ENGLISH HINDI Wednesday, November 20, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
इंस्पेक्टर गुरवंत सिंह ने जीरकपुर में एसएचओ का कार्यभार संभालाज़मीन पर कब्ज़ा करने और चौकीदार की मारपीट करने के आरोप में बिल्डर और कांग्रेसी नेता के ख़िलाफ़ केस दर्ज महिला आईटीआई स्टूडेंट्स को बांटे प्रमाण-पत्रफेरे से पहले दूल्हे की सड़क हादसे में मौत, शादी की तैयारी के सिलसिले में गया था नजदीकी गांवचण्डीगढ़ भाजपा को जल्द मिलेगा नया अध्यक्षपुलिस फोर्स तथा मोबाइल फौरेसिंग युनिट को आधुनिक उपकरणों से लैस किया जाएगा: अनिल विज पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी की 102वी जयन्ती पर श्रद्धासुमन अर्पितदादागिरी पर उतरे ओकेशन मैरिज पैलेस के संचालक,पुलिसकर्मियों व शिकायतकर्ता से मारपीट, 35 पर कटा पर्चा
हिमाचल प्रदेश

आर्किमिडीज, न्यूटन और आइंस्टाइन के सिद्धांत को चुनौती

August 18, 2019 09:25 PM

धर्मशाला, (विजयेन्दर शर्मा) बरसों पहले आर्किमिडीज, न्यूटन और आइंस्टाइन जैसे महान वैज्ञानिकों ने भौतिकी में कुछ ऐतिहासिक नियमों का आविष्कार किया था। इन नियम और सिद्धांतों को हम आज तक पढ़ते आ रहे हैं। लेकिन हिमाचल प्रदेश से सम्बंध रखने वाले भारतीय वैज्ञानिक अजय शर्मा ने इसको चुनौती दी है। अजय शर्मा के मुताबिक न्यूटन का नियम वस्तु के आकार की अनदेखी करता है। यह नियम की महत्वपूर्ण खामी है।
न्यूटन के अनुसार वस्तु चाहे गोल, अर्ध गोलाकार त्रिभुज, लम्बी पाइप, शंकु, स्पाट या अनियमित आकार की हो, क्रिया और प्रतिक्रिया बराबर होनी चाहिए। वस्तु का आकार पूरी तरह बेमानी है, पर प्रयोगों में प्रतिक्रिया वस्तु के आकार पर निर्भर करती है। इसकी अंतिम मान्यता के लिए कुछ प्रयोगों की आवश्यकता है। आज तक न्यूटन के नियम को बिना कुछ महत्वपूर्ण प्रयोगों के ही सही माना जा रहा है। यह अवैज्ञानिक है। अजय शर्मा के अनुसार इन नये प्रयोगों से न्यूटन का नियम बदल जाएगा।
22 अगस्त 2018 की रिपोर्ट में अमेरिकन एसोसिएशन आफॅ फिजिक्स टीजर्ज के प्रेजीडेंट प्रोफैसर गौर्डन पी रामसे ने प्रयोगों को करने की सलाह दी है। 1 अगस्त, 2018 को प्रस्तुति के दौरान एक अमेरिकी प्रोफैसर ने कहा था कि यदि इन प्रयोगों द्वारा न्यूटन की खामी को सिद्ध कर दिया जाए तो भारत नोबेल प्राइज का हकदार होगा।

प्रयोगों के लिए सुविधाओं की दरकार:
पिछले करीब 36 सालों से विज्ञान के आईंस्टाइन, न्यूटन और आर्कि मिडीज के सिद्धांतों पर शोध कर रहे उप जिला शिक्षा अधिकारी अजय शर्मा की शोध को 2018 में इंडियन साइंस कांग्रेस ने फ़िजिकल साइंसिज की प्रोसीडिग्ज में प्रकाशित किया है। यदि 10 से 12 लाख के खर्च, लैब जैसी सुविधाएं और शोध उजागर करने के लिए सरकार की मदद मिली तो वह न्यूटन के सिद्धांत को दी गई अपनी चुनौती को साबित कर दिखाएंगे। अजय शर्मा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्रीय साइंस एंड टैक्नोलॉली मंत्री डा० हर्षवर्धन, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, से आग्रह किया है कि वे प्रयोगों के लिए सुविधाएं उपलब्ध करवायें।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
प्रधानमंत्री को हिमाचली टोपी पहनाना दस लाख रुपये में पड़ा : कुलदीप राठौर प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन मेंबर रचना गुप्ता की गलोबल इन्वैस्टर मीट में मौजूदगी से मचा बवाल आरसीईपी में शामिल ना होना किसानों, नौजवानों और एमएसएमई के हक़ में: ठाकुर कांग्रेस सरकार के समय पुनर्नियुक्तियों पर आलोचना करने वाली भाजपा आज उसी रास्ते पर चली-दीपक शर्मा पालमपुर को शीघ्र दिया जाएगा नगर निगम का दर्जा: सरवीन चौधरी हिमाचल में क्या राजनीतिक नेतृत्व ख़त्म हो चुका जो पीएम और केंद्रीय मंत्रियों से अफ़सर बैठकें कर रहे: महेश्वर चौहान ई कॉमर्स के अनैतिक व्यापार ने तोड़ी व्यापारियों की कमर पर्यावरण को बचाने के लिए निकाली रैली लॉरेट फार्मेसी संस्थान कथोग में पांच दिवसीय इंस्पायर" कैंप सम्पन्न "इंस्पायर" कैंप में छात्र छात्राओं ने रसायन विज्ञान और नैनो साइंस के तथ्यों को जाना