ENGLISH HINDI Thursday, October 17, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
सिंघपुरा चौक पर फिर शुरू हुआ टैक्सी वालों से अवैध वसूली का खेल, 1000 मंथली के इलावा 200 रुपए प्रति चक्कर वसूलीसुखबीर का अहंकार ही उसे और अकाली दल को ख़त्म करेगा- कैप्टन अमरिन्दर सिंहमोदी जी हरियाणा में मंदी के पर्याय बन गए: कुमारी सैलजालॉरेट फार्मेसी संस्थान कथोग में पांच दिवसीय इंस्पायर" कैंप सम्पन्नवीआईपी रोड पर बिना पार्किंग दुकानें बनाने की इजाजत मतलब ट्रैफिक जाम, सावित्री इन्क्लेव के दबंगों की दबंगई, मीडियाकर्मियों पर हमलासाईं बाबा का महासमाधि दिवस: 48 घंटे का साईं नाम जाप सम्पन्नरिकॉर्ड की जांच के बाद मार्केट कमेटी बटाला का सचिव मुअत्तलशर्तों के विपरीत किराए पर ले गोदाम किया सबलेट, धमकियां देने के आरोप में दो पर केस दर्ज
राष्ट्रीय

एम्स में तीन दिवसीय कंप्यूटर एडिड ड्रग्स डिजाइनिंग कार्यशाला संपन्न

September 20, 2019 09:05 PM

ऋषिकेश, रातुड़ी: अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में फार्माकोलॉजी विभाग की ओर से आयोजित तीन दिवसीय कंप्यूटर एडिड ड्रग्स डिजाइनिंग कार्यशाला विधिवत संपन्न हो गई। जिसमें विशेषज्ञों ने देशभर से जुटे शोधार्थियों एवं वैज्ञानिकों को कंप्यूटर सॉफ्टवेयरर्स के द्वारा नई दवाओं की खोज करने की विभिन्न तकनीकियों के इस्तेमाल का प्रशिक्षण दिया। इस अवसर पर अपने संदेश में एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने कहा कि नियमिततौर पर ऐसी कार्यशालाओं के आयोजन से शोधार्थियों में नई दवाओं की खोज के प्रति जिज्ञासा बढ़ेगी। उन्होंने फार्माकोलॉजी विभाग की ओर से की गई इस रचनात्मक पहल की सराहना की। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने उम्मीद जताई कि विभाग की गतदिनों आयोजित हुई फार्माकोविजिलेंस वर्कशॉप व बृहस्पतिवार को संपन्न हुई कंप्यूटर एडेड ड्रग डिजाइन वर्कशॉप से पेसेंट केयर व रिसर्च को बढ़ावा मिलेगा, उन्होंने बताया कि विभाग द्वारा 21 व 22 सितंबर को गुड क्लिनिकल प्रैक्टिस वर्कशॉप का आयोजन किया जाएगा, जिससे चिकित्सक क्लिनिकल रिसर्च के क्षेत्र में दक्षता हासिल कर सकेंगे। एडवांस कंप्यूटर एडेड ड्रग डिजाइन एवं कंप्यूटेशनल बायोलॉजी पर आधारित वर्कशॉप में स्रोडिंगर कंपनी बैंगलौर से आए वैज्ञानिक डा. विनोद देवराजी व डा. प्रज्ज्वल नन्देकर ने युवा वैज्ञानिकों को नई ड्रग की खोज में कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के उपयोग का प्रशिक्षण दिया। फार्माकोलॉजी विभागाध्यक्ष प्रो. शैलेंद्र हांडू ने बताया कि भारत ड्रग डिस्कवरी के क्षेत्र अन्य देशों की तुलना में बहुत पीछे है। लिहाजा इस तरह की एडवांस लेवल की वर्कशॉप एवं ट्रेनिंग प्रोग्राम जरुरी हैं,जिससे शोधार्थियों को ड्रग डिस्कवरी के क्षेत्र में प्रशिक्षित करना नितांत आवश्यक है। इससे आने वाले समय में हमारा देश भी नई दवाओं की खोज (ड्रग डिस्कवरी) की दिशा में आगे आ सके। उन्होंने बताया कि ऐसा होने से उन बीमारियों का उपचार भी संभव हो सकेगा जिनके लिए अभी तक कोई दवा उपलब्ध नहीं है। आयोजन सचिव रोहिताश यादव ने बताया कि फार्माकोलॉजी विभाग द्वारा आयोजित तीन दिवसीय वर्कशााप में कुल 40 रिसर्च शोधार्थियों को कंप्यूटर एडेड ड्रग डिजाइन का प्रशिक्षण दिया गया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें