ENGLISH HINDI Friday, September 20, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

गृह मंत्री ने एनआरसी से जुड़े मुद्दों की समीक्षा की

August 21, 2019 02:15 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
केन्‍द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने असम में राष्‍ट्रीय नागरिकता रजिस्‍टर (एनआरसी) के अंतिम प्रकाशन से जुड़े मुद्दों की समीक्षा की। समीक्षा बैठक में असम के मुख्‍यमंत्री, केन्‍द्रीय गृह सचिव, असम के मुख्‍य सचिव और वरिष्‍ठ अधिकारी उपस्थित थे। हाल के दिनों में केन्‍द्रीय गृह मंत्रालय और असम राज्‍य सरकार के बीच मुद्दों पर गहन चर्चा हुई है।
बैठक में तय किया गया कि जिन लोगों के नाम अंतिम एनआरसी में शामिल होने से छूट गए हैं, उन्‍हें अपील करने का पूरा अवसर प्रदान किया जाए। जिस भी व्‍यक्ति का नाम अंतिम एनआरसी में नहीं है, वह अपीलीय प्राधिकरण यानी विदेशी न्‍यायाधिकरण के सामने अपना मामला रख सकते हैं। विदेशी अधिनियम 1946 और विदेशी (न्‍यायाधिकरण)आदेश 1964 के तहत केवल विदेशी न्‍यायाधिकरणों को किसी व्‍यक्ति को विदेशी घोषित करने का अधिकार है। इसलिए एनआरसी में जिन व्‍यक्तियों का नाम शामिल नहीं हुआ है, उसका मतलब यह नहीं है कि उन्‍हें विदेशी घोषित कर दिया गया है।
राज्‍य सरकार ने सुविधाजनक स्‍थानों पर पर्याप्‍त संख्‍या में नयायाधिकरणों के गठन के लिए सहमति व्‍यक्‍त की। यह भी तय किया गया कि राज्‍य सरकार एनआरसी में शामिल होने से छूट जाने वाले जरूरतमंदों को कानूनी सहायता देने का पूरा इंतजाम करेगी।
चूंकि अंतिम एनआरसी में शामिल होने से छूट जाने वाले व्‍यक्तियों के लिए निर्धारित अवधि के अंदर अपील करना संभव नहीं है, इसलिए गृह मंत्रालय अपील दायर करने की वर्तमान समय सीमा को 60 दिन से बढ़ाकर 120 दिन करने के लिए नियमों में संशोधन करेगा। नागरिकता (नागरिकों का पंजीरकणऔर राष्‍ट्रीय पहचान पत्र निर्गमन) नियम, 2003 को भी संशोधित किया जा रहा है।
कानून व्‍यवस्‍था बनाए रखने के लिए राज्‍य सरकार के आकलन के अनुसार केन्‍द्रीय सशस्‍त्र अर्द्ध सैनिक बलों की तैनाती उपलब्‍ध कराई जा रही है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
एम्स में तीन दिवसीय कंप्यूटर एडिड ड्रग्स डिजाइनिंग कार्यशाला संपन्न छात्र, शिक्षक अन्‍य भाषाएं सीखने के साथ ही मातृभाषा को भी पर्याप्‍त महत्‍व दें एसीसी नियुक्ति दिल्ली एयरपोर्ट पर पांच अफगान यात्री पकड़े, 15 करोड़ की हेरोइन के 370 कैप्सूल बरामद जीवन की सार्थकता है 'स्वार्थ से सर्वार्थ की यात्रा, परमार्थ की यात्रा' तीसरा विश्व हिमालय सम्मेलन अगले वर्ष नेपाल में 15वें वित्‍त आयोग का दल सिक्किम का दौरा करेगा इस्पात उद्योग से रणनीति पर पुनर्विचार करने की अपील कंप्यूटर तकनीकी से नई दवाओं की खोज सराहनीय: प्रो. कांत पहाड़ों पर चढ़ने, नियमित सफर करने वाले हो सकते हैं किन बीमारियों के शिकार