ENGLISH HINDI Friday, January 17, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

पूर्व वित्तमंत्री अरुण जेटली का दिल्ली के एम्स में निधन

August 24, 2019 03:12 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज/संजय मिश्रा:
देश के पूर्व वित्त मंत्री और भाजपा नेता अरुण जेटली का निधन हो गया है। दिल्ली के एम्स में दोपहर 12.07 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। अरुण जेटली 9 अगस्त से ही एम्स में भर्ती थे। उन्हें सांस लेने में तकलीफ थी जिस कारण उन्हें एम्स में भर्ती किया गया था।
जेटली के निधन की खबर सुनकर गृह मंत्री अमित शाह ने अपने हैदराबाद दौरे को खत्म कर दिल्ली वापस आ रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेश दौरे पर अभी संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में हैं।
अरुण जेटली के फेफड़ों में पानी जमा होने की वजह से उन्हें सांस लेने में दिक्कत आ रही थी इस कारण डॉक्टरों ने उन्हें वेंटिलेटर पर रखा था। उन्हें सॉफ्ट टिशू सरकोमा था, जो एक प्रकार का कैंसर होता है।
ज्ञात हो कि जेटली पहले से ही डायबिटीज के मरीज थे। उनका किडनी ट्रांसप्लांट भी हो चुका था। सॉफ्ट टिशू कैंसर के इलाज के लिए अमेरिका भी गए थे।
जेटली 67 वर्ष की उम्र में दुनियां छोड़ गए उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से छात्र नेता के रूप में राजनीतिक करियर की शुरुआत की थी। जेटली सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील भी थे। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में वित्त मंत्रालय संभालने वाले जेटली स्वास्थ्य कारणों से मोदी-2 सरकार में शामिल नहीं हुए थे। वह अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में भी केंद्रीय मंत्री रहे थे। उनकी गिनती देश के बेहतरीन वकीलों के तौर पर होती रही। 80 के दशक में ही जेटली ने सुप्रीम कोर्ट और देश के कई हाई कोर्ट में महत्वपूर्ण केस लड़े। 1990 में उन्हें दिल्ली हाई कोर्ट ने सीनियर वकील का दर्जा दिया था।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
बीएमटीसी की प्रबंध निदेशक ने चलाई वाल्वो बस, कहीं प्रशंसा तो कहीं आलोचना जांच के दायरे में करीब 20 हजार लोग, दिल्ली पुलिस कर रही है पड़ताल भारत लहराएगा दुनिया में 5जी इंटरनेट का परचम, इसरो ने ताकतवर संचार उपग्रह किया लॉन्च जनगणना कार्य के लिए प्रारंभिक तैयारियां आरम्भः मुख्य सचिव जल होगा तो सब होगा: स्वामी चिदानन्द सरस्वती चिकित्सक को चिकित्सा ज्ञान के साथ व्यवहार कुशल होना भी जरुरी: प्रो. कांत फरवरी से अयोध्या में दुनिया का सर्वश्रेष्ठ 100008 कुंडीय श्री सीताराम महायज्ञ नागरिकता संशोधन विधेयक किसी के भी विरोध में नहीं: स्वामी चिदानन्द सरस्वती गंगा नदी पर अवैध प्लेटफ़ार्म बनाने के विरोध में नगर आयुक्त को ज्ञापन पूर्व मंत्री ने आश्वासन पर किया आमरण अनशन स्थगित