ENGLISH HINDI Friday, November 22, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

अंतर्राष्ट्रीय व राष्ट्रीय मंच पर हिन्दी का मान सम्मान बढ़ा

September 07, 2019 09:18 AM

चण्डीगढ़, फेस2न्यूज:
पिछले कुछ वर्षों में हिन्दी भाषा का अंतर्राष्ट्रीय व राष्ट्रीय मंच पर मान सम्मान बढ़ा है जो कि बहुत ही सराहनीय है। इस दिशा में देश के प्रधानमंत्री की विशेष भूमिका रही है। इसी कड़ी में यदि हम अपनी दिनचर्या में हिन्दी के शब्दों के प्रयोग के प्रयास को बढ़ायेंगे तो निश्चित ही हिन्दी भाषा का प्रसार बढ़ेगा। यह बात कार्यक्रम के मुख्यअतिथि, दैनिक भास्कर समाचार पत्र के संपादक दीपक धीमान ने चण्डीगढ़ स्थित केन्द्र सरकार के कार्यालयों के राजभाषा अधिकारियों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए कही। यह सम्मेलन चंडीगढ़ नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति (नराकास) एवं सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के अंतर्गत रीज़नल आउटरीच ब्यूरो चंडीगढ़ द्वारा आयोजित किया गया।
उन्होंने बताया कि भारत में अपना कारोबार बढ़ाने के उदेश्य से चीन एवं रूस ने भी अपनी यूनिवर्सिटियों में हिन्दी के पाठ्यक्रम शुरू किए हैं। उन्होंने कहा कि बदलते परिवेश में टेक्नोलॉजी की हिन्दी के उत्थान में बहुत ही बड़ी भूमिका है। हिन्दी और तकनीक के मिलन से हिन्दी समाचार पत्रों को भी बड़ा दर्जा मिला है। उन्होने खुशी जताई कि वर्तमान में अंग्रेजी की अपेक्षा हिन्दी समाचार पत्रों की प्रसार संख्या बढ़ गई है। उन्होंने राजभाषा अधिकारियों से कार्यालयों में सरल और सहज हिन्दी भाषा के प्रयोग को बढ़ाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि हम हर आखिरी व्यक्ति तक तभी पहुंचेंगे जब आम हिन्दी भाषा प्रयोग की जाएगी।
इससे पूर्व सम्मेलन के उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता करते हुए सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय चण्डीगढ़ की महानिदेशक श्रीमती देवप्रीत सिंह ने कहा कि कोई भी देश अपनी राजभाषा के माध्यम से ही विकास के पथ पर आगे बढ़ता है। राजभाषा अधिकारियों के लिए यह सम्मेलन इसलिए भी जरूरी है क्योंकि इसी मंच पर हम हिन्दी में किए गए काम का मंथन करते हैं और भविष्य में हिन्दी के प्रयोग के लिए एक सशक्त रणनीति बनाते हैं। उन्होंने कहा कि सूचना प्रसारण मंत्रालय तो जमीनी स्तर पर जन संपर्क जैसे महत्वपूर्ण काम से जुड़ा है और जन संपर्क के लिए हिन्दी भाषा ही एक ऐसी आवश्यक कड़ी है जो हमें लोगों से जोड़ती है।
इस अवसर पर कार्यक्रम की विशेष अतिथि प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त एवं अध्यक्ष, नराकास- सुश्री सोनाली अरोड़ा ने राजभाषा अधिकारियों से हिन्दी के प्रसार में अपनी सशक्त भूमिका निभाने का आह्वान किया। उन्होंने कार्यालयों के कामकाज में हिन्दी के प्रयोग को प्रोत्साहन देने के लिए राजभाषा अधिकारियों की सराहना की तथा सभी प्रतिभागियों को प्रमाण-पत्र प्रदान किए। सम्मेलन में रीज़नल आउटरीच ब्यूरो के निदेशक श्री आशीष गोयल, उप-निदेशक श्री अनुज चाण्डक एवं सहायक निदेशक सुश्री सपना ने भी प्रतिभागियों के समक्ष अपने विचार रखे।
इस अवसर पर चंडीगढ़ नराकास की सचिव, सुश्री नीना मल्होत्रा ने सेमिनार कि रूपरेखा से प्रतिभागियों को विस्तार से अवगत करवाया तथा विभिन्न सत्रों का संचालन किया।
सम्मेलन के अन्य वक्ताओं में राजभाषा अधिकारी श्री आर.एस. बेवली ने ‘राजभाषा अधिकारी एक-काम’ अनेक विषय पर, हिन्दी शिक्षण संस्थान के सहायक निदेशक श्री अरविन्द कुमार ने ‘हिन्दी संबंधित ई-टूल्स व ऐप’ पर तथा पीजीआई की डॉ. रजनी शर्मा ने ‘सकारात्मक सोच’ पर संबोधित किया। केंद्र सरकार के चंडीगढ़ स्थित लगभग 50 विभागों के राजभाषा अधिकारी इस सम्मेलन में शामिल हुए।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
सड़क दुर्घटना में पौड़ी गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत समेत तीन घायल सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के साथ साधु संतों ने की बैठक अमेज़न फ्लिपकार्ट के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन के लिए 10 नवम्बर को दिल्ली में व्यापारियों की राष्ट्रीय बैठक आरसीईपी को अपनाने के केंद्र के निर्णय का सीआईआई ने किया समर्थन इस्‍पात मंत्री ने निवेशकों को भारत के विकास क्रम में भागीदार बनने का न्‍यौता दिया नराकास पंचकूला द्वारा स्वरचित काव्य पाठ प्रतियोगिता आयोजित ईपीएफओ पेंशन न्यूनतम 7500 रूपये करने की मांग तेज झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 के कार्यक्रम की घोषणा वॉट्सऐप में जल्द शुरू होगा पेमेंट की खास सर्विस: सीईओ ज़करबर्ग राष्ट्रपति करेंगे 2 से 4 नवम्बर तक सिक्किम और मेघालय का दौरा