ENGLISH HINDI Saturday, July 04, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत

October 14, 2019 02:04 PM

ऋषिकेश, (ॐ रतूड़ी) अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले। यह कहना है अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान के निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत का। रविवार को तीन दिवसीय उत्तराखंड स्टेट ऑप्थेलमिक सोसाइटी कांफ्रेंस उत्तरा आईकॉन के समापन अवसर पर एम्स निदेशक ने राज्यस्तरीय सम्मेलन के सफल आयोजन के लिए संस्थान के नेत्र रोग विभाग व सोसाइटी के पदाधिकारियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि ऐसे आयोजन समय-समय पर होते रहने चाहिंए, जिससे अलग-अलग मेडिकल संस्थानों के चिकित्सकों को एक-दूसरे के ज्ञान व अनुभव का पता चल सके और इसका लाभ विभिन्न क्षेत्रों के मरीजों को मिल सके।
सम्मेलन में विशेषज्ञ चिकित्सकों के व्याख्यान हुए और शोधपत्र प्रस्तुत किए गए। सोसाइटी की ओर से आंखों से जुड़ी बीमारियों पर आधारित शोधपत्र प्रस्तुत करने वाले प्रतिभागी चिकित्सकों को विभिन्न पुरस्कारों से नवाजा गया।
प्रो. कांत ने कहा कि अनुभव व नवीनतम तकनीकि के ज्ञान का लाभ चिकित्सकों के माध्यम से मरीजों को मिलना चाहिए,जिससे उनकी पीड़ा का शमन हो और वह रोग मुक्त हो सकें। निदेशक ने बताया कि संस्थान इसी उद्देश्य से मरीजों को वर्ल्ड क्लास स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने की दिशा में सतत प्रयासरत है। सम्मेलन में नेत्र परीक्षण एवं उपचार संबंधी विषयों पर डा. अतुल कुमार, डा. प्रदीप शर्मा, डा. पीके पाण्डे, डा. एसएस पांडव, डा. महिपाल सचदेवा इत्यादि ने व्याख्यान दिया। सम्मेलन के अंतिम दिन देशभर से आए प्रतिभागी चिकित्सकों ने शोधपत्र प्रस्तुत किए। सर्वश्रेष्ठ शोधपत्र प्रस्तुत करने वाले चिकित्सकों को सोसाइटी की ओर से अवार्ड प्रदान कर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर डा. जीएस धामी को डा. विनोद अरोड़ा ओरेशन अवार्ड से नवाजा गया, जबकि एम्स ऋषिकेश नेत्र विभाग की डा.गीतांजली सूद को बेस्ट शोधपत्र प्रस्तुतिकरण के लिए सम्मानित किया गया। इसके अलावा डा. मोहित डोगरा को बेस्ट सर्जिकल वीडियो अवार्ड, डा. गौरव गुप्ता को यंग एचीवमेंट अवार्ड प्रदान किया गया। सम्मेलन में कुल 80 चिकित्सक सम्मानित किए गए।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
कोविड-19: ठीक होने की दर बढ़कर 60 प्रतिशत पहुंची उच्च स्तरीय उद्योग परामर्श में शीर्ष हस्तियां ले रही है भाग वेबिनार में बताए महिला सुरक्षा और महिला सशक्तिकरण के गुर केरल व हिमाचल दो राज्यों में बहुत सी साझी बातें: डॉ. चौहान किसानों को घर पर मिलेगी मिट्टी के नमूनों के मुफ्त परीक्षण की सुविधा "खोले पंख उत्कर्ष के" आज से कोविड-19 के खिलाफ तैनात स्वास्थ्यकर्मियों के लिए सुरक्षात्मक चश्मा क्वांटम संचार प्लेटफार्म सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए की सिमुलेशन टूलकिट विकसित कोविड-19 के परीक्षण के लिए एनबीआरआई में वायरोलॉजी प्रयोगशाला की शुरुआत कोविड-19 से बचने हेतु टीके की योजना और तैयारियों की समीक्षा बैठक