ENGLISH HINDI Tuesday, January 28, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

श्रीलंका के जजों के प्रतिनिधिमंडल द्वारा पंजाब विधान सभा का दौरा

August 18, 2019 09:13 AM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज ब्यूरो:
श्रीलंका की अपील कोर्ट के जस्टिस के प्रियंथा फरनैंडो के नेतृत्व वाले श्रीलंका के जजों के प्रतिनिधिमंडल द्वारा शनिवार शाम को पंजाब विधान सभा का दौरा किया गया। इस प्रतिनिधिमंडल के साथ जि़ला और सैशन जज-कम-डायरैक्टर एडमिनस्ट्रेशन चंडीगढ़ ज्यूडिशियल अकैडमी शालिनी सिंह नागपाल और अतिरिक्त जि़ला और सैशन जज-कम -रजिस्ट्रार चंडीगढ़ ज्यूडिशियल अकैडमी अनूपमिश मोदी मौजूद थे।
प्रतिनिधिमंडल का स्वागत करते हुये पंजाब विधान सभा स्पीकर के सचिव राम लोक ने विधान सभा के इतिहास और मौजूदा ढांचे संबंधी प्रतिनिधिमंडल को संक्षिप्त में जानकारी दी। प्रतिनिधिमंडल ने विधान सभा के काम-काज में काफ़ी रुचि दिखाई। प्रतिनिधिमंडल ने असेंबली के हॉल का दौरा भी किया।
पंजाब विधान सभा के स्पीकर राणा के.पी. सिंह द्वारा उनके सचिव राम लोक ने प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों का यादगारी चिह्नों से सम्मानित किया। श्रीलंका के जजों के इस 14 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल में जि़ला जज एल.एम. रतनायका, अतिरिक्त जि़ला जज जी.एम.टी.यू. सुवांडुरूगोडा, मजिस्ट्रेट आई.एन.एन. कुमारगे, अतिरिक्त जि़ला जज के.वी.एम.पी. डी सिल्वा, जि़ला जज डी.एम.जे. दिस्सानयाका, अतिरिक्त मजिस्ट्रेट जी.एच.के.एन. सिल्वा, मजिस्ट्रेट एस.एस.एन. गमाजे, जि़ला जज बी.जी.एन.टी.के. बोगाडेनीया, अतिरिक्त मजिस्ट्रेट डी.एम.एस. करुणारतना, मजिस्ट्रेट आई.एन. रिजवान, अतिरिक्त जि़ला जज एन.टी. हिनातीगाला, जि़ला जज आर.एम.एस.एन. समारातुंगा, जि़ला जज एम.एस.एम. समशूदीन शामिल थे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
आपत्तिजनक टिप्पणी: मिश्रा पर चुनाव प्रचार के लिए 48 घंटे की रोक जादू मेरी सोच का सेशन पीस ऑडिटोरियम में संपन्न पासपोर्ट धारकों को पासपोर्ट की समाप्ति तिथि से पहले भेजा जाएगा संदेश क्या मुस्लिम महिलाएँ और बच्चे अब विपक्ष का नया हथियार हैं? बीएमटीसी की प्रबंध निदेशक ने चलाई वाल्वो बस, कहीं प्रशंसा तो कहीं आलोचना जांच के दायरे में करीब 20 हजार लोग, दिल्ली पुलिस कर रही है पड़ताल भारत लहराएगा दुनिया में 5जी इंटरनेट का परचम, इसरो ने ताकतवर संचार उपग्रह किया लॉन्च जनगणना कार्य के लिए प्रारंभिक तैयारियां आरम्भः मुख्य सचिव जल होगा तो सब होगा: स्वामी चिदानन्द सरस्वती चिकित्सक को चिकित्सा ज्ञान के साथ व्यवहार कुशल होना भी जरुरी: प्रो. कांत