ENGLISH HINDI Saturday, October 19, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

भारत के लोग पाक वासियों के हित के बारे में सोचते हैं

September 21, 2019 11:04 PM

ऋषिकेश (ओम रतूड़ी)

भारत के लोग पाक वासियों के हित के बारे में भी सोचते हैं। यह कहना है राष्ट्रीय सयंम स्वयं सेवक संघ के राष्ट्रीय महामंत्री कृष्ण गोपाल का। ऋषिकेश से सटे टिहरी जिले की मुनि की रेती शीशम झाड़ी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गुरु आश्रम दयानन्द आश्रम में स्वामी दयानन्द की चतुर्थ पुण्यतिथि एवं आश्रम की 50वीं वर्षगाठ के अवसर पर मुख्य अतिथि के तौर पर उन्होंने यह प्रसंग देश के आध्यात्मिक पक्ष के बारे में बताते हुए बयान किया। उन्होंने कहा कि दुनियां के बड़े व विकसित देशों के पास सब कुछ है, लेकिन आध्यात्मिक पक्ष नहीं है।

भारत के लोग सर्वे भवन्तु सुखिनः के समर्थक हैं, उनकी प्रत्येक दिन की प्रार्थना यही होती है। वे तमाम विरोध के बावजूद पाकिस्तान के लोगों का अहित नहीं हित चाहते हैं। यही कारण है कि विदेश में सुनामी या आपदा आने पर भारतीय वहां मदद के लिये पहुंच जाते हैं। हर व्यक्ति के मन मे चाहे वह अपराधी ही क्यों न हो, आध्यात्मिक पहलू रहता है। यही कारण है कि विदेश से स्वास्थ्य के लिए गरीब देशों को मदद मिलती है।

इस मौके पर उत्तराखंड के कृषि मंत्री सुबोध उनियाल ने घोषणा की कि आश्रम के पास का घाट स्वामी दयानंद के नाम से जाना जाएगा।

यह घोषणा करते हुए उन्होंने कहा कि स्वामी दयानंद के नाम का यह घाट आम जनता के लिये भी उपलब्ध होगा। सुबोध उनियाल ने फोर्थ एनिवर्सरी एम्बुलेंस टेहरी व देहरादून जिले को देने के लिये धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि दयानन्द आश्रम व कुछ ही आश्रम हैं जिन्हें आश्रम कहा जा सकता है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये