ENGLISH HINDI Saturday, October 19, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

भाषाओं का मेलजोल समाज के लिए जरूरी

September 21, 2019 11:01 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
हिंदी माह उत्सव श्रृंखला की छठी कड़ी में हिंदी विभाग के कही अनकही विचार मंच की ओर से आज 'भाषाओं से दोस्ती' विषय पर परिचर्चा आयोजित की गई। इस परिचर्चा में हिंदी भाषा के अतिरिक्त अन्य भाषा विभागों से विशेषज्ञ वक्तव्य के लिए आमंत्रित किए गए। जिनमें पंजाबी विभाग से प्रो. योगराज, अंग्रेजी विभाग से डॉ. मीनू गुप्ता और उर्दू विभाग से डॉ. अली अब्बास शामिल हुए। अपने वक्तव्य में उन्होंने कहा कि हर भाषा की अपनी सुंदरता एवं ताकत होती है। इसलिए हमें अधिक से अधिक भाषाओं से दोस्ती करनी चाहिए। इससे हमारा दायरा, हमारा व्यक्तित्व एवं हमारा आपसी मेलजोल भी बढ़ सकेगा और हम दूसरी भाषाओं में मौजूद साहित्य और संस्कृति से भी परिचित हो सकेंगे। सभी वक्ताओं ने इस बात पर विशेष जोर दिया कि हमें हर भाषा का सम्मान करना चाहिए क्योंकि भाषाएं जोड़ने का काम करती हैं तोड़ने का नहीं। इस परिचर्चा में शोधार्थियों और विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया।
जिनमें सुअम्बदा और शकुंतला शामिल हैं। परिचर्चा में अन्य विभागों के शिक्षकों में प्रो. पंकज मालवीय, प्रो. रणवीर सिंह और डॉ. राजेश जायसवाल शरीक हुए। इस अवसर पर विभागाध्यक्ष डॉ. गुरमीत सिंह और प्रो. सत्यपाल सहगल भी उपस्थित रहे। इस कार्यक्रम का संचालन शोधार्थी बोबीजा ने किया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये