ENGLISH HINDI Wednesday, October 16, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
वीआईपी रोड पर बिना पार्किंग दुकानें बनाने की इजाजत मतलब ट्रैफिक जाम, सावित्री इन्क्लेव के दबंगों की दबंगई, मीडियाकर्मियों पर हमलासाईं बाबा का महासमाधि दिवस: 48 घंटे का साईं नाम जाप सम्पन्नरिकॉर्ड की जांच के बाद मार्केट कमेटी बटाला का सचिव मुअत्तलशर्तों के विपरीत किराए पर ले गोदाम किया सबलेट, धमकियां देने के आरोप में दो पर केस दर्जराष्ट्रीय गौरव सम्मान अवार्ड से सम्मानित हुए लढा व ढिढारियाशाह सतनाम जी शिक्षण महाविद्यालय में दो दिवसीय प्रतिभा खोज का आयोजनउपग्रह तकनीकी द्वारा पृथ्वी अवलोकन विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला आयोजितकांग्रेस प्रत्याशीयों के समर्थन मेें किया प्रचार
पंजाब

रहस्यमय हिरासती मौतों की सीबीआई जांच हो: सांसद मान

August 14, 2019 08:23 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
आम आदमी पार्टी पंजाब के प्रधान और सांसद भगवंत मान ने राज्य में रहस्यमय तरीके से हो रही हिरासती मौतें/आत्म-हत्याओं की समयबद्ध सीबीआई जांच की मांग की है
पार्टी द्वारा जारी बयान में मान ने कहा कि कैप्टन के कार्यकाल के दौरान जेलों और पुलिस हिरासतों में डेढ़ दर्जन से अधिक मौतें हो चुकी हैं, मरने वालों में बहुत से हिरासती नशा तस्करी जैसे संगीन दोषों का सामना कर रहे हैं। अमृतसर में ए.एस.आई अवतार सिंह की ओर से हिरासत दौरान खुद को गोली मार लेना, इस कड़ी की ताजा मिसाल है, जो अपने एक ओर एएसआई साथी जोरावर सिंह के साथ नशा तस्करी के संगीन दोषों के अंतर्गत 11 अगस्त की रात को गिरफ्तार किया था।
मान ने कहा कि पंजाब पुलिस और सरकार की तरफ से हिरासती मौतें /आत्म हत्याओं के बारे में दिए जाते करीब-करीब एक ही जैसे विवरण हैरान और परेशान करने वाले हैं। मान अनुसार, ''यह साधारण व्यवहार नहीं है, इस पर यकीन करना मुश्किल है। यह नशा तस्करी के बड़े रसूखवान व्यापारियों के अगले भेद खुलने के डर से करवाए गए सोचे समझे कत्ल हो सकते हैं। एक के बाद एक हुई इन हिरासती मौतें/आत्म-हत्याओं की कड़ी हमारे सबके संदेह को ओर गहरा करती है। इस लिए इन हिरासती मौतें की संयुक्त कडिय़ों के मद्देनजर सीबीआई जांच जरूरी है, क्योंकि राज्य की पुलिस की भूमिका खुद संदेहजनक है।''
मान ने कहा कि इस कड़ी में अमृतसर के गुरपिन्दर सिंह की हिरासती मौत का मामला बेहद गंभीर है, जो नमक का व्यापारी था और उस पर पाकिस्तान में नमक के बोरों में अरबों रुपए की हेरोइन तस्करी का दोष था।
मान के अनुसार फरीदकोट के जसपाल सिंह की हिरासती मौत के उपरांत पुलिस इंस्पैक्टर नरिन्दर सिंह की ओर से रहस्यमय ढंग के साथ की आत्म-हत्या के बारे में सवाल आज भी वैसा का वैसा ही हैं। जबकि पिछले ढाई सालों में लुधियाना पुलिस की हिरासत में मौतें/आत्म-हत्याओं के सबसे अधिक मामले सामने आए हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
वीआईपी रोड पर बिना पार्किंग दुकानें बनाने की इजाजत मतलब ट्रैफिक जाम, सावित्री इन्क्लेव के दबंगों की दबंगई, मीडियाकर्मियों पर हमला रिकॉर्ड की जांच के बाद मार्केट कमेटी बटाला का सचिव मुअत्तल शर्तों के विपरीत किराए पर ले गोदाम किया सबलेट, धमकियां देने के आरोप में दो पर केस दर्ज हाथ से बनाऐ उत्पादों की राज्य स्तरीय वर्कशॉप कम प्रदर्शनी लगाई स्कूली बच्चे करेंगे किसानों को पराली न जलाने के लिए जागरूक ठोस कूड़ा कर्कट प्रबंधन हेतु कंपनी के साथ समझौता कर काम सौंपा वोटर सूचियों की विशेष समीक्षा कार्यक्रम तारीखों में वृद्धि स्कूल ने पुलवामा के शहीद परिवार की आर्थिक मदद की दर्दनाक: तीन बेटियों के बाद हुआ डेढ़ साल का बेटा माँ की ओर दौड़ रहा था, मौत पीछा कर रही थी, स्कूल बस ने कुचल दिया बठिंडा में वॉक फॉर कैंसर वॉकाथन का आगाज़