ENGLISH HINDI Thursday, October 17, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
सिंघपुरा चौक पर फिर शुरू हुआ टैक्सी वालों से अवैध वसूली का खेल, 1000 मंथली के इलावा 200 रुपए प्रति चक्कर वसूलीसुखबीर का अहंकार ही उसे और अकाली दल को ख़त्म करेगा- कैप्टन अमरिन्दर सिंहमोदी जी हरियाणा में मंदी के पर्याय बन गए: कुमारी सैलजालॉरेट फार्मेसी संस्थान कथोग में पांच दिवसीय इंस्पायर" कैंप सम्पन्नवीआईपी रोड पर बिना पार्किंग दुकानें बनाने की इजाजत मतलब ट्रैफिक जाम, सावित्री इन्क्लेव के दबंगों की दबंगई, मीडियाकर्मियों पर हमलासाईं बाबा का महासमाधि दिवस: 48 घंटे का साईं नाम जाप सम्पन्नरिकॉर्ड की जांच के बाद मार्केट कमेटी बटाला का सचिव मुअत्तलशर्तों के विपरीत किराए पर ले गोदाम किया सबलेट, धमकियां देने के आरोप में दो पर केस दर्ज
पंजाब

खराब पड़ी हैं शहर की तीसरी आंखें

September 20, 2019 06:26 PM

जीरकपुर, जे एस कलेर:
जीरकपुर सहित पंचकूला और चंडीगढ़ में अपराधी अपराध कर जीरकपुर हाईवे के रास्ते आसानी से निकल जाते हैं तो वहीं कई हिट एंड रन केस भी अनट्रेस है क्योंकि हाईवे के मुख्य प्वाइंटों पर लगाए गए 12 सीसीटीवी कैमरे खराब पड़े हैं। बीते महीने मोहाली डीसी के दौरे के बाद लोगों को कुछ उम्मीद जगी कि हाईवे किनारे खराब पड़े सीसीटीवी कैमरों को डीसी के निर्देेश के बाद जल्द सही करवाया जाएगा।
खराब सीसीटीवी कैमरों और बंद पड़े ट्रैफिक लाइट प्वाइंट्स को लेकर डीसी ने नगर काउंसिल सहित प्रशासनिक अधिकारियों को जमकर फटकार भी लगाई। फिलहाल इन कैमरों का पुलिस कंट्रोल रूम से संपर्क पूरी तरह से टूट गया है। वहीं बंद पड़ी ट्रैफिक लाइट्स प्वाइंट जाम के कारण बन रहे हैं।
जिस शहर की आबादी करीब तीन लाख है और शहर का मार्ग चंडीगढ़, पंचकूला, दिल्ली व शिमला के लिए मुख्य मार्ग है, ऐसे में नगर काउंसिल के अधिकारियों द्वारा यह कहा जाना कि शहर में लगे सीसीटीवी कैमरों को लगाने की जिम्मेदारी उनकी नहीं, क्योंकि नगर काउंसिल के एक्ट में प्रावधान नहीं है तो यह हास्यास्पद है। अब सवाल यह है कि जब एक्ट में प्रावधान ही नहीं है तो 2015 में 15 लाख रुपये की लागत से जीरकपुर और हाईवे के मुख्य प्वाइंटों पर 12 सीसीटीवी कैमरे कैसे लगा दिए गए।
ट्रैफिक पुलिस ने नगर काउंसिल को 18 बार लिखा पत्र:
ट्रैफिक पुलिस द्वारा नगर काउंसिल जीरकपुर को सीसीटीवी कैमरे लगाने के लिए अब तक 18 बार पत्र लिखा जा चुका है, लेकिन काउंसिल ने सीसीटीवी कैमरे लगवाना तो दूर ट्रैफिक पुलिस द्वारा लिखे गए पत्रों का जवाब तक नहीं दिया। ट्रैफिक पुलिस की ओर से जब दो सीसीटीवी कैमरे खराब हुए थे, तब से पत्र लिखा जा रहा है। अब एक-एक करके 12 जगहों पर लगे सभी सीसीटीवी कैमरे खराब हो चुके हैं।
साहब जो टैक्स भरते हैं, उनकी सोच लीजिए:
दूसरे राज्यों की छोड़िए कम से कम जीरकपुर शहरी क्षेत्र में लाखों लोग नगर काउंसिल को टैक्स भरते हैं, विभाग के अधिकारी उन्हीं के बारे में सोच लें, पहले लाखों रुपये खर्च कर जीरकपुर में लोगों ने फ्लैट और जमीन खरीदी और सुरक्षा यहां जीरो है। इस ओर जिला प्रशासन का भी ध्यान नहीं है।
बस अड्डे में बनाए गए कंट्रोल रूम:
नगर काउंसिल ने 15 लाख की लागत से शहर के 12 प्वाइंट पर कैमरे लगाए थे। उनका सीधा लिंक बस अड्डे में बने ट्रैफिक इंचार्ज रूम से करवाया गया था। जीरकपुर बस अड्डे में एक रूम में कंट्रोल रूम व स्क्रीन लगाई गई थी, जहां से ट्रैफिक पुलिस कैमरों से सारी गतिविधियों पर नजर रखती थी। यही नहीं शहर में कोई वारदात होते ही संबंधित थाना पुलिस भी इस कंट्रोल का फायदा उठाती थी, लेकिन अब करीब दो साल से ये सारे कैमरे बंद पड़े हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
सिंघपुरा चौक पर फिर शुरू हुआ टैक्सी वालों से अवैध वसूली का खेल, 1000 मंथली के इलावा 200 रुपए प्रति चक्कर वसूली सुखबीर का अहंकार ही उसे और अकाली दल को ख़त्म करेगा- कैप्टन अमरिन्दर सिंह वीआईपी रोड पर बिना पार्किंग दुकानें बनाने की इजाजत मतलब ट्रैफिक जाम, सावित्री इन्क्लेव के दबंगों की दबंगई, मीडियाकर्मियों पर हमला रिकॉर्ड की जांच के बाद मार्केट कमेटी बटाला का सचिव मुअत्तल शर्तों के विपरीत किराए पर ले गोदाम किया सबलेट, धमकियां देने के आरोप में दो पर केस दर्ज हाथ से बनाऐ उत्पादों की राज्य स्तरीय वर्कशॉप कम प्रदर्शनी लगाई स्कूली बच्चे करेंगे किसानों को पराली न जलाने के लिए जागरूक ठोस कूड़ा कर्कट प्रबंधन हेतु कंपनी के साथ समझौता कर काम सौंपा वोटर सूचियों की विशेष समीक्षा कार्यक्रम तारीखों में वृद्धि स्कूल ने पुलवामा के शहीद परिवार की आर्थिक मदद की