ENGLISH HINDI Friday, January 17, 2020
Follow us on
 
धर्म

गौड़ीय मठ मंदिर श्रद्धाभाव और हर्षोल्लास से मनाएगा राधा अष्टमी

September 05, 2019 08:11 AM

चंडीगढ़ : श्री चैतन्य गौड़ीय मठ सेक्टर 20 चंडीगढ़ में राधा अष्टमी का त्यौहार बड़ी धूमधाम से 6 सितंबर 2019 को मनाया जाएगा ।उक्त जानकारी देते हुए मठ मंदिर के प्रवक्ता जयप्रकाश गुप्ता ने बताया राधा रानी का जन्म महोत्सव की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है ।

मंदिर में चल रही है तैयारियां जोरों पर, हिमाचल के नाहन से विशेष तरह के फूलों से सजेगा भव्य मंदिर,बादाम के लड्डू, काजू की बर्फी, बेसन की बर्फी, केसर की बर्फी, बालूशाही, कश्मीरी बर्फी,, पान बर्फी, रसमलाई, राजभोग, गुलाब जामुन, खीर मोहन, काजू बादाम पिसता की खीर, शाही पनीर, मलाई कोफ्ता ,पास्ता कड़ी ,मालपुआ, कश्मीरी काजू पुलाव विशेष तौर पर व्यंजनों का राधा रानी राधा माधव जी को लगाया जाएगा भोग 

  चंडीगढ़ गौडीय मठ के प्रबंधक बामन जी महाराज जी के नेतृत्व में यह महोत्सव मनाया जाएगा । 6 सितंबर राधा अष्टमी के दिवस पर प्रातकाल मंगला आरती के पश्चात दोपहर तक संकीर्तन प्रवचन का आनंद भक्तजन प्राप्त करेंगे । ठीक दोपहर 12:00 बजे राधा रानी जी का महा अभिषेक पंचा अमृत से किया जाएगा, तत्पश्चात आरती की जाएगी। राधा रानी जी के जन्मोत्सव के शुभ अवसर पर विशेष तौर पर उनके लिए ड्रेस तैयार की जा रही है। महा अभिषेक के पश्चात 56 तरह के व्यंजनों का भोग लगाया जाएगा । जिसमें बादाम के लड्डू, काजू की बर्फी, बेसन की बर्फी, केसर की बर्फी, बालूशाही, कश्मीरी बर्फी,, पान बर्फी, रसमलाई, राजभोग, गुलाब जामुन, खीर मोहन, काजू बादाम पिसता की खीर, शाही पनीर, मलाई कोफ्ता ,पास्ता कड़ी ,मालपुआ, कश्मीरी काजू पुलाव विशेष तौर पर व्यंजनों का राधा रानी राधा माधव जी को भोग लगाया जाएगा ।

तत्पश्चात हजारों भक्तों के लिए विशेष भंडारे का आयोजन किया जा रहा है। इस अवसर पर मंदिर को विशेष रूप से सजाया जा रहा है। हिमाचल नाहन से विशेष तरह के फूलों का आर्डर दिया गया है, जिससे मंदिर फूलों की खुशबू से महक उठेगा। त्रिदंडी स्वामी बामन महाराज जी ने बताया कि आज ही के दिन राधा रानी जी का जन्म मथुरा स्थित रावल नाम के स्थान पर हुआ था ।राजा Vrash भानु जी सरोवर में स्नान करने के लिए गए तो कमल के फूल में राधारानी उनको प्राप्त हुई ।पूरे वर्ष तक आप राधा रानी जी के चरण कमल के दर्शन नहीं कर सकते, केवल राधा अष्टमी के दिन ही भक्तजन राधा रानी जी के चरणों का दर्शन कर अपने जीवन को मंगलमय आनंदमय बना सकते हैं lउन्होंने बताया कि भगवान कृष्ण की कृपा प्राप्त करने के लिए सर्वप्रथम राधा रानी का आशीर्वाद राधा रानी की कृपा दृष्टि अत्यावश्यक है l

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और धर्म ख़बरें
मुमुक्षु हिमांशु जैन बने अमन मुनि और मुमुक्षु रजत जैन बने तेजस मुनि विश्व शांति कल्याणार्थ पर हिमाचल महासभा चंडीगढ़ ने सजाया भव्य दरबार साहिबज़ादों की शहादत को किया याद: लगाया चाय ब्रेड पकोड़े का लंगर मन की शांति की नितांत आवश्यकता है साईं बाबा का 24वां स्वरूप स्थापना दिवस 6 दिसम्बर को मनाया जायेगा : प्रसिद्ध भजन गायक पंकज राज करेंगे बाबा का गुणगान मनीमाजरा से निकली मेहंदीपुर बालाजी के लिए डाक ध्वजा यात्रा श्री श्याम कार्तिक मेला महोत्सव 6 नवंबर से पद्मासना मन्दिर वैश्विक एकता, अंतर धार्मिक संस्कृति व पर्यटन का प्रतीक श्री गोवर्धन पूजन का त्यौहार बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया स्नेह समाप्त हो गया है सिर्फ स्वार्थ रह गया: आशा दीदी