ENGLISH HINDI Wednesday, October 16, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
वीआईपी रोड पर बिना पार्किंग दुकानें बनाने की इजाजत मतलब ट्रैफिक जाम, सावित्री इन्क्लेव के दबंगों की दबंगई, मीडियाकर्मियों पर हमलासाईं बाबा का महासमाधि दिवस: 48 घंटे का साईं नाम जाप सम्पन्नरिकॉर्ड की जांच के बाद मार्केट कमेटी बटाला का सचिव मुअत्तलशर्तों के विपरीत किराए पर ले गोदाम किया सबलेट, धमकियां देने के आरोप में दो पर केस दर्जराष्ट्रीय गौरव सम्मान अवार्ड से सम्मानित हुए लढा व ढिढारियाशाह सतनाम जी शिक्षण महाविद्यालय में दो दिवसीय प्रतिभा खोज का आयोजनउपग्रह तकनीकी द्वारा पृथ्वी अवलोकन विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला आयोजितकांग्रेस प्रत्याशीयों के समर्थन मेें किया प्रचार
धर्म

नौंवें दिन राम भक्त हनुमान प्रसंग एवं राम राज्य प्रसंग से राम कथा का पूर्णाहुति हवन से हुआ समापन

October 07, 2019 10:32 PM

चंडीगढ़: प्रोग्रेसिव सोसायटी सेक्टर 50- बी चंडीगढ़ में श्री राम कथा   दिनांक 29-09-2019 से 7-10-2019  तक आयोजन हुआ  इस अवसर पर  ब्रह्मर्षि  विश्वात्मा बावरा जी महाराज की परम शिष्या कथा व्यास पूज्नीय स्वामी डॉक्टर अमृता दीदी जी के मुख से निरंतर  नौ  दिनों  श्री राम कथा रूपी अमृत की वर्षा होती रही।

 नौ दिवसीय राम कथा के अंतिम दिन सुबह हवन यज्ञ  से हुआ  राम कथा के प्रवचन में स्वामी अमृता दीदी जी ने अपने मुखारविंद से  श्री राम  के अनन्य भक्त  हनुमान जी का प्रसंग, प्रभु श्री राम  की लंका पर विजय की कथा, विभीषण शरणागति ,  प्रभु श्री राम की अयोध्या वापसी एवं  राज्याभिषेक के  प्रसंग  बड़े सुंदर शब्दों में  सुनाएं ।

हनुमान जी का अशोक वाटिका में माता सीता से मिलने एवं प्रभु श्री राम का संदेशा उनको सुनाने का भावुक क्षण, हनुमान जी  का क्रोध में आकर  लंका दहन, प्रभु श्री राम के प्रति हनुमान जी की अनन्य भक्ति को दर्शाते कई  चित्र सजीव हो उठे। प्रभु श्री राम ने रावण को मार कर लंका पर विजय प्राप्त की। 

यह असत्य पर सत्य की विजय का संदेश देता है । विभीषण को लंका का राज्य सौंपकर प्रभु श्री राम की अयोध्या वापसी,  इन सब  प्रसंगों पर  भक्तों ने प्रभु श्री राम को याद किया तथा मधुर भजनों का एवं मंगल गान का झूम -झूम कर आनंद लिया । प्रवचन से पहले श्री राम कथा के अंतिम दिन हवन हुआ फिर प्रवचन के बाद आरती एवं भंडारे का आयोजन किया गया। कथा के  समापन पर आयोजन में सहयोग देने वाले लोगों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। कथा के अंत में भक्तों में प्रसाद वितरित किया गया एवं भंडारे की व्यवस्था की गई।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और धर्म ख़बरें