ENGLISH HINDI Wednesday, November 20, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
पुलिस फोर्स तथा मोबाइल फौरेसिंग युनिट को आधुनिक उपकरणों से लैस किया जाएगा: अनिल विज पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी की 102वी जयन्ती पर श्रद्धासुमन अर्पितदादागिरी पर उतरे ओकेशन मैरिज पैलेस के संचालक,पुलिसकर्मियों व शिकायतकर्ता से मारपीट, 35 पर कटा पर्चाअवैध माइनिंग: गुंडा टैक्स को लेकर प्रशासन हरकत में, माइनिंग में लगी मशीनरी की जब्तप्रधानमंत्री को हिमाचली टोपी पहनाना दस लाख रुपये में पड़ा : कुलदीप राठौरप्रिंस बंदुला के प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र की शुरुआत, संजय टंडन ने किया उद्घाटनपंडित यशोदा नंदन ज्योतिष अनुसंधान केंद्र एवं चेरिटेबल ट्रस्ट (कोटकपूरा ) ने वार्षिक माता का लंगर लगायाछतबीड़ जू में व्हाइट टाइगर 'दिया' ने दिया 4 शावकों को जन्म
राष्ट्रीय

हिमालयी राज्य सामरिक दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण : त्रिवेन्द्र सिंह रावत

October 11, 2019 07:46 PM

ऋषिकेश, (ॐ रतूड़ी) मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा, हिमालयी राज्यों की भौगोलिक संरचना लगभग समान है और वे सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण हैं।   

परमार्थ निकेतन में हिमालयी राज्यों ’’सामाजिक और आर्थिक रूपांतरण’’ विषय पर दो दिवसीय कार्यशाला 


गुरुवार को परमार्थ निकेतन में हिमालयी राज्यों ’’सामाजिक और आर्थिक रूपांतरण’’ विषय पर दो दिवसीय कार्यशाला का उद्घाटन करते हुए उन्होने कहा कि हिमालयी राज्यों के समूह आपस में मिलकर चिंतन करते हैं तो इसके विलक्षण परिणाम प्राप्त हो सकते हैं। जब सामूहिक सोच विकसित होती है तो विकास का सकारात्मक परिदृश्य प्राप्त होता है। सभी हिमालयी राज्यों को केन्द्र सरकार से एक अच्छा बजट प्राप्त हो रहा है। जैविक खेती के लिये भी बजट प्राप्त हो रहा है और यह निश्चित रूप से सुखद परिणाम लेकर आयेगा।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने पांच हिमालयी राज्यों से आये प्रतिभागियों, उच्चाधिकारियों और अधिकारियों का उत्तराखण्ड की धरती पर अभिनन्दन करते हुये कहा कि हम सभी हिमालय वासी यह न समझे कि हम है तो हिमालय है बल्कि वास्तविकता तो यह है कि हिमालय है तो हम हैं; हिमालय है तो गंगा है; हिमालय है तो हम सब है। हिमालय हमें केवल जीवन ही नहीं देता; श्वास ही नहीं देता बल्कि हिमालय जैसा जीवन जीने का हौसला भी देता है। हिमालय, भारत की ढ़ाल बनकर सदियों से रक्षा कर रहा है। उन्होने कहा कि पानी, पेड़ और प्राणवायु का सबसे अच्छा स्रोत है हिमालय। हम अपने गाद-गदेरे, तालाब, नदियों को बचाने का प्रयास करें और यह तभी होगा जब यह सब की योजना होगी। हमारे अन्दर यह भाव को कि मेरा कचरा मेरी जिम्मेदारी, मेरे घर के पास जिस नल से पानी बह रहा है उस पर ध्यान देना मेरी जिम्मेदारी है। उन्होने कहा कि ऐसी सोच विकसित करनी होगी कि ’मेरा गांव मेरा गौरव’ ’मेरा शहर मेरी शान बने’। इसके लिये हमें पहले अपने दिल और दिमागों को स्वच्छ करना होगा तभी हमारी सड़कें, गली औस् मुहल्ले स्वच्छ हो सकते है। सफाई और सच्चाई के रास्ते पर चलते हुये हम ऊँचाईयों को छू सकते हैं।
प्रथम दिवसीय सत्र के समापन के पश्चात सभी सहभागियों ने परमार्थ गंगा तट पर होने वाली गंगा आरती में सहभाग किया। स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने सभी विशिष्ट अतिथियों को रूद्राक्ष का पौधा देकर अभिनन्दन किया। मुख्यमंत्री और स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने हिमालयी राज्यों ’’सामाजिक और आर्थिक रूपांतरण’’ विषय पर आयोजित कार्यशाला में आये प्रतिभागियों को ’’स्वच्छ गांव-स्वच्छ शहर’’ का संकल्प कराया।
इससे पूर्व त्रिवेन्द्र सिंह रावत, स्वामी चिदानन्द सरस्वती, पंचायती राज मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव संजय सिंह, निदेशक पंचायती राज उत्तराखण्ड एच सी सेमवाल और अन्य विशिष्ट अतिथियों ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम की शुरुआत की ।
दो दिवसीय कार्यशाला में प्रथम दिन तीन सत्र आयोजित किये गये। प्रथम तकनीकी सत्र में ग्राम पंचायत विकास योजना निर्माण के लिये जन योजना अभियान विषय पर चर्चा की जिसमें अतिरिक्त सचिव पंचायत राज मंत्रालय, भारत सरकार, संजय सिंह, से. नि. विशेष सचिव बाला प्रसाद, एसोसिऐट प्रोफेसर एनआईआरडीपीआर डाॅ ए. के. भंजा ने भाग लिया। दूसरे तकनीकी सत्र में हिमालयी राज्यों में जन योजना अभियान के माध्यम से विस्तृत जीपीडीपी प्राप्त करना विषय पर चिंतन किया गया। इसमें से. नि. विशेष सचिव पंचायत राज मंत्रालय, भारत सरकार, बाला प्रसाद, संयुक्त सचिव आलोक प्रेम नागर, एसआईआरडी हिमाचल प्रदेश डाॅ राजीव बंसल तथा जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश एवं उत्तराखण्ड के सरपंचों, ग्राम प्रधानों ने सहभाग कर अपने अनुभवों का साझा किया। प्रथम दिवस के तीसरे तकनीकी सत्र में जीपीडीपी के साथ विभिन्न योजनाओं और कार्यक्रमों का समायोजन (कंवर्जेंस) विषय पर चर्चा हुई। इस सत्र में जीबी पंत इंस्टीट्यूट आॅफ हिमालयन एनवायरमेंट एंड सस्टेनेबल डेवलपमेंट के वैैज्ञानिक डाॅ आर. सी. सुन्दरियाल, सीआईटीएच मुक्तेश्वर के डाॅ राज नारायण, डीआईएचएआर डीआरडीओ डाॅ आनन्द कुमार कटियार, पीसीआरआई भेल के पूर्व एजीएम डाॅ नरेश श्रीवास्तव, ग्रामीण विकास मंत्रालय, भारत सरकार में संयुक्त सचिव सुश्री लीना जौहरी, आयुष मंत्रालय में नेशनल मेडिसनल प्लांट्स बोर्ड के सीईओ डाॅ तनुजा मनोज, इंडीयन इंस्टीट्यूट आॅफ साॅयल एंड वाॅटर कन्जरवेशन के निदेशक डाॅ चरण सिंह, वाडिया इंस्टीट्यूट के निदेशक डाॅ कलाचन्द्र सैनी, हिमालयन फारेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट के निदेशक डाॅ एस. एस. सामंत, कृषि एंव कृषक कल्याण मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव राजेश वर्मा और अन्य उच्चाधिकारियों ने सहभाग किया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
सड़क दुर्घटना में पौड़ी गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत समेत तीन घायल सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के साथ साधु संतों ने की बैठक अमेज़न फ्लिपकार्ट के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन के लिए 10 नवम्बर को दिल्ली में व्यापारियों की राष्ट्रीय बैठक आरसीईपी को अपनाने के केंद्र के निर्णय का सीआईआई ने किया समर्थन इस्‍पात मंत्री ने निवेशकों को भारत के विकास क्रम में भागीदार बनने का न्‍यौता दिया नराकास पंचकूला द्वारा स्वरचित काव्य पाठ प्रतियोगिता आयोजित ईपीएफओ पेंशन न्यूनतम 7500 रूपये करने की मांग तेज झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 के कार्यक्रम की घोषणा वॉट्सऐप में जल्द शुरू होगा पेमेंट की खास सर्विस: सीईओ ज़करबर्ग राष्ट्रपति करेंगे 2 से 4 नवम्बर तक सिक्किम और मेघालय का दौरा