ENGLISH HINDI Friday, September 20, 2019
Follow us on
 
धर्म

वैर, नफ़रत, अहंकार से मुक्ति ही है सच्ची आज़ादी

August 18, 2019 05:06 PM

चण्डीगढ, फेस2न्यूज ब्यूरो:
सच्ची आज़ादी एवं मुक्ति का अर्थ है वैर, ईष्र्या, नफ़रत, अहंकार तथा अन्य सभी नकारात्मक विचारों एवं भावनाओं का त्याग। जो भक्त ब्रह्मज्ञान प्राप्त कर लेते हैं उनके मनों से ऐसी सभी दुर्भावनायें दूर हो जाती हैं तथा प्रीत-प्यार, नम्रता, विशालता और सहनशीलता जैसे सद्गुण आ जाते हैं। देश की आज़ादी भी आध्यात्मिक जागरूकता से और सार्थक बन जाती है।
यह उद्गार निरंकारी सद्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज ने दिल्ली में हुए मुक्ति पर्व समागम में दिल्ली के इलावा पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और चण्डीगढ़ (ट्राई सिटी) से आए विशाल जन-समूह को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए। मुक्ति पर्व के अवसर पर सद्गुरु माता जी की अध्यक्षता में आयोजित इस मुख्य समागम के साथ-साथ देश भर में मिशन की शाखाओं ने भी इसी प्रकार विशेष सत्संग कार्यक्रम आयोजित किए। इसी लड़ी में सन्त निरंकारी सत्संग भवन सैक्टर 30 ए चण्डीगढ में भी मनाया गया है ।
मुक्ति पर्व पर मिशन के अनुयायी ऐसे महान भक्तों को अपनी श्रद्धा सुमन अर्पित करते हैं और उनके जीवन से प्रेरणा प्राप्त करते हैं जिन्होंने ब्रह्मज्ञान प्राप्त करके इस अमृत को जन-जन तक पहुंचाने के लिए जीवन प्रयन्त प्रयास किए। उन्होंने अपने सुख आराम की परवाह किए बिना तप त्याग की भावना से मिशन के प्रीत-प्यार, नम्रता, सद्भाव और सहनशीलता जैसे गुणों को अपने जीवन में अपनाया और प्रचार किया।
सद्गुरु माता ने कहा कि जीवन में हर चीज़ आसान नहीं होती। कई बार दूसरे लोग हमारे साथ इतना बुरा करते हैं कि हम भी बदले में पत्थर दिल बन जाते हैं और किसी से भी प्यार से पेश आने की जरूरत नहीं समझते। परंतु अगर आप संत निरंकारी मिशन के अनुयायी हैं तो यहां कीसिखलाई तो यह है कि दूसरों की खामियों के पीछे ना जाकर अपना सुधार करने का प्रयास करें।
देश की आज़ादी का ज़िक्र करते हुए सद्गुरु माता जी ने कहा कि इसे भी हम इसे और भी सार्थक बना सकते हैं यदि इसके साथ आध्यात्मिक जागरुकता को शामिल कर लें। ब्रह्मज्ञानी, परिवार, समाज तथा देश के प्रति अपनी ज़िम्मेदारियों को भी बेहतर रूप में निभा सकते हैं क्योंकि उनके मन दोष-मुक्त हो जाते हैं, सभी से प्यार, नम्रता तथा सद्भाव के साथ व्यवहार करते हैं। भक्त फूलों की तरह कांटों में भी रहना जानते हैं जो अपनी सुंदरता तथा मधुरता का त्याग नहीं कर देते। बल्कि जब इकट्ठे होकर एक माला का रूप धारण कर लेते हैं तो उनकी सुंदरता और बढ़ जाती है।
रक्षा बंधन का उल्लेख करते हुये माता जी ने कहा कि हमारा सबसे बड़ा संरक्षक तो निरंकार ही है। अतः हम इसी का आसरा लेकर आगे बढ़ते जाएं। हमें यह भी विश्वास होना चाहिए कि यह पूर्ण है और पूर्ण का किया हर काम पूर्ण होता है चाहे वह हमारे हित में हो या ना हो।
मुक्ति पर्व के संदेश को दोहराते हुए निरंकारी सद्गुरु माता जी ने कहा कि हमें अपने बुजुर्गों के जीवन से प्रेरणा लेनी होगी। उन्होंने इस निराकार प्रभु परमात्मा का ज्ञान प्राप्त करके इसे जन-जनतक पहुंचाने का प्रयास किया। हम भी यदि उन्हीं सिद्धान्तों पर अमल करेंगे तो जीवन की ऊँचाईयों तक पहुंच सकेंगे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और धर्म ख़बरें