपना एक्शन प्लान तैयार कर पायेंगे।
यह तकनीकी सहयोग परियोजना अगले डेढ़ सालों में कार्यान्वित होगी। दुर्घटनाओं की पड़ताल के बारे में जापन में पहला प्रशिक्षण प्रोग्राम जुलाई 2019 के आरंभ में आयोजित किया गया था।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
चार साल पहले गिरे पुल दोबारा नहीं बने तो ग्रामीणों ने अंदोलन की ठानी हिमाचल के दबंग एसपी को लेकर कांग्रेस के रवैये से लोग हैरान हिमाचल विधानसभा के मानसून सत्र शुरू आर्किमिडीज, न्यूटन और आइंस्टाइन के सिद्धांत को चुनौती उड़ीसा विधान सभा समिति देखेगी 22 को हिमाचल विधानसभा में मानसून सत्र की कार्यवाही बारिश का कहर, 6 जिलों में ये अलर्ट जारी मनाली में अटल की स्मृतियां संजोये गी सरकार प्रदेश में हर्षोल्लास व उत्साह के साथ मनाया गया स्वतंत्रता दिवस छैला-सोलन सड़क बड़े वाहनों के लिए भी खोली गई: भारद्वाज केन्द्र सरकार देश के छः अल्पसंख्यक समुदायों के पिछड़े मेधावियों को देगी छात्रवृत्ति