ENGLISH HINDI Monday, February 24, 2020
Follow us on
 
पंजाब

अवैध पटाके ले जा रहा ट्रक पकड़ा, लाखों के माल सहित आरोपी गिरफ्तार

October 06, 2019 05:57 PM

जीरकपुर, जे एस कलेर:
बटाला की पटाखा फैक्ट्री में हुए धमाके में 24 लोगों की जान जाने और जिला व पुलिस प्रशासन की हुई किरकिरी से अधिकारियों ने सबक लेते हुए पटाखों को लेकर जारी निर्देशों के तहत कार्रवाई करने करते हुए जीरकपुर पुलिस ने सोमवार को एक बड़ी कार्रवाई करते हुए महाराष्ट्र से आ रहे एक ट्रक को पकड़ा है। पुलिस ने ट्रक से लाखों रुपए के अवैध पटाखे बरामद किए। मामले में पुलिस ने ट्रक जब्त कर तीन आरोपियों को हिरासत में लिया है। युवकों से जब पटाखों से जुड़े दस्तावेज मांगे गए तो वे कोई कागजात दिखा नहीं पाए।
पुलिस अनुसार मुखबिर से सूचना मिली थी कि एक संदिग्ध ट्रक शहर में दाखिल हुआ है। वह पूरी तरह से लोड है और तेजी से जा रहा है। इस पर पुलिस ने घेराबंदी कर ट्रक को रोकने के लिए खड़े थे लेकिन ट्रक चालक ने ट्रक छोड़ कर भागने की कोशिश की, वह सफल नहीं हो सका। पकड़ में आए आरोपी ट्रक ड्राइवर की पहचान बतौर ईश्वर सिंह पुत्र गंगा दास निवासी कैथल हुई है। पुलिस के अनुसार ट्रक का नंबर एक आर 39 डी 8779 है। इस ट्रक में पटाखों के कार्टून भरे हुए थे। पुलिस ने आरोपी ट्रक ड्राइवर से पटाकों संबधी कागज मांगे तो वह दिखाने में असफल रहा। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धारा 285-286 आईपीसी के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
मूलभूत सुविधाएं न मिलने को लेकर शिवालिक निवासियों ने खोला कॉलोनाइजर के खिलाफ मोर्चा अवैध पुल व माईनिंग के खिलाफ विभाग ने दी पुलिस को शिकायत, पुलिस की जांच शुरु सर्वहितकारी विद्या मंदिर में वार्षिक कार्यक्रम सम्पन्न जेलों में सी.सी.टी.वी. कैमरे, करंट वाली तार लगाने व अलग ख़ुफिय़ा विंग सहित कई फ़ैसलों की मंजूरी सरकारी संस्थानों के साईन बोर्ड, सडक़ों के मील पत्थर पंजाबी में लिखे जाना अनिवार्य: बाजवा हाईकोर्ट के आदेशों पर 100 मीटर क्षेत्र में 13 गोदामों पर चला पीला पंजा उपभोक्ता फोर्म के स्टाफ को क्यों ज्वाइन नहीं करवा रही सरकार?: चीमा ‘आप’ विधायका रूबी ने उठाया असुरक्षित स्कूलों का मामला चोरों ने बंद घर में लाखों की नगदी व गहनों पर किया हाथ साफ सरकारी मेडीकल कॉलेज मोहाली का नाम बदलकर डॉ. बी.आर. अम्बेदकर स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल साइंसज़ रखने को मंज़ूरी