ENGLISH HINDI Saturday, February 22, 2020
Follow us on
 
पंजाब

सुखबीर बादल का यह कहना कि सरकार 550वें प्रकाश पर्व समागमों से दूर रहे, अकाल तख़्त साहिब के हुक्मों का उल्लंघन: चन्नी

October 05, 2019 10:30 PM
 
चंडीगढ़:  
पंजाब के पर्यटन एवं सांस्कृति मामलों के मंत्री स. चरनजीत सिंह चन्नी ने सुखबीर बादल द्वारा दिए बयान कि सरकार को श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व समागमों और करतारपुर गलियारे के समागमों से दूर रहना चाहिए, को बड़ा ही हास्यप्रद और सुखबीर बादल की संकुचित मानसिकता बताते हुए कहा कि सुखबीर बादल खुद को श्री अकाल तख़्त साहिब के जत्थेदार से भी ऊपर समझते हैं। 

करतारपुर साहिब का गलियारा खुलने के प्रयास और समागम सरकारों के स्तर पर ही किये जा रहे हैं
अकाल तख़्त साहिब के जत्थेदार को सुखबीर के ऐसे बयान का गंभीर नोटिस लेना चाहिए

चन्नी ने कहा कि श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के समागमों को साझे तौर पर मनाने के लिए श्री अकाल तख़्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह जी के हुक्मों के अंतर्गत ही सरकार और शिरोमणि कमेटी के नुमायंदों की साझी कमेटी बनाई गई है। उन्होंने कहा कि समूचा सिख जगत और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह खुद चाहते हैं कि यह समागम साझे तौर पर मनाए जाएँ।
स. चन्नी ने आगे कहा कि सुखबीर सिंह बादल खुद ही नहीं चाहते कि यह समागम साझे तौर पर मनाए जाएँ और उनकी तरफ से सरकार को इन समागमों से दूर रहने के लिए दिया बयान सिद्ध करता है कि वह श्री अकाल तख़्त साहिब के जत्थेदार के हुक्मों तक को भी मामूली मानते हैं और अपने आप को सुखबीर सिंह बादल अकाल तख़्त साहिब के जत्थेदार से ऊपर समझता है।
चन्नी ने श्री अकाल तख़्त साहिब के जत्थेदार साहिब से अपील की है कि सुखबीर सिंह बादल के ऐसे बयानों को श्री अकाल तख़्त साहिब के हुक्मों की तौहीन मानते हुए सुखबीर बादल के खि़लाफ़ कार्यवाही की जाये। श्री करतारपुर साहिब कॉरिडोर सम्बन्धी सुखबीर बादल की तरफ से दिए बयानों की आलोचना करते हुए स. चन्नी ने कहा कि यह मसला सरकारों के स्तर पर हल किया जा रहा है जिसमें पंजाब सरकार की तरफ से मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह के नेतृत्व में यह रास्ता खुलने के लिए मुख्य भूमिका निभाई जा रही है। उन्होंने कहा कि यह समागम सरकारी स्तर पर ही मनाया जाना बनता है।
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
जेलों में सी.सी.टी.वी. कैमरे, करंट वाली तार लगाने व अलग ख़ुफिय़ा विंग सहित कई फ़ैसलों की मंजूरी सरकारी संस्थानों के साईन बोर्ड, सडक़ों के मील पत्थर पंजाबी में लिखे जाना अनिवार्य: बाजवा हाईकोर्ट के आदेशों पर 100 मीटर क्षेत्र में 13 गोदामों पर चला पीला पंजा उपभोक्ता फोर्म के स्टाफ को क्यों ज्वाइन नहीं करवा रही सरकार?: चीमा ‘आप’ विधायका रूबी ने उठाया असुरक्षित स्कूलों का मामला चोरों ने बंद घर में लाखों की नगदी व गहनों पर किया हाथ साफ सरकारी मेडीकल कॉलेज मोहाली का नाम बदलकर डॉ. बी.आर. अम्बेदकर स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल साइंसज़ रखने को मंज़ूरी डेराबस्सी— बरवाड़ा रोड पर एक फैक्ट्री में आग लगी नम्बरदारों का मानभत्ता 2000 रुपए करने का फैसला चार सरकारी स्कूलों का नाम स्वतंत्रता सेनानियों और शहीदों के नाम पर रखने की मंजूरी