ENGLISH HINDI Monday, February 24, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
टीचर्स ने एग्जाम में नहीं दी ड्यूटी, अब बोर्ड ने बच्चों को जारी नहीं किए रोलनंबर: कुलभूषण शर्माफाइल पर देरी के लिए संबधित अधिकारी की जिम्मेदारी सुनिश्चित की जाएअखिल भारतीय पुलिस कुश्ती प्रतियोगिता में भाग लेने पहुंचे देशभर से खिलाड़ीदृष्टि पंजाब ने 23 विद्यार्थी किए 11.50 लाख के अवार्ड से सम्मानितसोलन की पूर्व विधायक मेजर कृष्णा मोहिनी का निधन मूलभूत सुविधाएं न मिलने को लेकर शिवालिक निवासियों ने खोला कॉलोनाइजर के खिलाफ मोर्चाविशाल परमार बने मिस्टर चंडीगढ़: रीटा देवी ने जीता मिस चंडीगढ़ का खिताब एक भारत—श्रेष्ठ भारत पर चित्र प्रदर्शनी मनसा देवी मंदिर परिसर में आयोजित
राष्ट्रीय

ट्रॉमा से जुड़े मरीजों को मिल सकेगी बेहतर सुविधा

October 08, 2019 12:15 PM

ऋषिकेश, रातुड़ी:  देश में ट्राॅमा को विकसित करने के लिए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश ने दुनिया के मॉडल ट्रामा सेंटर आर.एडम काउली सॉक ट्राॅमा सेंटर से करार किया है। इससे उत्तराखंड ही नहीं समीपवर्ती प्रदेशों के ट्रॉमा से जुड़े मरीजों को भी इसकी बेहतर सुविधा मिल सकेगी। एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि आर. एडमकाउली सॉक ट्रॉमा सेंटर को दुनिया का पहला और सबसे बेहतर ट्रामा सेंटर माना जाता है। उन्होंने बताया कि बोल्टीमोर, अमेरिका स्थित इस सेंटर को अमेरिका में ट्रॉमा सेंटर स्थापित करने का श्रेय दिया जाता है। प्रो. कांत ने बताया कि देश में बेहतर ट्रॉमा सुविधाएं विकसित करने के उद्देश्य से संस्थान का दुनिया के मॉडल ट्रामा सेंटर के साथ एमओयू हुआ है। जिसके तहत एजुकेशन एक्सचेंज, टेक्नालॉजी, फैसेलिटी डेवलपमेंट, फैकल्टी स्टाफ एक्सचेंज, स्टूडेंट्स एक्सचेंज के क्षेत्र में परस्पर सहयोग व रिसर्च आदि विषयों पर चर्चा हुई है। निदेशक ने बताया कि संस्थान की एक टीम पहले ही आर.एडम काउली सॉक ट्राॅमा सेंटर की विजिट कर चुकी है,जिसमें संस्थान के ट्राॅमा सर्जरी विभागाध्यक्ष प्रो. कमर आजम,डा. मधुर उनियाल व नर्सिंग फैकल्टी डा. राजेश कुमार शामिल थे। उन्होंने बताया कि अमेरिका में रहने वाले प्रवासी भारतीय चिकित्सकों डा. मिलन व डा. मंजरी जोशी के सहयोग से दोनों संस्थानों का विस्तृत एमओयू तैयार किया गया। प्रो. कांत ने बताया कि इस करार के बाद अब टेलीमेडिसिन प्रणाली के द्वारा अमेरिका स्थित सेंटर में संचालित कक्षाओं के जरिए संस्थान के ट्रॉमा व सर्जरी के विद्यार्थियों द्वारा नियमिततौर पर संवाद स्थापित किया जाएगा। निदेशक कांत ने बताया कि एम्स ऋषिकेश नर्सिंग को ट्रॉमा का एक बड़ा स्तंभ मानता है, इसी क्रम में संस्थान नर्सिंग की ओर ध्यान केंद्रित करेगा। उन्होंने बताया कि दोनों संस्थानों के मध्य हुए इस करार में इन्फेक्शन कंट्रोल व एंटीबायोटिक के सही उपयोग के लिए रिसर्च करने की प्रतिबद्धता भी शामिल है,लिहाजा रिसर्च पर कार्य शुरू हो गया है। उन्होंने बताया कि ट्राॅमा सर्जरी के क्षेत्र में नए आयाम स्थापित करने हेतू वहां से एक्सपर्ट सर्जन भी नियमिततौर पर नियमिततौर पर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, ऋषिकेश में मेडिकल विद्यार्थियों की ट्रेनिंग एवं सर्जरी, एडवांस सर्जरी आदि एडवांस सर्जिकल प्रोग्राम डेवलपमेंट के लिए संस्थान की विजिट करेंगे। एम्स के ट्रामा सर्जरी विभागाध्यक्ष प्रो. कमर आजम व डा. मधुर उनियाल ने बताया कि संस्थान की ओर से निदेशक प्रो. रवि कांत व सेंटर की ओर से सॉक ट्रॉमा के निदेशक डा. थॉमर स्केलिया ने करार पर हस्ताक्षर किए।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
पूर्व CIC हबीब उल्लाह ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, शाहीन बाग शांतिपूर्ण सभा का संगम एक भारत—श्रेष्ठ भारत पर चित्र प्रदर्शनी मनसा देवी मंदिर परिसर में आयोजित दिल्ली के स्कूलों में रोबोट पढ़ायेंगे बच्चों को स्वच्छता का पाठ अंतर्राष्ट्रीय राजनीति का कुत्सित रूप कोरोना वायरस हिन्दू महासभा और हिन्दू संगठनों के लिए फ़िल्म द हंड्रेड बक्स की होगी स्पेशल स्क्रीनिंग फ़िल्म 'द हंड्रेड बक्स' की होगी स्पेशल स्क्रीनिंग आनुवांशिक सुधार व निवेश लागत घटाकर दुग्ध उत्पादन में वृद्धि के प्रयास भारत में फिल्मांकन को बढ़ावे के लिए प्रतिनिधिमंडल बर्लिलेन में हिस्‍सा लेगा रक्षा अध्ययन एवं विश्लेषण संस्थान का नाम बदलकर मनोहर पर्रिकर रक्षा अध्ययन एवं विश्लेषण संस्थान किया यूटी जम्मू एंड कश्मीर स्मार्ट स्कूल स्थापित करने के लिए सबसे बेहतर स्थान