ENGLISH HINDI Friday, January 17, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

एम्स निदेशक सहित 29 चिकित्सा कर्मियों को नवाजा

September 01, 2019 08:17 PM

ऋषिकेश (ओम रतूड़ी)

सूबे की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने शनिवार को उत्तराखंड में विशिष्ट चिकित्सा सेवा देने वाले चिकित्सकों को "अमर उजाला एक्सीलेंस इन हेल्थ केयर अवाड्स" आरोग्यम से सम्मानित किया। राज्य में चिकित्सा एवं चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय सेवाओं के लिए इस सम्मान से अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत सहित 29 चिकित्सा कर्मियों को नवाजा गया।

  गौरतलब है अमर उजाला संस्थान हर साल चिकित्सा के क्षेत्र में विशिष्ट कार्य करने वाली विभूतियों को सम्मान प्रदान करता है। इस वर्ष भी चिकित्सा के विभिन्न वर्गों में 29 चिकित्सा विशेषज्ञों एवं स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं का चयन किया गया। जिनमें ऋषिकेश एम्स के निदेशक पद्मश्री प्रो.रवि कांत, एसजीआरआर मेडिकल कॉलेज के एमएस डा.विनय राय,आयुर्वेदाचार्य डा.बालेंदु प्रकाश, न्यूरो सर्जन डा.महेश कुड़ियाल, डा.पंकज अरोड़ा आदि चिकित्सक शामिल हैं।

समारोह में राज्यपाल ने एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत की ओर से संस्थान के प्रतिनिधि व एम्स के डीन एकेडमिक प्रो.मनोज गुप्ता को प्रदान किया। इस दौरान एम्स डीन प्रो.मनोज गुप्ता ने विश्वास दिलाया कि संस्थान उत्तराखंड ही नहीं अपितु निकटवर्ती सभी राज्यों से आने वाले सभी मरीजों की देखभाल व उपचार को प्रतिबद्ध है। प्रो.गुप्ता ने कहा कि संस्थान पद्मश्री प्रो.रवि कांत की निर्देशन में विश्वस्तरीय स्वास्थ्य सेवाएं एवं आधुनिक चिकित्सा प्रणाली का उपयोग कर चिकित्सा एवं चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में अग्रसर है। इसी क्रम में विगत दो वर्षों में संस्थान में विभिन्न पाठ्यक्रमों का संयोजन के साथ ही लेवल वन ट्रामा सेंटर स्थापित किया गया है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
क्या मुस्लिम महिलाएँ और बच्चे अब विपक्ष का नया हथियार हैं? बीएमटीसी की प्रबंध निदेशक ने चलाई वाल्वो बस, कहीं प्रशंसा तो कहीं आलोचना जांच के दायरे में करीब 20 हजार लोग, दिल्ली पुलिस कर रही है पड़ताल भारत लहराएगा दुनिया में 5जी इंटरनेट का परचम, इसरो ने ताकतवर संचार उपग्रह किया लॉन्च जनगणना कार्य के लिए प्रारंभिक तैयारियां आरम्भः मुख्य सचिव जल होगा तो सब होगा: स्वामी चिदानन्द सरस्वती चिकित्सक को चिकित्सा ज्ञान के साथ व्यवहार कुशल होना भी जरुरी: प्रो. कांत फरवरी से अयोध्या में दुनिया का सर्वश्रेष्ठ 100008 कुंडीय श्री सीताराम महायज्ञ नागरिकता संशोधन विधेयक किसी के भी विरोध में नहीं: स्वामी चिदानन्द सरस्वती गंगा नदी पर अवैध प्लेटफ़ार्म बनाने के विरोध में नगर आयुक्त को ज्ञापन