ENGLISH HINDI Sunday, September 22, 2019
Follow us on
 
हरियाणा

दूसरे दिन भी फार्मासिस्ट वर्ग रहा अवकाश पर, मरीजों को बाहर से लेनी पड़ी दवाएं

August 27, 2019 09:10 PM

सिरसा, सतीश बांसल: एसोसिएशन गवर्नमेंट फार्मासिस्ट ऑफ हरियाणा के सभी जिलों के फार्मासिस्ट वर्ग ने मंगलवार को दूसरे दिन भी सामूहिक अवकाश लेकर सरकार द्वारा की जा रही अनदेखी पर जिला नागरिक अस्पताल सिरसा में एकत्रित होकर सरकार के खिलाफ रोष जताया। इस मौके पर जिला प्रधान रामकिशन कंबोज ने कहा कि फार्मासिस्ट जो स्वास्थ्य संस्था की रीढ़ होता है व अपने कार्य के साथ-साथ हर तरह की जिम्मेदारी का निर्वहन बेहतरीन तरीके से करता है। उन्होंने बताया कि फार्मेसी एक्ट 1948 के अनुसार कोई भी अन्य कर्मचारी दवाओं का वितरण नहीं कर सकता। अगर कोई कर्मचारी दवाओं का वितरण करता है तो वह एक अपराध है। क्योंकि अगर किसी व्यक्ति को कोई गलत दवा चली गई और किसी की जान पर बन आई तो इसके लिए जिम्मेवार कौन होगा? हालांकि इसके लिए बकायदा उन्होंने डीसी व विभाग के ड्रग कंट्रोलर को लिखित रूप में दिया हुआ है, लेकिन अभी तक इस दिशा में कोई कार्रवाई नहीं की गई है। प्रधान ने बताया कि राजपत्रित फार्मासिस्ट का पे ग्रेड 4200 रुपए होना सिस्टम के उदासीन रवैये को दर्शाता है। सरकार ने समान पैरा मेडिकल केटेगरी का वेतनमान 4600 रुपए ग्रेड पे कर दिया है, वहीं फार्मासिस्ट को 4200 रुपए पर ही रख दिया है, जो इस वर्ग के साथ भेदभाव है। जिला प्रधान रामकिशन कंबोज ने कहा कि फार्मासिस्ट के ग्रेड पे 4600 रुपए पर मुख्यमंत्री व स्वास्थ्यमंत्री ने पूर्णत: सहमति जताते हुए स्वीकृति प्रदान कर दी थी। लेकिन वित्त विभाग उदासीन रवैया अपनाकर फार्मासिस्ट वर्ग को आंदोलन पर मजबूर कर रहा है। उनकी मुख्य दो ही मांगें हैं एक तो पे ग्रेड 4600 किया जाए व दूसरी रिक्त पड़े डिप्टी डायरेक्टर व अन्य पदों को भरा जाए। उन्होंने सरकार को स्पष्ट शब्दों में चेताया कि अगर सरकार जल्द हमारी मांग पर संज्ञान नहीं लेती है तो फार्मासिस्ट एसोसिएशन जल्द अनिश्चित कालीन आंदोलन की घोषणा से पीछे नहीं हटेगी।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और हरियाणा ख़बरें